Wednesday, September 29, 2021
Homeदेश-समाजआतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का वजूद ही नहीं है: पाकिस्तानी सेना

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का वजूद ही नहीं है: पाकिस्तानी सेना

पाकिस्तान की सरकार और सेना के बयानों में विरोधाभास दिख रहा है। पाकिस्तान ने मंगलवार को जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के भाई और बेटे समेत 44 आतंकियों को हिरासत में लेने की बात की थी।

IAF द्वारा पाकिस्तान में मौजूद आतंकवादी संगठनों को ख़त्म करने की घटना के बाद से पाकिस्तान अपने को ‘जोकर’ साबित करने के पूरे सबूत दे चुका है। इसी श्रृंखला में पाकिस्तान की सेना ने आज बयान दिया है कि उनके मुल्क में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का वजूद ही नहीं है। यह चौंकाने वाला दावा पाक सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने किया है। उन्होंने कहा कि इस संगठन को उनके मुल्क और संयुक्त राष्ट्र ने प्रतिबंधित किया है।

पाक सेना के प्रवक्ता गफूर का ये बयान उस वक्त आया है, जब पाक विदेश मंत्री महमूद शाह कुरैशी ने कुछ ही दिन पहले कहा था कि वह जैश के सरगना मसूद अजहर के संपर्क में हैं। इस बीच, बुधवार (मार्च 06, 2019) को ही पाक के वित्त सचिव ने कहा कि वित्तीय प्रतिबंधों से बचने के लिए प्रतिबंधित संगठनों के खिलाफ सरकार को सख्त कदम उठाने चाहिए। इसके अलावा एक साक्षात्कार में पाक विदेश मंत्री कुरैशी ने कहा था कि मसूद अजहर बहुत बीमार है और हम उसके संपर्क में हैं, साथ ही यह भी कहा था कि जैश लीडरशिप से हुई बातचीत में उन्होंने पुलवामा हमले को अंजाम देने से इनकार किया है।

पाकिस्तान की सरकार और सेना के बयानों में विरोधाभास दिख रहा है। पाकिस्तान ने मंगलवार को जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के भाई और बेटे समेत 44 आतंकियों को हिरासत में लेने की बात की थी। पाक विदेश राज्य मंत्री शहरयार अफरीदी ने कहा था कि यह कार्रवाई किसी भी अंतरराष्ट्रीय दबाव में नहीं, बल्कि देश हित में की गई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,032FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe