Sunday, May 26, 2024

विषय

नमाज

कोरोना बीमारी नहीं अल्लाह ने दी गुनाहों की सजा, नमाज पढ़ने से ही बचेगा मुल्क: SP सांसद शफीकुर्रहमान बर्क

सपा सांसद का कहना है कि कि कोरोना कोई बीमारी नहीं बल्कि अल्लाह द्वारा हमारे पापों की सजा है और नमाज पढ़ेंगे तभी ये मुल्क बचेगा।

रमजान के महीने में मस्जिदों में 5 वक़्त की नमाज पर कर्नाटक सरकार ने लगाया बैन, अजान और लाउडस्पीकर भी रहेंगे प्रतिबंधित

राज्य अल्पसंख्यक कल्याण विभाग, वक्फ और हज विभाग ने कहा है कि नमाज अदा करने के लिए मस्जिदों के कर्मचारियों द्वारा किसी भी सार्वजनिक स्थान का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

मध्य प्रदेश: लॉकडाउन के बीच फिर नमाज के लिए मस्जिद में हुए इकट्ठा, 40 पर FIR

छिंदवाड़ा में अब तक 4 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। एक की मौत हो चुकी है। बावजूद इसके एक मस्जिद में बड़ी तादाद में लोग नमाज पढ़ने के लिए इकट्ठा हो गए।

नमाज पढ़ने के लिए भी जीवित रहना जरूरी: जो CAA-NRC फेसबुक पोस्ट से समझ गए, उन्हें मोदी की अपील नहीं समझ आ रही

PM मोदी ने लोगों से 21 दिन तक घरों में रहने की अपील बेहद सामान्य शब्दों में और विनम्रतापूर्वक की थी। फिर भी एक विशेष वर्ग, जिसने सत्ता-विरोधियों के एक ही इशारे में नागरिकता कानून को समझ लिया था और शाहीनबाग़ खड़ा कर दिया, के लिए यह अपील समझनी मुश्किल नजर आ रही है।

कोरोना से जंग: भारत की मस्जिदों में छुपाए गए ये विदेशी तबलीगी कौन हैं, कहाँ से आए हैं? सख्त एक्शन की तैयारी में सरकार

मरकज में पूरे देश से 1830 जमाती शामिल हुए थे, जिनमें से अब तक 10 जमातियों की मौत हो चुकी है।

जहाँ मिला कोरोना संक्रमित युवक, वहाँ की मस्जिद में बैठ कर माइक से नमाज के लिए बुला रहा था मौलाना, गिरफ्तार

गाँव में पहले से ही एक युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। इसके बाद भी समुदाय के लोग मस्जिद में एकत्र होकर नमाज अदा करने सा बाज नहीं आ रहे। और तो और, मौलाना मस्जिद में बैठकर माइक से लोगों को नमाज के लिए इकट्ठा करने का ऐलान कर रहा था।

मस्जिदों में जाने से नहीं रोका तो… इकट्ठा होकर नमाज पढ़ने से पहले फतेहपुरी मस्जिद के इमाम की सुन लें

"यह बात संसद तक भी पहुँच जाएगी कि मुस्लिमों की लापरवाही की वजह से और लॉकडाउन के बाद भी लगातार मस्जिदों में जाने की वजह से देश में तबाही मची।"

नमाज के लिए सड़क जाम, अयोध्या से लौट रहे बजरंगी आगरा में पढ़ने लगे हनुमान चालीसा

नमाज खत्म होने के बाद वाहन निकल रहे थे। इसी दौरान दारोगा ने बस चालक से अभद्रता कर दी। बस में सवार बजरंग दल के पदाधिकारी बात करने गए तो उनसे भी अभद्र व्यवहार किया गया। इससे गुस्साए कार्यकर्ता हाईवे पर बैठकर हनुमान चालीसा पढ़ने लगे।

मुफ़्ती ने कहा- छत पर अता करो नमाज़, अलीगढ़ में सड़क पर नमाज पढ़ने पर है पाबन्दी

बजरंग दल, अलीगढ़, के संयोजक गौरव शर्मा ने साथ में कहा, "अगर मुस्लिम जुम्मे की नमाज़ सड़कों पर पढ़ेंगे, तो हम भी सड़कों हनुमान चालीसा करेंगे।"

बंगाल : सार्वजनिक जगहों पर नमाज के विरोध में बीजेपी कार्यकर्ताओं का सड़क पर हनुमान चालीसा पाठ

सार्वजनिक जगहों पर जुमे की नमाज अता किए जाने की हरियाणा के सीएम खट्टर भी आलोचना कर चुके हैं। बीते साल नोएडा पुलिस ने कंपनियों को एडवाइजरी जारी कर कहा था कि वे अपने कर्मचारियों को सार्वजनिक जगहों पर नमाज अता करने से रोकें। बीते साल ही मद्रास हाई कोर्ट ने कहा था कि सार्वजनिक जगहों का इस्तेमाल प्रार्थना के लिए नहीं किया जाना चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें