Tuesday, March 9, 2021

विषय

जम्मू कश्मीर

जम्मू में गुरुद्वारे के बाहर नजर आया खालिस्तानी आतंकी भिंडरावाले का पोस्टर, स्थानीय लोगों का दावा- सालों से यहाँ

खालिस्तानी आतंकी जरनैल सिंह भिंडरावाले का एक पोस्टर जम्मू के गांग्याल में एक गुरुद्वारे के बाहर लगा नजर आया।

महिलाएँ लकड़ियाँ काटती थीं, अब उनके पास है उज्जवला गैस: मोदी सरकार की तारीफ में PDP सांसद ने कहा- जो हुआ वो कहना चाहिए

"अगर कभी प्रॉब्लम हुई तो वो जो हमारे स्टेट में हमारे लोग बैठे हैं, जो ब्यूरोक्रेट्स है उनके कारण हुई। यहाँ से हमें कभी किसी चीज से मना नहीं किया गया।"

जम्मू-कश्मीर में 4G मोबाइल इंटरनेट सेवा बहाल, केंद्र सरकार ने लिया फैसला

जम्मू-कश्मीर में करीब डेढ़ साल बाद 4G मोबाइल इंटरनेट सेवा फिर से बहाल कर दी गई है।

कश्मीर का मुनीब जुटाता था पैसा, आतंकी खरीदते थे गोला-बारूद: कतर से लैंड करते ही एयरपोर्ट पर गिरफ्तार

आतंकी संगठन जैश के ओवरग्राउंड वर्कर मुनीब सोफी को कतर से आते ही एयरपोर्ट पर गिरफ्तार कर लिया गया।

शाह फैसल की ‘घर-वापसी’: बोला – 370 पर जो किया, उस पर पछतावा… #Indiatogether का किया समर्थन

"मुझे भारत के आंतरिक मसलों पर वैश्विक जनता से संवाद करते हुए अपने शब्दों के साथ कहीं ज़्यादा सावधानी बरतनी चाहिए थी।”

जैश-ए-मोहम्मद का 2 आतंकी गिरफ्तार: स्थानीय युवकों का ब्रेनवॉश कर संगठन में करवाता था शामिल, देता था हथियार

दोनों आतंकी इलाके में युवाओं को भड़काने का काम और गलत नैरेटिव से उन्हें प्रभावित कर हिंसा का मार्ग अपनाने को उकसाता था। इसके अलावा...

30,000 कश्मीरी पंडितों ने पीएम पैकेज के तहत 2,000 से अधिक पदों के लिए किया आवेदन: चयन प्रक्रिया अप्रैल तक होगी पूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जम्मू और कश्मीर के पैकेज के तहत, 30,000 से अधिक कश्मीरी पंडितों ने लगभग 2,000 पुन: आवंटित सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन किया है।

‘गजनवी फोर्स’ से जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर हमले की फिराक में पाकिस्तान, सैन्य प्रतिष्ठान भी आतंकी निशाने पर

जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर आतंकी हमलों की फिराक में हैं। सैन्य प्रतिष्ठान भी निशाने पर हैं।

पीपल्स कॉन्फ्रेंस के सज्जाद लोन ने किया गुपकार गठबंधन से किनारा, हाल ही में एक नेता ने की थी अमित शाह से मुलाकात

“इस गठबंधन को बलिदान की आवश्यकता थी। गठबंधन चलाने के लिए सभी दलों को दूसरे दलों को जगह देने की जरूरत होती है। लेकिन गुपकार में कोई सहयोग नहीं कर रहा है।"

इस्लामी रीति-रिवाज से दफनाने के लिए चाहिए आतंकियों की लाशें, पुलिस ने परिवार वालों से कहा – ‘सवाल ही नहीं उठता’

जम्मू कश्मीर पुलिस ने दिसंबर 30, 2020 को लावेपुरा एनकाउंटर में मारे गए तीनों आतंकियों के शव उनके परिवार को सौंपने से इनकार कर दिया है।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

292,347FansLike
81,968FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe