Tuesday, July 23, 2024
Homeव्हाट दी फ*महिला टीचर ने छात्र को फाँसा और घर से लेकर कार तक में बनाने...

महिला टीचर ने छात्र को फाँसा और घर से लेकर कार तक में बनाने लगी संबंध: ट्रैकिंग ऐप की मदद से छात्र की माँ ने रंगरेलियाँ मनाते हुए पकड़ा, मामला दर्ज

साउथ मैक्लेनबर्ग हाई स्कूल की 26 साल की शिक्षिका गैब्रिएला कार्टया-नेफेल्ड ने 18 साल के छात्र को प्रेम जाल में फँसा लिया। इसके बाद वह छात्र के साथ कार से लेकर घर तक में उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए। जब छात्र की इसकी जानकारी हुई तो उसने एक ऐप के जरिए दोनों को पकड़ लिया।

बेटा स्कूल तो जाता था, लेकिन उसका गेम्स का शौक जा चुका था। पढ़ाई पर भी उसका ध्यान नहीं रह गया था। ऐसे में माँ को चिंता हुई कि उसका बेटा ‘बहक’ कैसे रहा है। बेटे के बारे में अफवाहें भी उड़ रही थीं कि उसका स्कूल की ही एक टीचर से संबंध हो गया है। बेटा अभी-अभी बालिग हुआ था। ऐसे में माँ ने बेटे को ट्रैक करते हुए टीचर को एक्सपोज कर दिया।

माँ ने पाया कि साइंस पढ़ाने वाली महिला टीचर 18 साल के उसके बेटे को प्रेमजाल में फाँसकर यौन संबंध बनाती थी। जब उसके बेटे का खेलने का समय होता था, उस दौरान महिला शिक्षिका उसे अपने घर बुलाती थी और लड़के के साथ रंगरेलियाँ मनाती थी। आखिरकार माँ ने एक ऐप की मदद से अपने बेटे को शिक्षिका की चंगुल से बाहर निकाला।

न्यूयॉर्क पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका के उत्तरी कैरोलिना राज्य के कार्लोट शहर में साउथ मैक्लेनबर्ग हाईस्कूल है। यहाँ की 26 साल की शिक्षिका गैब्रिएला कार्टया-नेफेल्ड ने 18 साल के अपने छात्र को प्रेमजाल में फँसा लिया। इसकी जानकारी छात्र ने अपने घर पर नहीं दी, लेकिन उसके बारे में अफवाहें उड़ने लगीं। ऐसे में छात्र की माँ ने लाइफ360 नाम के एक ऐप का सहारा लिया।

WSOC-TV की रिपोर्ट में बताया गया है कि माँ ने इस ऐप के जरिए अपने बेटे की ट्रैकिंग करनी शुरू कर दी। उसने पाया कि रग्बी खेलने के समय में उसका बेटा खेल के मैदान से दूर पार्क रोड पर है। उसकी माँ तुरंत उस जगह पहुँची और अपने बेटे को एक कार में शिक्षिका के साथ आपत्तिजनक स्थिति में पाया। उसने दोनों की वीडियो बना ली और तस्वीरें खींच ली।

छात्र की माँ ने फोन करके वहाँ पुलिस को बुला लिया। इसके बाद शिक्षिका गैब्रिएला कार्टया-नेफेल्ड के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी गई। इस पूरी घटना को स्थानीय पत्रकार हंटर सएंज ने कवर किया। उन्होंने महिला शिक्षक से पत्रकारों के सवाल-जवाब को भी पोस्ट किया है। महिला को 1 दिसंबर 2023 को अदालत में पूछताछ के लिए बुलाया गया था।

अभियोजक ने अदालत को बताया कि महिला शिक्षिका ने अक्टूबर से लेकर अब तक छात्र के साथ कम से कम 5 बार शारीरिक संबंध बनाए, लेकिन यह संख्या 100 बार से कम है। अभियोजक ने यह भी कहा कि शिक्षिका ने छात्र की माँ के घर के अंदर, कार में और अपने घर में छात्र के साथ संबंध बनाए हैं।

जानकारी के मुताबिक, शिक्षिका ने कार को अपने घर के पास ही खड़ी की थी और उसी कार में वह छात्र के साथ संबंध बना रही थी। इस मामले में डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी ने कहा कि अभियोजकों ने छात्र और शिक्षक दोनों से पूछताछ की है। शिक्षिका पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगे हैं।

जाँच के बाद पिछले माह के अंत में शिक्षिका गैब्रिएला कार्टया-नेफेल्ड को मैक्लेनबर्ग काउंटी जेल ले जाया गया। हालाँकि, बाद में उसे जमानत मिल गई। इस मामले की अगली सुनवाई 19 दिसंबर 2023 को होगी। सुनवाई के दौरान शिक्षिका को अदालत में उपस्थित रहने का आदेश दिया गया है।

यह ऐप जितना पॉपुलर है, उतना ही विवादित है। लाइफ 360 को बनाने वाली कंपनी के बोर्ड में फेसबुक के प्रमुख मार्क जुकरबर्ग की बहन रैंडी डायरेक्टर है। अमेरिका में अपने बच्चों पर निगाह रखने के लिए माता-पिता इस ऐप का खूब इस्तेमाल करते हैं। लाइफ 360 के लगभग 5 करोड़ सक्रिय मासिक यूजर हैं।

इस वर्ष इसकी 300 मिलियन डॉलर (लगभग 2500 करोड़ रुपए) की कमाई होने की उम्मीद थी। हालाँकि, आलोचकों ने इस ऐप की भूमिका को लेकर सवाल उठाए और डेटा प्राइवेसी को लेकर प्रश्नचिह्न लगाए। यहाँ तक कहा गया कि मानव तस्कर इस ऐप का इस्तेमाल करके पीड़ितों की निगरानी कर सकते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -