फ़ैक्ट चेक: कंधार प्रकरण के लिए अजीत डोभाल को राहुल गाँधी द्वारा दोषी ठहराना दुर्भावनापूर्ण और तथ्यों से परे है

यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है जब बड़े स्तर पर होने वाली राजनीतिक बातचीत और चर्चा को ग़लत रूप से प्रचारित कर हमारे ‘राष्ट्रीय नायकों’ की सम्मानित छवि को धूमिल करने का भरसक प्रयास किया जाता है।

देश में चुनाव का मौसम शुरू हो चुका है और ऐसे में राजनीतिक गलियारे में उथल-पुथल होना आम बात है। विपक्ष का केंद्र के ख़िलाफ़ हमलावर रहना कोई नई बात नहीं है लेकिन जब उन बेबुनियादी मुद्दों को हवा दी जाती है, जिनका वास्तविकता से कोई सरोकार नहीं होता तो यह काम निंदनीय होता है। हाल के दिनों में राहुल गाँधी द्वारा ऐसे ही झूठ का दुष्प्रचार किया जा रहा है जिसका संबंध राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NSA) के अजीत डोभाल से है। बीते रविवार (मार्च 10, 2019) को राहुल गाँधी ने अजीत डोभाल को 1999 में आतंकवादी मसूद अज़हर को रिहा करने वाली वार्ता टीम का हिस्सा बनाने की भरसक कोशिश की। अपनी इस कोशिश में वो मसूद अज़हर की रिहाई के लिए अजीत डोभाल को दोषी करार देने पर तुले नज़र आए।

अपने ट्विटर पोस्ट में, राहुल गाँधी ने कुख्यात आतंकवादियों द्वारा IC-814 के अपहरण का ज़िक्र किया। राहुल ने अपने ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी से सवालिया होते हुए लिखा कि वो 40 CRPF शहीदों के परिवारों को बताएँ, जिन्होंने उनके हत्यारे मसूद अज़हर को रिहा कर दिया। इसके अलावा राहुल ने अपने ट्वीट में अजीत डोभाल पर भी निशाना साधा। हालाँकि, राहुल गाँधी के अधिकतर दावे आधे-अधूरे ही नज़र आते हैं।

बता दें कि IC-814 जब अमृतसर से दक्षिणी अफ़गानिस्तान में कंधार ले जाया गया था तब आतंकवादी मुल्ला मोहम्मद उमर के नेतृत्व में अपहर्ताओं ने खूंखार आतंकवादी मौलाना मसूद अज़हर सहित भारतीय जेलों से 35 आतंकवादियों को रिहाई के अलावा 200 मिलियन डॉलर नकद की माँग की थी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसके बाद भारत सरकार ने राजनयिक विवेक काटजू, अजीत डोभाल के नेतृत्व में वार्ताकारों की एक टीम भेजी। इस टीम में उस समय के एक उच्च श्रेणी के इंटेलिजेंस ब्यूरो अधिकारी नेचल संधू और सीडी सहाय समेत ब्यूरो ऑफ़ सिविल एविएशन सिक्योरिटी के कुछ अन्य प्रतिनिधि भी शामिल थे। 31 दिसंबर 1999 को, इस मसले को हल कर लिया गया। बता दें कि इस मसले को हल करने के लिए भारत सरकार आतंकवादी संगठन, जैश-ए-मोहम्मद के संस्थापक मसूद अज़हर सहित तीन शीर्ष आतंकवादियों को रिहा करने पर सहमत हो गई थी। इन सभी गतिविधियों में एक महत्वपूर्ण बात यह है कि कई वार्ताओं के दौरान, अजीत डोभाल ने आतंकवादियों की रिहाई संख्या को 35 से घटाकर सिर्फ़ तीन किया था और इसके लिए उन्होंने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

कुछ विशेषज्ञों के अनुसार, अजीत डोभाल ने आतंकवादी मसूद अज़हर की रिहाई का विरोध किया था, क्योंकि वे जानते थे कि इस तरह के खूंखार आतंकवादी को रिहा करने के नतीजे भविष्य में बुरे परिणाम होंगे। हालाँकि, तब अजीत डोभाल एक सरकारी अधिकारी थे और उन्हें सरकार के फ़ैसलों के अनुसार चलना पड़ा। कथित तौर पर, अजीत डोभाल ने बंधकों को छुड़ाने के लिए अज़हर की रिहाई के बिना सौदे पर बातचीत करने के लिए सरकार से और समय भी माँगा था।

यह बात चौंकाने वाली है कि भविष्य में देश का नेतृत्व करने की इच्छा रखने वाले राहुल गाँधी को ऐसी राष्ट्रीय आपात स्थितियों के दौरान आतंकी समूहों के साथ होने वाली जटिल वार्ताओं के बारे में पूरी और सही जानकारी अब तक नहीं है। राहुल गाँधी ने जानबूझकर इस तथ्य की अवहेलना की कि इस मुद्दे पर निर्णय लेने के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा बुलाई गई बैठक में तत्कालीन कॉन्ग्रेस प्रमुख सोनिया गाँधी और मनमोहन सिंह भी उपस्थित थे। बावजूद इसके राहुल गाँधी ने न सिर्फ़ सच को छिपाया बल्कि देश की जनता को भ्रमित करने का अपराध भी किया।

कंधार घटना को कवर करने वाले कुछ पत्रकारों ने इस बात का भी ख़ुलासा किया था कि 1999 में वाजपेयी सरकार को तीन आतंकवादियों को रिहा करना पड़ा था क्योंकि उस समय मीडिया और कार्यकर्ताओं ने IC-814 अपहरण की भड़काऊ कवरेज की थी और जल्द निर्णय लेने के लिए सरकार पर बहुत अधिक दबाव बनाने का काम किया था।

यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है जब बड़े स्तर पर होने वाली राजनीतिक बातचीत और चर्चा को ग़लत रूप से प्रचारित कर हमारे ‘राष्ट्रीय नायकों’ की सम्मानित छवि को धूमिल करने का भरसक प्रयास किया जाता है। राहुल गाँधी, जिनका एकमात्र ध्येय केवल केंद्र सरकार को बेवजह घेरना भर रहता है, उन्हें अजीत डोभाल को दोषी ठहराए जाने वाले इस निंदनीय कृत्य के लिए शर्मिंदा होना चाहिए।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

आईएएस अधिकारी प्रभात मिश्र ने तहसीलदार के माध्यम से 17 दिसम्बर 1955 में जमीन को आदर्श कॉपरेटिव सोसायटी के नाम करा ली। जबकि उस समय तहसीलदार को नामान्तरण का अधिकार नहीं था।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

गाय, दुष्कर्म, मोहम्मद अंसारी, गिरफ्तार

गाय के पैर बाँध मो. अंसारी ने किया दुष्कर्म, नारियल तेल के साथ गाँव वालों ने रंगे हाथ पकड़ा: देखें Video

गुस्साए गाँव वालों ने अंसारी से गाय के पाँव छूकर माफी माँगने को कहा, लेकिन जैसे ही अंसारी वहाँ पहुँचा, गाय उसे देखकर डर गई और वहाँ से भाग गई। गाय की व्यथा देखकर गाँव वाले उससे बोले, "ये भाग रही है क्योंकि ये तुमसे डर गई। उसे लग रहा है कि तुम वही सब करने दोबारा आए हो।"
मोहम्मद अंसारी

गाय से दुष्कर्म के आरोपित को पकड़वाने वाले कार्यकर्त्ता गिरफ्तार, ‘धार्मिक भावना आहत करने’ का आरोप

अभि, सुशांत और प्रज्वल के खिलाफ 'धार्मिक भावनाओं को आहत' करने के साथ ही अन्य मामलों में केस दर्ज किया गया है। इन तीनों ने ही गाँव के लोगों के साथ मिलकर अंसारी को गाय से दुष्कर्म करते हुए रंगे हाथ पकड़ा था।
सारा हलीमी

गाँजा फूँक कर की हत्या, लगाए अल्लाहु अकबर के नारे, फिर भी जज ने नहीं माना दोषी

फ्रांसीसी न्यायिक व्यवस्था में जज ऑफ इन्क्वायरी को यह फैसला करना होता है कि आरोपी पर अभियोग चलाया जा सकता है या नहीं। जज ऑफ इन्क्वायरी के फैसले को यहूदियों के संगठन सीआरआइएफ के अध्यक्ष फ्रांसिस खालिफत ने आश्चर्यजनक और अनुचित बताया है।
जानवरों का बलात्कार

बछड़े से लेकर गर्भवती बकरी तक का रेप करने वाला अज़हर, ज़फर और छोटे ख़ान: लिस्ट लंबी है

हरियाणा के मेवात में एक गर्भवती बकरी का इस दरिंदगी से बलात्कार किया गया कि उस निरीह पशु की मौत हो गई। हारून और जफ़र सहित कुल 8 लोगों ने मिल कर उस बकरी का गैंगरेप किया था। बकरी के मरने की वजह उसके प्राइवेट पार्ट्स में अत्यधिक ब्लीडिंग और शॉक को बताया गया।
प्रेम विवाह

मुस्लिम युवती से शादी करने वाले हिन्दू लड़के पर धर्म परिवर्तन का दबाव, जिंदा जलाने की धमकी

आरजू अपने पति अमित के साथ एसपी से मिलने पहुँची थी। उसने बताया कि उन दोनों ने पिछले दिनों भागकर शादी की थी। कुछ दिन बाद जब इसकी भनक ग्रामीणों को लगी तो उन्होंने लड़के और उसके परिवार को मारपीट करके गाँव से निकाल दिया।
हनुमान चालीसा पाठ

हनुमान चालीसा पाठ में शामिल हुईं इशरत जहां: घर खाली करने और जान से मारने की मिली धमकी

“हर कोई कह रहा था कि मुझे खुद घर छोड़ देना चाहिए वर्ना वे मुझे घर से ज़बर्दस्ती बेदखल कर देंगे। मुझे जान से मारने की धमकियाँ भी मिल रही हैं। मैं सुरक्षा की माँग करती हूँ। मैं अपने बेटे के साथ अकेले रहती हूँ ऐसे में मेरे साथ कभी भी कुछ भी हो सकता है।”
हरीश जाटव

दलित युवक की बाइक से मुस्लिम महिला को लगी टक्कर, उमर ने इतना मारा कि हो गई मौत

हरीश जाटव मंगलवार को अलवर जिले के चौपांकी थाना इलाके में फसला गाँव से गुजर रहा था। इसी दौरान उसकी बाइक से हकीमन नाम की महिला को टक्कर लग गई। जिसके बाद वहाँ मौजूद भीड़ ने उसे पकड़कर बुरी तरह पीटा।
मुजफ्फरनगर दंगा

मुजफ्फरनगर दंगा: अखिलेश ने किए थे हिंदुओं पर 40 केस, मुस्लिमों पर 1, सारे हिंदू बरी

हत्या से जुड़े 10, सामूहिक बलात्कार के 4 और दंगों के 26 मामलों के आरोपितों को अदालत ने बेगुनाह माना। सरकारी वकील के हवाले से बताया गया है कि अदालत में गवाहों के मुकरने के बाद अब राज्य सरकार रिहा आरोपितों के संबंध में कोई अपील नहीं करेगी।
1984 सिख विरोधी दंगा जाँच

फिर से खुलेंगी 1984 सिख नरसंहार से जुड़ी फाइल्स, कई नेताओं की परेशानी बढ़ी: गृह मंत्रालय का अहम फैसला

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमिटी के प्रतिनिधियों की बातें सुनने के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जाँच का दायरा बढ़ा दिया। गृह मंत्रालय ने कहा कि 1984 सिख विरोधी दंगे के वीभत्स रूप को देखते हुए इससे जुड़े सभी ऐसे गंभीर मामलों में जाँच फिर से शुरू की जाएगी, जिसे बंद कर दिया गया था या फिर जाँच पूरी कर ली गई थी।
ऋचा भारती, सुरक्षाकर्मी

ऋचा भारती पर अभद्र टिप्पणी करने वाले अबु आजमी वसीम खान के ख़िलाफ़ FIR दर्ज, अभी है फरार

ऋचा भारती उर्फ़ ऋचा पटेल के ख़िलाफ़ अभद्र टिप्पणी करने के मामले में अबु आजमी वसीम खान के ख़िलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। फिलहाल अबु आजमी वसीम खान फरार है और पुलिस ने उसकी धड़-पकड़ की कोशिशें तेज कर दी हैं।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

57,673फैंसलाइक करें
9,824फॉलोवर्सफॉलो करें
74,888सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: