Wednesday, August 4, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकजो बायडेन के राष्ट्रपति बनते ही कैपिटल हिल के सामने हजारों मुस्लिमों ने पढ़ी...

जो बायडेन के राष्ट्रपति बनते ही कैपिटल हिल के सामने हजारों मुस्लिमों ने पढ़ी जुमे की नमाज, फोटो वायरल – Fact Check

"जो बायडेन का नया अमेरका - कैपिटल हिल के सामने जुमे के दिन... अमेरिका में बदली सत्ता के बाद का प्रभाव, मुस्लिम अब खुलेआम कैपिटल हिल इमारत के सामने हजारों की संख्या में नमाज पढ़ रहे।"

अमेरिका में जो बायडेन ने राष्ट्रपति का पद संभालते ही पहले 17 एक्जक्यूटिव आदेश पर हस्ताक्षर किए। इनमें से कई पिछले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा किए गए फैसलों को पलटने से सम्बंधित थे। इनमें सबसे ज्यादा ‘मुस्लिम ट्रेवल बैन’ को ख़त्म करना वायरल हुआ। इसके तहत कुछ खास देश के नागरिकों को अमेरिका यात्रा की अनुमति नहीं थी। इसी बीच सोशल मीडिया पर कैपिटल हिल के सामने जुमे की नमाज पढ़ते हजारों मुस्लिमों की तस्वीरें वायरल हो गई।

‘मुस्लिम ट्रेवल बैन’ के तहत 7 इस्लामी मुल्कों के लोगों को अमेरिका में यात्रा से प्रतिबंधित कर दिया गया था, लेकिन 2017 के इस फैसले को अब पलट दिया गया है। इस पर सोशल मीडिया के माध्यम से कई मुस्लिमों ने ख़ुशी जताई। सोशल मीडिया पर वायरल कैपिटल हिल के सामने मुस्लिमों द्वारा नमाज पढ़ी जाने की तस्वीरों के बारे में दावा किया जा रहा है कि जो बायडेन के राष्ट्रपति बनने के बाद आए पहले शुक्रवार को ऐसा हुआ।

फेसबुक पर भी वायरल हुआ दावा

रवींद्र भारतीय नामक ट्विटर यूजर ने लिखा, “जो बायडेन का नया अमेरिका – कैपिटल हिल के सामने जुमे के दिन”। इसी तरह सोशल मीडिया पर भी कई लोगों ने इसे अमेरिका में बदली सत्ता के बाद का प्रभाव बताया और लिखा कि मुस्लिम अब खुलेआम कैपिटल हिल इमारत के सामने हजारों की संख्या में नमाज पढ़ रहे हैं। उन्होंने इसे शेयर करते हुए अमेरिका में बढ़ते इस्लामी कट्टरपंथ को लेकर भी आवाज़ उठाई।

अब आइए आपको बताते हैं कि इन तस्वीरों की सच्चाई क्या है। दरअसल, ये दावा भ्रामक है। जो तस्वीर शेयर की जा रही है, वो एक दशक से भी ज्यादा पुरानी है। सितम्बर 25, 2009 को ‘इस्लाम ऑफ कैपिटल हिल’ नमाज कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस कार्यक्रम के आयोजकों का दावा था कि वो अमेरिका के मुस्लिमों और नॉन-मुस्लिमों के बीच एकता बढ़ाने और उनके साथ मिल कर काम करने के उद्देश्य से इसे आयोजित किया गया।

‘इस्लाम ऑन कैपिटल हिल’ नामक इस कार्यक्रम की तस्वीरें तब की कई मीडिया रिपोर्ट्स में उपलब्ध हैं। इस तरह की एक तस्वीर ‘Getty’ इमेज सर्विस पर भी है, जिसे फोटोग्राफर अलेक्स वोंग ने लिया है और उस पर भी 2009 की वही तारीख अंकित है। न्यू जर्सी के एलिजाबेथ में स्थित दारुल इस्लाम मस्जिद ने इसका आयोजन किया था। तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा आपसी सहयोग के लिए दिए गए एक भाषण से प्रभावित होकर ऐसा किया गया था।

हाल ही में पद संभालने के कुछ ही देर बाद बायडेन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैक सुलिवन ने कहा था कि प्रतिबंध ‘हमारे देश पर एक दाग से कम नहीं था और यह ज़ेनोफोबिया (अपरिचित या विदेशियों को पसंद ना करना) और धार्मिक दुश्मनी ही थी’। 2017 में ट्रंप के कार्यालय में पहले सप्ताह से ही लागू, मुस्लिम प्रतिबंध ने शुरू में सात मुस्लिम-बहुसंख्यक देशों- ईरान, इराक, लीबिया, सोमालिया, सूडान, सीरिया और यमन से यात्रा को प्रतिबंधित कर दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नंगी होकर होटल के कमरे से बाहर आती थी, पुलिस को डराती थी’: नाराज़ ऑस्ट्रेलिया ने ब्रिटिश कमेंटेटर को वापस भेजा

केटी हॉपकिंस ने स्वीकार किया है कि जब वो जुलाई 2021 में ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में गई थीं तो उन्होंने नंगी होकर पुलिसकर्मियों को डराया था।

‘इस महीने का चेक नहीं पहुँचा या पेमेंट रोक दी गई?’: केजरीवाल के 2047 वाले विज्ञापन के बाद ट्रोल हुए ‘क्रांतिकारी पत्रकार’

सोशल मीडिया पर लोग 'क्रांतिकारी पत्रकार' पुण्य प्रसून बाजपेयी को ट्रोल कर रहे हैं। उन्होंने दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल की आलोचना की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,912FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe