Wednesday, June 16, 2021
Home सोशल ट्रेंड दलाल, संघी कुत्ता और भी बहुत कुछः राम मंदिर के लिए दान दिया तो...

दलाल, संघी कुत्ता और भी बहुत कुछः राम मंदिर के लिए दान दिया तो उदय प्रकाश के ‘अपने’ हुए बेगाने

"बहुत से प्रगतिशीलों का पतन बुढ़ापे में होते देख रहे हैं। इससे जाहिर होता है अवस्था के अनुसार व्यक्ति के सरोकार बदल जाते हैं।"

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए निधि समर्पण अभियान चल रहा है। इसके लिए घर-घर जाकर लोगों से दान माँगा जा रहा है। आम से लेकर खास तक इसमें योगदान कर रहे हैं। लेकिन, वामपंथियों और इस्लामवादियों को यह नहीं सुहा रहा। कवि उदय प्रकाश को भी इस जमात ने राम मंदिर के लिए दान देने पर जमकर खरी-खोटी सुनाई है। वैसे उदय प्रकाश कभी इस जमात की ऑंखों के तारे होते थे।

उदय प्रकाश ने दान की जानकारी अपने फेसबुक पोस्ट के जरिए गुरुवार (फरवरी 4, 2021) को दी। उन्होंने लिखा  “आज की दान-दक्षिणा। अपने विचार अपनी जगह पर सलामत।”

बता दें कि उदय प्रकाश पत्रकार होने के साथ-साथ शिक्षाविद, कवि और आलोचक भी हैं। उन्होंने साल 2015 में कन्नड़ साहित्यकार एमएम कलबुर्गी की हत्या के बाद साहित्य अकादमी अवॉर्ड लौटा दिया था। उस समय वह वामपंथी गिरोह के प्रिय चेहरों में से एक थे। लेकिन जब उन्होंने राम मंदिर के लिए दान देने का प्रमाण दिया, तो यही लोग उन पर बिफर गए।

जगदीप सिंह ने कहा, “बहुत से प्रगतिशीलों का पतन बुढ़ापे में होते देख रहे हैं। खैर आपका व्यक्तिगत मसला है। आप स्वतंत्र हैं। इससे जाहिर होता है अवस्था के अनुसार व्यक्ति के सरोकार बदल जाते हैं। आपके लिखे को आपके व्यक्तित्व से अलग करके ही देखना होगा।”

शेषनाथ पांडे लिखते हैं, “कहीं कुछ भी ठीक नहीं चल रहा सर। आपका यह कदम ‘ठीक नहीं चलने देने’ की तरफ धकेल रहा है। विनम्र असहमति आप से।”

फैक अतीक किदवई कहते हैं, “मुस्लिमों पर ये किसी अट्टहास से कम नहीं है।”

मजदूर झा ने कहा, “आपने जो किया उस पर बात हो सकती है लेकिन आपकी दलीलें तो दलाली है। आप जैसे दलित चिंतको की आखिरी परिणति यही है। राजेन्द्र जी ने कहा था कि रोना बंद कीजिए और अपने समाज के लिए काम कीजिए। लेकिन आपको तो कायराना आँसू टपकाने की आदत है। डूब मरो और सिम्पैथी कार्ड खेलो।”

लेखक अनुराग अनंत लिखते हैं, “उदय सदैव उदय नहीं होता वह अस्त भी होता है। यह दौर आँखों से पर्दा हटने का दौर है। मैं भीतर से इस नतीज़े पर पहुँच रहा हूँ कि कोई भी व्यक्ति सेलिब्रिटी नहीं। कोई हीरो नहीं। कोई आदर्श नहीं। सब बस हैं। जैसे होना चाहते हैं वैसे हैं। जैसे आप इस समय नृत्य करना चाहते हैं और आप कर रहे हैं।”

शादाब आनंद लिखते हैं, “हिंदी साहित्य का बड़ा वर्ग अंदर से हमेशा साम्प्रदायिक रहा है, हम जिसे प्रगतिशील धड़ा समझते हैं उनमें भी ऐसे लोग भरे पड़े हैं। शर्मनाक।”

विजेंद्र सोनी कहते हैं, “थोड़ा सा पाने के चक्कर में बहुत कुछ खो दिया, वैसे भी उदय प्रकाश के आगे सिंह लगाना इस समय उनके अपने इलाके की फौरी जरूरत है।”

अब्बास पठान ने लिखा है, “इसी बिना रीढ़ के साहित्यकार वर्ग पर अक्सर मैं लानत भेजता रहता हूँ। क्या आपकी कलम में ये पूछने की हिम्मत है कि इससे पहले किया गया अरबों रुपये का चन्दा किधर है और ऐसी कौनसी इमारत का नक्शा जारी कर दिया गया है, जिसकी लागत 5000 करोड़ आने वाली है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया’: लोनी घटना के ट्वीट पर नहीं लगा ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ टैग, ट्विटर सहित 8 पर FIR

"लोनी घटना के बाद आए ट्विट्स के मद्देनजर योगी सरकार ने ट्विटर के विरुद्ध मुकदमा दायर किया है और कहा है कि ट्विटर ऐसे ट्वीट पर मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग नहीं लगा पाया। राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया है।"

आप और कॉन्ग्रेस के झूठ की खुली पूरी तरह पोल, श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट ने भूमि सौदों पर जारी किया विस्तृत स्पष्टीकरण

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से ठीक पहले विपक्ष एक गैर जरूरी मुद्दे को उठाने की कोशिश कर रहा है। राम मंदिर के निर्माण में बाधाएँ पैदा करने के लिए कई राजनीतिक दल घटिया राजनीति कर रहे हैं।

राहुल गाँधी का ‘बकवास’ ट्वीट देख भड़के CM योगी, दिया करारा जवाब, कहा- ‘सच आपने कभी बोला नहीं, जहर फैलाने में लगे हैं’

राहुल गाँधी ने ट्वीट में लिखा था, “मैं ये मानने को तैयार नहीं हूँ कि श्रीराम के सच्चे भक्त ऐसा कर सकते हैं। ऐसी क्रूरता मानवता से कोसों दूर है और समाज व धर्म दोनों के लिए शर्मनाक है।"

पाठकों तक हमारी पहुँच को रोक रही फेसबुक, मनमाने नियमों को थोप रही… लेकिन हम लड़ेंगे: ऑपइंडिया एडिटर-इन-चीफ का लेटर

हमें लगता है कि जिस ताकत का सामना हमें करना पड़ रहा है, वह लगभग हर हफ्ते हम पर पूरी ताकत के साथ हमला बोलती है। हम लड़ेंगे। लेकिन हम अपनी मर्यादा के साथ लड़ेंगे और अपने सम्मान को बरकरार रखेंगे।

‘जो मस्जिद शहीद कर रहे, उसी के हाथों बिक गए, 20 दिलवा दूँगा- इज्जत बचा लो’: सपा सांसद ST हसन का ऑडियो वायरल

10 मिनट 34 सेकंड के इस ऑडियो में सांसद डॉ. एस.टी. हसन कह रहे हैं, "तुम मुझे बेवकूफ समझ रहे हो या तुम अधिक चालाक हो... अगर तुम बिक गए हो तो बताया क्यों नहीं कि मैं भी बिक गया।

सूना पड़ा प्रोपेगेंडा का फिल्मी टेम्पलेट! या खुदा शर्मिंदा होने का एक अदद मौका तो दे 

कितने प्यारे दिन थे जब हर दस-पंद्रह दिन में एक बार शर्मिंदा हो लेते थे। जब मन कहता नारे लगा लेते। धमकी दे लेते थे कि टुकड़े होकर रहेंगे, इंशा अल्लाह इंशा अल्लाह।

प्रचलित ख़बरें

‘राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया’: लोनी घटना के ट्वीट पर नहीं लगा ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ टैग, ट्विटर सहित 8 पर FIR

"लोनी घटना के बाद आए ट्विट्स के मद्देनजर योगी सरकार ने ट्विटर के विरुद्ध मुकदमा दायर किया है और कहा है कि ट्विटर ऐसे ट्वीट पर मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग नहीं लगा पाया। राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया है।"

‘जो मस्जिद शहीद कर रहे, उसी के हाथों बिक गए, 20 दिलवा दूँगा- इज्जत बचा लो’: सपा सांसद ST हसन का ऑडियो वायरल

10 मिनट 34 सेकंड के इस ऑडियो में सांसद डॉ. एस.टी. हसन कह रहे हैं, "तुम मुझे बेवकूफ समझ रहे हो या तुम अधिक चालाक हो... अगर तुम बिक गए हो तो बताया क्यों नहीं कि मैं भी बिक गया।

‘मुस्लिम बुजुर्ग को पीटा-दाढ़ी काटी, बुलवाया जय श्री राम’: आरोपितों में आरिफ, आदिल और मुशाहिद भी, ज़ुबैर-ओवैसी ने छिपाया

ओवैसी ने लिखा कि मुस्लिमों की प्रतिष्ठा 'हिंदूवादी गुंडों' द्वारा छीनी जा रहीहै । इसी तरह ज़ुबैर ने भी इस खबर को शेयर कर झूठ फैलाया।

राम मंदिर की जमीन पर ‘खेल’ के दो सूत्र: अखिलेश यादव के करीबी हैं सुल्तान अंसारी और पवन पांडेय, 10 साल में बढ़े दाम

भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय 'पवन' और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से सुल्तान के काफी अच्छे रिश्ते हैं।

‘इस बार माफी पर न छोड़े’: राम मंदिर पर गुमराह करने वाली AAP के नेताओं ने जब ‘सॉरी’ कह बचाई जान

राम मंदिर में जमीन घोटाले के बेबुनियाद आरोपों के बाद आप नेताओं पर कड़ी कार्रवाई की माँग हो रही है।

फाइव स्टार होटल से पकड़ी गई हिरोइन नायरा शाह, आशिक हुसैन के साथ चरस फूँक रही थी

मुंबई पुलिस ने ड्रग्स का सेवन करने के आरोप में एक्ट्रेस नायरा नेहल शाह और उनके दोस्त आशिक साजिद हुसैन को गिरफ्तार किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,132FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe