Friday, April 16, 2021
Home फ़ैक्ट चेक मीडिया फ़ैक्ट चेक द वायर ने एडिटेड वीडियो से कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर बीजेपी कार्यकर्ताओं के...

द वायर ने एडिटेड वीडियो से कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर बीजेपी कार्यकर्ताओं के हमले के बारे में फैलाई फर्जी खबरें, यहाँ जाने सच

ऑपइंडिया ने पटना बिहार में पप्पू यादव द्वारा आयोजित किसान बिल के विरोध प्रदर्शन का ओरिजिनल वीडियो हासिल किया, जहाँ पर कथित तौर पर यह घटना हुई थी। इसमें देखा जा सकता है कि विपक्षी पार्टी के नेताओं-कार्यकर्ताओं का समूह पटना के वीरचंद पटेल मार्ग स्थित भाजपा कार्यालय के भीतर घुसने की कोशिश कर रहा था।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में दावा किया गया है कि बिहार की राजधानी पटना में भाजपा कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी (JAP) के कुछ सदस्यों के साथ मारपीट की।

यह हमला कथित रूप से उस समय हुआ जब मोदी सरकार द्वारा पारित कृषि बिलों के विरोध में JAP नेता पप्पू यादव पटना में एक ट्रैक्टर रैली निकाल रहे थे।

बिहार के पटना में किसान बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा तथाकथित हमलों का यह वीडियो ‘National Dastak’ नामक न्यूज पोर्टल ने ट्वीट किया था। घटना के वीडियो को पोस्ट करते हुए, समाचार संगठन ने दावा किया था कि मोदी समर्थकों ने कृषि बिलों का विरोध करने के लिए कुछ लोगों पर लाठियों से हमला किया था।

1:30 मिनट के इस वीडियो को काफी चतुराई से एडिट किया गया। इसमें देखा जा सकता है कि लोगों के एक समूह को पार्टी के कार्यकर्ताओं को लाठी से पिटाई करने के लिए JAP पोस्टर वाले वाहन पर चढ़ रहे थे। कथित तौर पर ये लोग भाजपा कार्यकर्ता थे।

जैसे ही कथित घटना का वीडियो इंटरनेट पर वायरल हुआ, ‘लिबरल-सेक्युलर’ समुदाय के सदस्य पूरी घटना के बारे में गलत जानकारी फैलाने में जुट गए कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने किसान बिल का विरोध करने के लिए विपक्षी दलों के सदस्यों पर हमला किया। 

वामपंथी वेबसाइट ‘द वायर’ के संस्थापक संपादक -सिद्धार्थ वरदराजन भी इस होड़ में शामिल हो गए, जिनका फेक न्यूज़ फ़ैलाने का पुराना इतिहास रहा है। वरदराजन ने ‘नेशनल दस्तक’ द्वारा शेयर किए गए वीडियो को पोस्ट किया और दावा किया कि विपक्षी कार्यकर्ताओं के खिलाफ भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया हमला ‘काम पर फासीवाद’ के अलावा कुछ नहीं था।

Image Source: Siddharth Varadarajan

एक अन्य स्व-घोषित ‘पत्रकार ’और इस्लामवादी –आरफ़ा खानम शेरवानी, ‘द वायर’ के अपने संपादक के नक्शेकदम पर चलते हुए, उसी भ्रामक वीडियो को यह दावा करने के लिए पोस्ट कर दिया कि किसान बिल समर्थक कृषि बिल विरोधियों पर हमला कर रहे हैं।

हिंदू और भाजपा विरोधी के रूप में पहचानी जाने वाली आरफा खानम शेरवानी ने एंटी-सीएए और कृषि विरोधी बिल विरोधों के बीच एक समानता बताते हुए संकेत दिया कि कृषि बिल समर्थकों ने कृषि बिल विरोधियों पर उसी तरह से हमला किया, जैसा उन्होंने सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों के साथ किया। शेरवानी ने पूछा कि क्या लोगों को ‘गरीब-विरोधी और जन-विरोधी कानूनों के पारित होने’ के खिलाफ विरोध करने की अनुमति नहीं है।

Image Source: Arfa Khanum Sherwani

फर्जी-न्यूज़ पेडलर और अदालत के अवमानना मामले में दोषी प्रशांत भूषण ने भी भाजपा-विरोधी एजेंडा फैलाने के लिए एक बार फिर से बेशर्मी के साथ सोशल मीडिया पर आए और दावा किया कि विरोध कर रहे तथाकथित ‘किसानों’ को कुछ लोगों ने पीटा, जिन्हें उन्होंने स्थानीय पुलिस की मौजूदगी में ‘मोदी भक्तों’ और ‘गुंडों’ की संज्ञा दी।

Image Source: Prashant Bhushan

हालाँकि, बीजेपी सरकार पर हमला करने और बिहार विधानसभा चुनावों से पहले अपने भाजपा-विरोधी एजेंडे को आगे बढ़ाने की जल्दी में, वरदराजन और भूषण जैसे वामपंथी ‘कार्यकर्ताओं’ ने सावधानीपूर्वक एडिटेड वीडियो का सहारा लिया, जिसमें बीजेपी कार्यकर्ताओं को हमलावर के रूप में दिखाया गया था और विपक्षी पार्टी के कार्यकर्ता को पीड़ित के रूप में।

फैक्ट-चेक

ऑपइंडिया ने पटना बिहार में पप्पू यादव द्वारा आयोजित किसान बिल के विरोध प्रदर्शन का ओरिजिनल वीडियो हासिल किया, जहाँ पर कथित तौर पर यह घटना हुई थी। इसमें देखा जा सकता है कि विपक्षी पार्टी के नेताओं-कार्यकर्ताओं का समूह पटना के वीरचंद पटेल मार्ग स्थित भाजपा कार्यालय के भीतर घुसने की कोशिश कर रहा था।

गुस्साए कृषि बिल विरोधियों को भाजपा कार्यालय के गेट पर नारे लगाते हुए देखा जा सकता है। जबकि बिहार पुलिस JAP के सदस्यों को वहाँ से हटा रही है, जिन्होंने कथित रूप से पटना में भाजपा कार्यालय पर हमला किया था।

पार्टी कार्यालय पर हमला के बाद कृषि बिल विरोधियों से खुद को बचाव करने के लिए बीजेपी कार्यकर्ता सड़क पर निकल आए। बचाव के क्रम में ही वो JAP की गाड़ी पर चढ़ गए, इस दौरान JAP के सदस्यों के साथ भिड़ंत हो गई।

यह भी देखा जा सकता है कि विपक्षी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पटना की सड़कों पर ट्रैफिक जाम कर दिया था। कुछ भाजपा कार्यकर्ता, जो पार्टी कार्यालय के खिलाफ JAP हमले का बचाव कर रहे थे, उन्हें भी ‘नरेंद्र मोदी जिंदाबाद’, ‘भाजपा जिंदाबाद’ कहते सुना गया।

इस घटना के दोनों पक्षों की रिपोर्ट करने के बजाय, सिद्धार्थ वरदराजन और आरफा शेरवानी जैसे तथाकथित ‘निष्पक्ष’ पत्रकारों ने जानबूझकर भाजपा कार्यकर्ताओं पर प्रारंभिक हमले को नजरअंदाज कर दिया और इस घटना के बारे में आधे सच को आगे फैलाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर हमला किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

CPI(M) ने TMC के लोगों को मारा पर वो BJP से अच्छे: डैमेज कंट्रोल करने आए डेरेक ने किया बेड़ा गर्क

प्रशांत किशोर ने जब से क्लब हाउस में TMC को डैमेज किया है, उसे कंट्रोल करने की कोशिशें लगातार हो रहीं। यशवंत सिन्हा से लेकर...

ईसाई मिशनरियों ने बोया घृणा का बीज, 500+ की भीड़ ने 2 साधुओं की ली जान: 181 आरोपितों को मिल चुकी है जमानत

एक 70 साल के बूढ़े साधु का हँसता हुआ चेहरा आपको याद होगा? पालघर में हिन्दूघृणा में 2 साधुओं और एक ड्राइवर की मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर मीडिया चुप रहा। लिबरल गिरोह ने सवाल नहीं पूछे।

जिन ब्राह्मणों के खिलाफ भड़काता था लालू, उसकी रिहाई के लिए उन्हीं से पूजा-पाठ करवा रहे बेटे: बेल पर सुनवाई

लालू की रिहाई के लिए तेजस्वी यादव ने देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ धाम और वासुकीनाथ धाम में प्रार्थना की। तेज प्रताप नवरात्र कर रहे हैं।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आगे आए अखाड़े, कुम्भ समाप्ति की घोषणा: जमातियों से तुलना करने वालों को झटका

निरंजनी अखाड़ा, आनंद अखाड़े ने ये घोषणा की है। दोनों अखाड़ों ने अप्रैल 17 को हरिद्वार में कुम्भ की समाप्ति की घोषणा की। कई अखाड़े आ सकते हैं साथ।

दिल्ली सरकार के App पर हॉस्पिटल में कई बेड्स खाली, हकीकत में एक भी नहीं: CM केजरीवाल ने झूठ बोला?

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दावा कर रहे हैं कि प्रदेश में हॉस्पिटल बेड्स की कमी नहीं है, लेकिन जमीनी स्थिति इसके एकदम उलट है।

द प्रिंट की ‘ज्योति’ में केमिकल लोचा ही नहीं, हिसाब-किताब में भी कमजोर: अल्पज्ञान पर पहले भी करा चुकी हैं फजीहत

रेमेडिसविर पर 'ज्ञान' बघार फजीहत कराने वाली ज्योति मल्होत्रा मिलियन के फेर में भी पड़ चुकी हैं। उनके इस 'ज्ञान' के बचाव में द प्रिंट हास्यास्पद सफाई भी दे चुका है।

प्रचलित ख़बरें

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

सोशल मीडिया पर नागा साधुओं का मजाक उड़ाने पर फँसी सिमी ग्रेवाल, यूजर्स ने उनकी बिकनी फोटो शेयर कर दिया जवाब

सिमी ग्रेवाल नागा साधुओं की फोटो शेयर करने के बाद से यूजर्स के निशाने पर आ गई हैं। उन्होंने कुंभ मेले में स्नान करने गए नागा साधुओं का...

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

…स्कर्ट वाली का रेप हो जाता: कंपनी ने Pak कर्मचारी को निकाला, कोर्ट ने कहा – ‘मूर्ख है, बर्खास्त मत करो, रख लो’

इंग्लैंड में एक पाकिस्तानी कर्मचारी ने सहकर्मी के साथ बातचीत में कहा कि अगर यह पाकिस्तान होता तो स्कर्ट वाली लड़कियों का रेप हो जाता।

जहाँ इस्लाम का जन्म हुआ, उस सऊदी अरब में पढ़ाया जा रहा है रामायण-महाभारत

इस्लामिक राष्ट्र सऊदी अरब ने बदलते वैश्विक परिदृश्य के बीच खुद को उसमें ढालना शुरू कर दिया है। मुस्लिम देश ने शैक्षणिक क्षेत्र में...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,235FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe