Sunday, June 23, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेक'कॉरपोरेट टैक्स 18% से घट कर 15% हुआ': आम बजट के नाम पर फेक...

‘कॉरपोरेट टैक्स 18% से घट कर 15% हुआ’: आम बजट के नाम पर फेक न्यूज फैला रहा था NDTV, नेटिजन्स बोले- बैन करो

एनडीटीवी ने बजट पेश होने के दौरान स्क्रीन पर चलाया कि कॉरपोरेट टैक्स (Corporate Tax) 18 % से घट कर 15 % कर दिया गया है जबकि सरकार ने सहकारी समितियों (co-operative societies) के लिए वैकल्पिक न्यूनतम कर की दर (Alternate Minimum Tax rate) को मौजूदा 18.5 प्रतिशत से घटाकर 15 प्रतिशत करने का प्रस्ताव किया है।

साल 2022 के आम बजट के पेश होने के दौरान भी एनडीटीवी ने अपना फेक न्यूज फैलाने का कारोबार तेज रखा और शब्दों के हेर-फेर से जनता को भ्रमित करने का काम किया। हालाँकि, इस बार एनडीटीवी के खेल की पोल खोली है खुद पीआईबी ने। पीआईबी ने एनडीटीवी पर फैलाए गए झूठ का स्क्रीनशॉट लगाकर उसे साझा किया और उसपर फेक न्यूज का स्टैंप भी लगाया। अपने ट्वीट में पीआईबी ने बताया कि जिसे एनडीटीवी कॉरपोरेट टैक्स बता रहा है वो हकीकत में कॉपरेटिव टैक्स है।

पीआईबी द्वारा साझा किए गए स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं कि एनडीटीवी ने किस तरह बजट पेश होने के दौरान स्क्रीन पर चलाया कि कॉरपोरेट टैक्स 18 % से घट कर 15% हो गया है, जो कि एक फेक न्यूज है। हकीकत में सरकार ने सहकारी समितियों (co-operative societies) के लिए वैकल्पिक न्यूनतम कर की दर (Alternate Minimum Tax rate) को मौजूदा 18.5 प्रतिशत से घटाकर 15 प्रतिशत करने का प्रस्ताव किया है।

आपको बता दें कि शब्दों के हेर-फेर से पाठक को भ्रमित करना और अपना प्रोपगेंडा फैलाना एनडीटीवी के लिए कोई नई बात नहीं है। यही वजह है कि अब सोशल मीडिया यूजर इससे वाकिफ हो गए हैं और एनडीटीवी का खुलकर मजाक उड़ा रहे हैं। खबर को पढ़ने के बाद लोगों का पूछना है कि एनडीटीवी लगातार फेक न्यूज फैलाने में लगा है। आखिरकार इसके विरुद्ध कार्रवाई कब की जाएगी। ये लोग कब तक झूठ परोसेंगे। 

यूजर्स का सरकार से पूछना है कि आखिर हर बार इतनी गलती करने के बाद भी क्यों एनडीटीवी को बख्शा जाता है। क्यों इन्हें बैन करके एक उदाहरण पेश नहीं किया जाता।

बता दें कि एनडीटीवी केवल सरकार को नकारात्मक दिखाने के लिए ही फेक न्यूज का सहारा नहीं लेता है बल्कि तमाम सामाजिक मुद्दों से लेकर कोरोना वैक्सीन पर झूठ फैलाने का कार्य कर चुका है। कुछ वक्त पहले एनडीटीवी के प्राइम टाइम एंकर रवीश कुमार कृषि कानूनों पर किसान आंदोलन के बीच झूठ फैलाते पकड़े गए थे। इसी प्रकार  NDTV के पत्रकार विष्णु सोम ने एक बार फिर लोगों को गुमराह करने का काम किया था। उन्होंने बताने की कोशिश की थी स्कूलों में बच्चों को कोवैक्सीन की एक्सपायर्स टीके लगाए जा रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

‘मोदी के दिए घरों में रहते हैं, 100% वोट कॉन्ग्रेस को देते हैं’: बोले असम CM सरमा – राज्य पर कब्ज़ा करना चाहते हैं...

सीएम हिमंता ने कहा कि बांग्लादेशी मूल के अल्पसंख्यकों ने कॉन्ग्रेस को इसलिए वोट दिया, क्योंकि अगले 10 सालों में वे राज्य को कब्जा चाहते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -