Tuesday, October 19, 2021
Homeसोशल ट्रेंडकहाँ गायब हुए अकाउंट्स? सोनू सूद की दरियादिली का उठाया फायदा या फिर था...

कहाँ गायब हुए अकाउंट्स? सोनू सूद की दरियादिली का उठाया फायदा या फिर था प्रोपेगेंडा का हिस्सा

विवाद उन अकॉउंट्स के गायब होने को लेकर है, जिनसे पहले सोनू सूद से मदद की गुहार लगाई और अभिनेता ने मदद पहुँचाकर रिप्लाई भी दिया। मगर, ये अकाउंट्स अब अचानक सोशल मीडिया से गायब हो गए है।

लॉकडाउन में गरीब मजदूरों को उनके गृह राज्य पहुँचाने का जो काम बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने किया उसकी जितनी सराहना की जाए वो सब कम है। उन्होंने हर मुमकिन प्रयास करते हुए जरूरतमंदों की गुहार सुनी और लॉकडाउन के कठिन समय में उनको हर सुविधा मुहैया करवाई।

सोशल मीडिया पर अपनी इसी दरियादिली के कारण पिछले दिनों वह पूरी तरह छाए रहे और आज भी उन्हें लेकर चर्चा हर जगह हैं। आज सोनू सूद अपने सेवाभाव के कारण लाखों लोगों के लिए प्रेरणा बन चुके हैं और कइयों के आदर्श भी। लोगों का कहना है कि वह उनके एहसान कभी नहीं भूलेंगे।

हालाँकि, उनकी दरियादिली के तमामों किस्सों के बीच सोशल मीडिया पर एक नई चर्चा ने तूल पकड़ लिया है और अचानक उन पर कुछ सवाल उठने लगे हैं। सवाल उन ट्विटर अकॉउंट्स को लेकर किए गए हैं जिनसे पहले सोनू सूद से मदद की गुहार लगाई और अभिनेता ने मदद पहुँचाकर उनको रिप्लाई भी दिया। मगर, ये अकाउंट कथित तौर अचानक सोशल मीडिया से गायब हो गए है। हालाँकि जब ऑपइंडिया ने इन्हें क्रॉस चेक किया तो इनमें से कुछ ट्वीट सोनू सूद के हैंडल पर मौजूद हैं और कुछ वाकई गायब हैं।

इन्हीं गायब अकाउंट्स का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए कुछ लोगों ने ट्विटर पर सोनू सूद की दरियादिली को प्रोपेगेंडा करार दे दिया है। NationFirst#SAFFRON नामक ट्विटर हैंडल से सोनू सूद के कई ट्वीट के स्क्रीनशॉट शेयर हुए। साथ ही ट्वीट में लिखा, “Propaganda चल रहा था सोशल मीडिया पर। सभी मदद माँगने वाले ट्वीट गायब हो गए है और यहाँ तक कि उनके ट्विटर अकाउंट भी गायब हैं।”

इस ट्वीट के साथ यूजर ने जो स्क्रीनशॉट लगाए हैं, उसमें देखा जा सकता है कि सोनू सूद ने कहा, “इंजीनियर तो तू जरूर बनेगा मेरे दोस्त। तैयारी कर।” जो ट्वीट शेयर किया जा रहा है उसमें गायब वह ट्वीट गायब है जबकि जब ऑपइंडिया ने देखा तो यश जैन का ट्वीट नजर आ रहा था।

ऑपइंडिया द्वारा सर्च किया गया ट्वीट और सोनू सूद पर आरोप लगाकर शेयर किया जा रहा ट्वीट

अगले ट्वीट में सोनू सूद ने लिखा है, “पिता जी का श्राद्ध कल पूरी विधि पूर्वक होगी भाई।” ये ट्वीट खबर लिखने वक्त तक भी गायब था।

शेयर ट्वीट का स्क्रीनशॉट
ऑपइंडिया द्वारा क्रॉस चेक किया गया ट्वीट

एक ट्वीट में उन्होंने लिखा, “मेरी सुबह की शुरुआत आपकी नई टाँग से होगी। चल भाई नई टाँग लगवाते हैं आपकी”

शेयर किया जा रहा ट्वीट
ऑपइंडिया द्वारा चेक किया गया ट्वीट

अन्य ट्वीट में लिखा है, “मुबारक हो घर तो आपका कमाल का बन गया है। चलो अब कह सकते हैं कि जलपैगुड़ी में भी हमारा घर है। “

शेयर किया जा रहा ट्वीट
खबर लिखते समय ऑपइंडिया क्रॉस चेक किया गया ट्वीट

इसके बाद कुछ और भी ट्वीट हैं। जैसे एक ट्वीट जिसमें अभिनेता को मजाकिया अंदाज में कहा था, “क्या भाई मैं युम्हेँ टेलीविजन, एक एसी और पॉपकॉर्न भी भेज दूँ।” इसके बाद एक ट्वीट जिसमें उन्होंने एक लड़के को कहा, “मुझे मेरे इंजीनयरिंग के दिन याद दिला दिए। देश का नाम ऊँचा कर अब।”

फिर, वह ट्वीट जिसे रीट्वीट करते हुए उन्होंने मंदिर से पहले किसी गरीब का घर बनाने की बात, और मदद करने की बात कही है, भी गायब है।

गौरतलब है कि इस ट्वीट के थ्रेड में कई यूजर्स हैं जिन्होंने यह देखने के बाद सोनू सूद की मंशा पर सवाल खड़े किए हैं। किसी का कहना है कि उन्होंने मई में सोनू सूद को चैरिटी देने के लिए मैसेज किया था पर अभी तक कोई रिप्लाई नहीं आया।

किसी का कहना है कि आखिर यदि मान लिया जाए कि लोगों ने मदद माँगने के लिए ही अकाउंट बनाए तो भी यह अजीब है कि सारे अकाउंट एक साथ कैसे बंद हो गए। क्या गाँव के सीधे सादे लोग ट्विटर पर सिर्फ मदद माँगने आए और मदद मिलने पर उसे बंद कर दिया? लोगों का कहना है कि यह सब सिर्फ़ फिल्मों में होता है कि एक ट्वीट पर मदद मिल जाए।

एक यूजर लिखता है कि वह इस बात पर बहुत पहले से लोगों का ध्यान आकर्षित करवा रहा था, लेकिन छोटा अकाउंट होने के कारण उस पर किसी ने ध्यान नहीं दिया। इस ट्विटर अकाउंट ने भी सोनू सूद की मंशाा पर सवाल उठाए हैं और कहा कि उनसे अच्छा काम मनीष मुंद्रा ने किया।

ऑपइंडिया ने इस मामले में अभिनेता सोनू सूद से संपर्क करने का कई बार प्रयास किया। लेकिन हमारी बात नहीं हो पाई।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe