Monday, August 2, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकफैक्ट चेक: क्या भारत सरकार ने राम मंदिर भूमि पूजन या मंदिर निर्माण के...

फैक्ट चेक: क्या भारत सरकार ने राम मंदिर भूमि पूजन या मंदिर निर्माण के लिए भुगतान किया है?

5 अगस्त 2020 को राम मंदिर भूमि पूजन समारोह के आसपास, कुछ लोग, जो राम मंदिर के निर्माण के खिलाफ हैं, ने आरोप लगाया कि भारत सरकार भूमि पूजन और राम मंदिर निर्माण पर करदाताओं का पैसा खर्च कर रही है।

जब से देश के सर्वोच्च न्यायालय ने रामलला विराजमान के पक्ष में फैसला सुनाया और अयोध्या में दशकों से चले आ रहे भूमि विवाद को समाप्त कर राम मंदिर के निर्माण की अनुमति दी, तभी से राम मंदिर के निर्माण में उपयोग किए जाने वाले धन को लेकर कई तरह की अफवाहें फैलाई जा रही है।

5 अगस्त 2020 को राम मंदिर भूमि पूजन समारोह के आसपास, कुछ लोग, जो राम मंदिर के निर्माण के खिलाफ हैं, ने आरोप लगाया कि भारत सरकार भूमि पूजन और राम मंदिर निर्माण पर करदाताओं का पैसा खर्च कर रही है।

क्या सरकार भूमि पूजन या राम मंदिर पर पैसा खर्च कर रही है?

ऑपइंडिया ने मामले में सच्चाई जानने के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के प्रवक्ता चंपत राय से संपर्क किया। जब हमने उनसे पूछा कि भूमि पूजन समारोह के लिए भुगतान किसने किया, तो उन्होंने कहा कि इस समारोह का खर्च ट्रस्ट वहन करेगा। हालाँकि, उन्हें अभी तक बिल नहीं मिले हैं। वो कहते हैं कि जैसे ही उन्हें आपूर्तिकर्ताओं से बिल मिलेंगे, वे भुगतान प्रक्रिया शुरू कर देंगे।

जब उनसे ओवैसी जैसे विपक्षी नेताओं के सवाल को लेकर पूछा गया कि वो राम मंदिर या भूमि पूजन के निर्माण पर सवाल उठाते हैं और इसकी तुलना राज्य सरकारों द्वारा आयोजित इफ्तार पार्टियों से करते हैं, तो चंपत राय ने उस पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया और कहा कि उन्हें राजनीतिक बयानों में कोई दिलचस्पी नहीं है। उन्होंने कहा कि वे जो चाहें कह सकते हैं। उसे कोई फर्क नहीं पड़ता।

राम मंदिर निर्माण के लिए भारत सरकार द्वारा दान किया गया धन

भारत सरकार ने वास्तव में राम मंदिर के निर्माण के लिए धन दान किया है। राम मंदिर ट्रस्ट को दिए गए एक रुपए का पहला दान केंद्र सरकार ने ट्रस्ट के गठन के बाद किया था। इस पहले दान के बाद, निर्माण के लिए केंद्र सरकार द्वारा कोई पैसा नहीं दिया गया है।

राम मंदिर निर्माण के लिए योगी आदित्यनाथ द्वारा दिया गया धन

मार्च 2020 में, उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर के निर्माण के लिए 11 लाख रुपए का दान दिया था। हालाँकि, यह धनराशि उन्होंने अपनी बचत में से दान की थी, न कि यूपी सरकार के फंड से। योगी आदित्यनाथ द्वारा राम मंदिर ट्रस्ट को दिया गया चेक सोशल मीडिया पर काफी शेयर किया गया।

प्रधानमंत्री की सुरक्षा केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है। केंद्र सरकार विशेष सुरक्षा समूह का वित्त पोषण करती है, जो विशेष रूप से भारत के प्रधानमंत्री की सुरक्षा का ध्यान रखता है। यदि प्रधानमंत्री किसी भी कारण से किसी भी कार्यक्रम में जा रहे हैं, तो एसपीजी स्थानीय सुरक्षा एजेंसियों के साथ मिलकर पीएम की सुरक्षा सुनिश्चित करती है।

क्या भारत सरकार ने भूमि पूजन या राम मंदिर निर्माण के लिए भुगतान किया?

हमारी टीम ने पाया कि केंद्र सरकार द्वारा शुरुआती दान 1 रुपए के अलावा, केंद्र सरकार ने भूमि पूजन या राम मंदिर निर्माण पर एक पैसा भी खर्च नहीं किया है। सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा किए गए दावे नकली हैं। राम मंदिर ट्रस्ट, दान के माध्यम से दुनिया भर के हिंदू भक्तों से पैसा इकट्ठा कर रहा है। ट्रस्ट ने श्रद्धालुओं से निर्माण के लिए ताँबे की पट्टी दान करने का भी अनुरोध किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe