Monday, July 26, 2021
Homeवीडियोबेंगलुरु दंगा एक योजना का हिस्सा है, और कुछ नहीं: अजीत भारती का वीडियो...

बेंगलुरु दंगा एक योजना का हिस्सा है, और कुछ नहीं: अजीत भारती का वीडियो । Ajeet Bharti on Bengaluru Riots

जब इनकी जनसंख्या 1% होगी, ये सहिष्णु बनकर रहने का दिखावा करेंगे, मगर जैसे-जैसे ये बढ़ता है, ये अपना दायरा बढ़ाते हैं और उसमें किसी को आने की इजाजत नहीं देते। फिर ये नीचता दिखाते हुए महिलाओं से छेड़छाड़ करते हैं। 10% पर पहुँचने पर दंगा...

बेंगलुरु के दंगे की अगर आप पूरी डिटेल को न भी देखें कि सड़क पर कितने लोग उतरे, किसने क्या किया, तो भी समझ जाएँगे कि ये काम किसका है, किस स्टाइल में होता है और हर बार इसका स्क्रीनप्ले पूर्वनियोजित तरीके से लिखा हुआ रहता है। ये हर जगह सेम स्क्रिप्ट इस्तेमाल करते हैं, चाहे वो दिल्ली हो, यूपी हो, गुजरात हो या फिर झारखंड।

इनका स्क्रिप्ट ये है कि ये बहुत आहत होने वाले समुदाय हैं। और इनका शिकार होते हैं काफिर और स्टेट मशीनरी। जब इनकी जनसंख्या 1% होगी, ये सहिष्णु बनकर रहने का दिखावा करेंगे, मगर जैसे-जैसे ये बढ़ता है, ये अपना दायरा बढ़ाते हैं और उसमें किसी को आने की इजाजत नहीं देते। फिर ये नीचता दिखाते हुए महिलाओं से छेड़छाड़ करते हैं। 10% पर पहुँचने पर दंगा भड़काते हैं। दंगा भड़काने का इनका मकसद होता है कि हम तुम्हें बता रहे हैं कि हमारी ताकत क्या है।

पूरा वीडियो इस लिंक पर क्लिक कर के देखें

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कारगिल के 22 साल: 16 की उम्र में सेना में हुए शामिल, 20 की उम्र में देश पर मर मिटे

सुनील जंग ने छलनी सीने के बावजूद युद्धभूमि में अपने हाथ से बंदूक नहीं गिरने दी और लगातार दुश्मनों पर वार करते रहे।

देवी की प्रतिमाओं पर सीमेन, साड़ियाँ उतार जला दी: तमिलनाडु के मंदिर का ताला तोड़ कर कुकृत्य

तमिलनाडु स्थित रानीपेट के एक मंदिर में हिन्दू घृणा का मामला सामने आया है। इससे पहले भी राज्य में मंदिरों पर हमले के कई...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,222FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe