Wednesday, July 6, 2022
Homeव्हाट दी फ*बारातियों को दावत में नहीं मिली मटन करी, गुस्से में दूल्हे ने तोड़ी शादी:...

बारातियों को दावत में नहीं मिली मटन करी, गुस्से में दूल्हे ने तोड़ी शादी: लौटने से पहले दूसरी महिला संग किए हाथ पीले

जब बारातियों को खाने के लिए भोजन स्थल पर ले जाया गया तो वहाँ उन्हें पता चला कि शादी की दावत में मटन करी शामिल ही नहीं है। मेन्यू में मटन की कमी से नाराज दूल्हे के पक्ष ने कथित तौर पर दुल्हन के परिवार वालों के साथ बहस की।

ओडिशा से एक अनोखा मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि शादी में दुल्हन के परिवार वालों द्वारा मटन करी नहीं परोसे जाने से दूल्हा आग-बबूला हो गया और इतनी छोटी-सी बात पर शादी तोड़ दी। रिपोर्ट्स के अनुसार, जब शादी की रस्में निभाई जा रही थीं तभी 27 वर्षीय दूल्हे रमाकांत पात्रा को पता चला कि बरातियों को खाने में मटन करी नहीं परोसी गई। इसकी वजह से वह गुस्सा हो गया और शादी की रस्में शुरू होने से पहले ही वहाँ से चला गया। यह घटना शुक्रवार (25 जून) की बताई जा रही है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह अनोखी घटना जाजपुर जिले के सुकिंडा की है। पड़ोसी क्योंझर जिले के रहने वाले पात्रा की शादी सुकिंडा के बांधगाँव की एक लड़की से होनी थी। दूल्हा और बाराती जब शादी में पहुँचे तो दुल्हन के परिवार वालों ने उनका जमकर स्वागत किया। जब बारातियों को खाने के लिए भोजन स्थल पर ले जाया गया तो वहाँ उन्हें पता चला कि शादी की दावत में मटन करी शामिल ही नहीं है। मेन्यू में मटन की कमी से नाराज दूल्हे के पक्ष ने कथित तौर पर दुल्हन के परिवार वालों के साथ बहस की।

ये सब देखने के बाद दूल्हा रमाकांत पात्रा ने शादी तोड़ने का फैसला कर लिया। हालाँकि, दुल्हन पक्ष ने उसे मनाने की बहुत कोशिश की, इसके बावजूद वह अपनी बात पर अड़ा रहा। इसके बाद दूल्हे की बारात बिना शादी किए ही वहाँ निकल गई। वे कथित तौर पर बाकी दिन उसी ब्लॉक में एक रिश्तेदार के यहाँ रुके थे। इस दौरान पात्रा ने घर लौटने से पहले उसी रात फूलझरा गाँव की एक अन्य महिला से शादी कर ली। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस संबध में स्थानीय पुलिस थाने में कोई भी शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है।

बता दें कि मटन करी ओडिशा का लोकप्रिय व्यंजन है। इसे अक्सर शादियों, पिकनिक और अन्य दावतों सहित अधिकांश सामाजिक कार्यक्रमों में शामिल किया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जो परिवार शादी की दावत में मटन करी को शामिल नहीं करता है, उसे अक्सर मेहमानों की आलोचना का सामना करना पड़ता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अभिव्यक्ति की आज़ादी सिर्फ हिन्दू देवी-देवताओं के लिए क्यों?’: सत्ता जाने के बाद उद्धव गुट को याद आया हिंदुत्व, प्रियंका चतुर्वेदी ने सँभाली कमान

फिल्म 'काली' के पोस्टर में देवी को धूम्रपान करते हुए दिखाया गया है। जिस पर विरोध जताते हुए शिवसेना ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हिंदू देवताओं के लिए ही क्यों?

‘किसी और मजहब पर ऐसी फिल्म क्यों नहीं बनती?’: माँ काली का अपमान करने वालों पर MP में होगी कार्रवाई, बोले नरोत्तम मिश्रा –...

"आखिर हमारे देवी देवताओं पर ही फिल्म क्यों बनाई जाती है? किसी और धर्म के देवी-देवताओं पर फिल्म बनाने की हिम्मत क्यों नहीं हो पाती है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,883FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe