Sunday, July 25, 2021
Homeवीडियोशाह फैसल ने छोड़ी राजनीति, दोबारा बनेंगे IAS? अजीत भारती का वीडियो | Ajeet...

शाह फैसल ने छोड़ी राजनीति, दोबारा बनेंगे IAS? अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Shah Faesal Quitting Politics

‘भारत सरकार कश्मीरियों की हत्या कर रही है और 20 करोड़ लोगों के साथ अत्याचार हो रहा है’, इसे मुद्दा बनाते हुए जनवरी 09, 2019 को भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा दे दिया था। शाह फैसल के राजनीति में आने पर मजहब विशेष वालों ने बढ़-चढ़कर दान के साथ अपना समर्थन दिया था और अब, जब उनके फिर से प्रशासनिक सेवा में जुड़ने की खबर आ रही है, तो वो लोग इसे कौम के साथ गद्दारी बता रहे हैं।

भारत को रेपिस्तान कहने वाले शाह फैसल (Shah Faesal) के बारे में खबर आ रही है कि वो राजनीति छोड़कर फिर से प्रशासनिक सेवा से जुड़ना चाहते हैं। बताया जा रहा है कि उन्होंने जो त्यागपत्र दिया था, उसे अभी तक स्वीकार नहीं किया गया है। हालाँकि, अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है। 

‘भारत सरकार कश्मीरियों की हत्या कर रही है और समुदाय विशेष के 20 करोड़ लोगों के साथ अत्याचार हो रहा है’, इसे मुद्दा बनाते हुए जनवरी 09, 2019 को भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा दे दिया था। शाह फैसल के राजनीति में आने पर खास मजहब वालों ने बढ़-चढ़कर दान के साथ अपना समर्थन दिया था और अब, जब उनके फिर से प्रशासनिक सेवा में जुड़ने की खबर आ रही है, तो वो लोग इसे कौम के साथ गद्दारी बता रहे हैं।

इस मुद्दे पर विस्तृत विश्लेषण आप इस यूट्यूब लिंक पर क्लिक कर के देख सकते हैं

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान में भगवा ध्वज फाड़ने वाले कॉन्ग्रेस MLA को लोगों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा: वायरल वीडियो का FactChek

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें दिख रहा है कि लाठी-डंडा लिए भीड़ एक शख्स को दौड़ा-दौड़ाकर पीट रही है।

दैनिक भास्कर के ₹2,200 करोड़ के फर्जी लेनदेन की जाँच कर रहा है IT विभाग: 700 करोड़ की आय पर टैक्स चोरी का खुलासा

मीडिया समूह की तलाशी में छह वर्षों में ₹700 करोड़ की आय पर अवैतनिक कर, शेयर बाजार के नियमों का उल्लंघन और लिस्टेड कंपनियों से लाभ की हेराफेरी के आयकर विभाग को सबूत मिले हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,066FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe