Friday, April 23, 2021
Home बड़ी ख़बर 2019 में PM की कुर्सी के 8 सबसे बड़े दावेदार: 'ईमानदार बाबा' ने कर...

2019 में PM की कुर्सी के 8 सबसे बड़े दावेदार: ‘ईमानदार बाबा’ ने कर दी भविष्यवाणी

सबसे आख़िर में देश के सबसे बड़े 'समाजसेवी' और अपने 'ईमानदार' बाबा भी इस सूची के लिए सबसे सटीक नाम ख़ुद का बता सकते हैं। हालाँकि उन्होंने अभी लोगों का इस दिशा में मार्गदर्शन नहीं किया है कि वो किस तरह से देश को सोने की चिड़िया बनाएँगे?

देश भर में भाजपा और कॉन्ग्रेस के समर्थक नरेंद्र मोदी और राहुल गाँधी के लिए प्रचार-प्रसार में ख्वामखा मेहनत कर रहे हैं।  क्योंकि भविष्यवाणी हो चुकी है कि देश की पीएम की कुर्सी पर इस बार न तो नरेंद्र मोदी बैठेंगें और न ही आएँगे राहुल गाँधी…। ‘कामदार’ और ‘नामदार’ की कथित लड़ाई में एक ‘ईमानदार’ ने अपनी भाँजी मारते हुए इस भविष्यवाणी की घोषणा की है ।

इस अंतरिम घोषणा के बाद कई श्रद्धालुओं की आँख में उम्मीद के तारे चमकते नज़र आए है। इन श्रद्धालुओं की कतार में यूपी से बंगाल के बाद महाराष्ट्र से मध्यप्रदेश के भी कई नामी चेहरे खड़े नज़र आ सकते हैं।  हालाँकि ‘ईमानदार बाबा’ केजरीवाल ने फ़िलहाल पीएम के पद के लिए अपने किसी भी श्रद्धालु का नाम नहीं लिया है। क्योंकि चुनाव के लिए अपनी पृष्ठभूमि भी तो बनानी है। लेकिन, फिर भी देश की विचलित जनता अपनी बेचैनी को मिटाने के लिए उनसे सवाल पर सवाल दागे जा रही है। साथ ही भारतीय मीडिया भी उनकी इस भविष्यवाणी को ‘बयान’ कहकर लज्जित कर रहा है।

ऐसे में मुझसे बिलकुल नहीं देखा जा रहा है कि लोग दशक की सबसे बड़ी भविष्यवाणी पर इतने सवाल खड़े कर रहे हैं। इसलिए मैं आपको उन श्रद्धालुओं के नाम बता देती हूँ जिनको राहत देने के लिए बाबा ने अपनी इंद्रिय शक्तियों का पूर्ण इस्तेमाल करते हुए भविष्यवाणी को परिणाम बताया है। लेकिन उससे पहले ये बताऊँगी कि किन पाप कर्मों की वजह से बाबा ने इन दो नास्तिकों पर अपनी कृपा नहीं बरसाई।

देखिए, मोदी का तो आप समझ सकते हैं कि, इस समय देश में कामदार व्यक्ति के नाम से पहचाने जाने वाले से हमारे ईमानदार बाबा बहुत ग़ुस्से में हैं। मोदी का लगातार देश के लिए और देश के नागरिकों के लिए काम करना, किसी को पिछले साढ़े 4 साल में हज़म हुआ है जो हमारे बाबा को हो जाएगा…पेट सफा तक की नौबत आ चुकी है साहिब..और तो क्या बोलें…।

कामदार व्यक्ति का लगातार काम करना देश की तस्वीर बदल सकता है, नौजवानों को रोज़गार दिला सकता, घर-घर को रौशन कर सकता है, महिलाओं को सशक्त बना सकता है ऐसे में फिर बाबाओं की भविष्यवाणियों को कौन पूछेगा। बाबाओं का ही धंधा ख़तरे में आ जाएगा। तो इसलिए मोदी का पत्ता उन्होंने पहले ही साफ़ कर दिया है। न दोबारा आएँगे न देश बाबाओं की भविष्यवाणी से ऊपर उठ पाएगा।

अब बात राहुल गाँधी की, मोदी ने तो चलिए देशहित में काम किया तो केजरीवाल बाबा की नाराज़गी ठीक है। लेकिन राहुल गाँधी पर बहुत- बहुत-बहुत सोचने के बाद मुझे ऐसा लगा कि हमारे बाबा को आने वाले समय में कॉम्पीटिशन की वजह से ख़तरा हो सकता है। क्योंकि देश को सोने की चिड़िया दोबारा बनाने के लिए केजरीवाल बाबा सिर्फ़ बात करते हैं जबकि राहुल बाबा पर तो आलू से सोना निकालने की मशीन है।

ऐसे में ज़ाहिर है अपने प्रतिद्वंदी से ख़तरा तो महसूस होता ही है। इसलिए बहुत सोच विचार के बाद, बाबा की घोषणा है- न मोदी होंगे पीएम और ही राहुल…तो कौम होगा पीएम…ममता या मायावती, अखिलेश या फिर तेजस्वी, चंद्रबाबू नायडू या शरद पवार… या हो सकता है ईमानदार बाबा ख़ुद ही अपनी दैवीय शक्तियों के बलबूते पर इस पद पर आसित हो जाएँ…

वैसे ‘बाबा’ के सब श्रद्धालुओं पर पीएम पद तक पहुँचने के लिए अपना-अपना एजेंडा है… इसलिए उन्होंने इसकी ज़मीन भी पहले से तैयार कर ही रखी है।

बाबा के श्रद्धालुओं में सबसे पहले ममता बनर्जी का नाम आता है। हाल ही में बंगाल में इनकी रैली का समर्थन भी बाबा द्वारा किया गया था। देश के पीएम के लिए उम्मीदवारों में सबसे सशक्त नाम इन्हीं का है। ममता की ख़ासियत तो पिछले दिनों देख ही ली गई। अपने ही घोटालों का सच छुपाने के लिए सीबीआई से लड़ाई कर बैठीं हैं। लोकतांत्रिक देश की सेकुलर सीएम अपने अधिकारों का भी इतना इस्तेमाल करना जानती हैं कि वो योगी आदित्यनाथ के प्लेन को अपने राज्य में नहीं उतरने देतीं। सोचिए! वैश्विक स्तर पर ममता देश का नाम कितना रौशन करेंगी।

इसके बाद दूसरा नाम मायावती का आता है। दलितों के लिए देवी बनकर भारतीय राजनीति में उभरे इस नाम ने यूपी की तस्वीर इस तरह बदली है कि अब सुप्रीम कोर्ट की फ़ाइलें सब हालातों को बयान कर रही हैं। अपने कार्यकाल में करीब 615 करोड़ रूपए मायावती ने सिर्फ़ ‘हाथी’ की मूर्तियों को बनावाने में ख़र्च किए थे। ये हाथी ही उनकी पार्टी का चुनाव चिह्न भी था। अगर एक बार मायावती पीएम के पद पर बैठती है तो सोच लीजिएगा, देश के हर कोने में शान बढ़ाने के लिए हाथी ही हाथी बनवाए जाएँगे। फिर चाहे देश के बजट में रोटी-पानी के लिए पैसा बचे या न बचे।

अब बात अखिलेश यादव की…अखिलेश यादव भी देश के पीएम पद के लिए बाबा के तमाम श्रद्धालुओं की कतार में सटीक उम्मीदवार हैं। जैसे उनके सीएम पद से हटने के बाद सरकारी आवास की खस्ता हालात के बारे में पता चला …वैसे ही पीएम पद के बाद वो देश को खस्ता करने में अपनी तरफ से पूरी कोशिश करेंगे। वैसे भी पहले जीतने के लिए वो राहुल बाबा का हाथ थाम चुके थे और अब बुआ की शरण में आ गए हैं। आगे देखिए, पीएम पद तक पहुँचने के बाद ज़िंदगी उन्हें और कितने ईमानदार लोगों का साथ दिलाएगी।

इसके बाद सबसे पढ़े लिखे नेताओं में शुमार तेजस्वी यादव, जीता-जागता उदाहरण हैं कि देश की स्थिति जिस तरह से राजनेता बनाए रखने की कोशिश कर रहे हैं, उस कोशिश को वहीं परिणाम तक पहुँचा सकते हैं। ऐसे में ज़रूरी है पीएम के पद के लिए तेजस्वी यादव का नाम जाए। क्योंकि देश में पढ़ाई से ज्यादा तवज्जो तो इंसान के बैकग्राउंड को दी जाती है। और जिनके पिताजी ख़ुद लालू प्रसाद हों…उन्हें फिर काहे बात की दिक्कत, बिना किसी क़ाबिलियत भी वो देश को गड्ढे में ले जा सकते हैं। इसलिए श्रद्धालुओं की कतार में पीएम पद के लिए एक नाम तेजस्वी का भी लिया जा सकता है।

इनके अलावा हो सकता है आने वाले समय में चंद्रबाबू नायडू, शरद पवार, फ़ारूख़ अब्दुल्लाह, आज़म ख़ान जैसे बड़े नेता भी पीएम की कुर्सी के लिए बाबा की शरण में खड़े दिखाई दें। क्योंंकि विवादित बयानों का तो दौर चला है और फिर इतनी काबिलियत वाले लोग देश के पीएम की कुर्सी को संभालना क्यों नहीं चाहेंगे। उम्र चाहे 28 की हो या फिर 78 की, जोश आज भी सबमें उतना ही हैं। और, हमारे ईमानदार बाबा को इन सबकी क़द्र है।

सबसे आख़िर में देश के सबसे बड़े समाजसेवी और अपने ईमानदार बाबा भी इस सूची के लिए सबसे सटीक नाम अपना ख़ुद का बता सकते हैं। हालाँकि उन्होंने अभी लोगों का इस दिशा में मार्गदर्शन नहीं किया है कि वो किस तरह से देश को सोने की चिड़िया बनाएँगे लेकिन वो लगातार अपनी भविष्यवाणियों से आपको इन बातों से अवगत कराते रहेंगे। आने वाले समय में भी आप उनसे जुड़े रहे ताकि चुनाव के परिणामों की घोषणा से पहले ही आपको सब जानकारी मिलती रहे। श्रद्धालुओं के नाम में आगे और भी घोषणाएँ हो सकती हैं।

इसके लिए आप ईमानदार बाबा और उनकी भविष्यवाणियों को ज़्यादा से ज़्यादा लाइक करें शेयर करें और सब्सक्राइब करें ताकि कोई किसी भी होने वाली घोषणा से आप अछूते और अंजान न रह जाएँ।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी के साथ मीटिंग को केजरीवाल ने बिना बताए कर दिया Live: बात हो रही थी जिंदगी बचाने की, करने लगे राजनीति

इस बैठक में केजरीवाल ने लाचारों की तरह पहले पीएम मोदी से ऑक्सीजन को लेकर अपील की और बाद में बातचीत पब्लिक कर दी।

उनके पत्थर-हमारे अन्न, उनके हमले-हमारी सेवा: कोरोना की लहर के बीच दधीचि बने मंदिरों की कहानी

देश के कई छोटे-बड़े मंदिर कोरोना काल में जनसेवा में लगे हैं। हम आपको उन 5 मंदिरों के बारे में बता रहे हैं, जिनकी सेवा ने सबको प्रभावित किया है।

विरार हो या भंडारा, सवाल वहीः कब तक जड़ता को मुंबई स्पिरिट या दिलेर दिल्ली बता मन बहलाते रहेंगे

COVID-19 की दूसरी लहर बहुत तेज है और अधिकतर राज्यों में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है। पर ऐसा क्यों है कि महाराष्ट्र सरकार के संक्रमण रोकने के प्रयास शुरू से ही असफल दिखाई देते रहे हैं?

B.1.618 ट्रिपल म्यूटेंट कोरोना वायरस: 60 दिनों में 12% केस इसी के, टीकों-एंटीबॉडी का मुकाबला करने में भी सक्षम

"बंगाल में हाल के महीनों में B.1.618 बहुत तेजी से फैला है। B.1.617 के साथ मिलकर इसने पश्चिम बंगाल में बड़ा रूप धारण कर लिया है।"

शाहनवाज दूत है, कोरोना मरीजों के लिए बेच डाला कार: 10 महीने पुरानी खबर मीडिया में फिर से क्यों?

'शाहनवाज शेख ने मरीजों को ऑक्सीजन सिलिंडर मुहैया कराने के लिए अपनी SUV बेच डाली' - जून 2020 में चली खबर अप्रैल 2021 में फिर चलाई जा रही।

13 मरीज अस्पताल में जल कर मर गए, महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा – ‘यह नेशनल न्यूज नहीं’

महाराष्ट्र में आग लगने से 13 कोविड मरीजों की दर्दनाक मौत को लेकर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि यह राष्ट्रीय खबर नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

‘प्लाज्मा के लिए नंबर डाला, बदले में भेजी गुप्तांग की तस्वीरें; हर मिनट 3-4 फोन कॉल्स’: मुंबई की महिला ने बयाँ किया दर्द

कुछ ने कॉल कर पूछा क्या तुम सिंगल हो, तो किसी ने फोन पर किस करते हुए आवाजें निकाली। जानिए किस प्रताड़ना से गुजरी शास्वती सिवा।

सीताराम येचुरी के बेटे का कोरोना से निधन, प्रियंका ने सीताराम केसरी के लिए जता दिया दुःख… 3 बार में दी श्रद्धांजलि

प्रियंका गाँधी ने इस घटना पर श्रद्धांजलि जताने हेतु ट्वीट किया। ट्वीट को डिलीट किया। दूसरे ट्वीट को भी डिलीट किया। 3 बार में श्रद्धांजलि दी।

पाकिस्तान के जिस होटल में थे चीनी राजदूत उसे उड़ाया, बीजिंग के ‘बेल्ट एंड रोड’ प्रोजेक्ट से ऑस्ट्रेलिया ने किया किनारा

पाकिस्तान के क्वेटा में उस होटल को उड़ा दिया, जिसमें चीन के राजदूत ठहरे थे। ऑस्ट्रेलिया ने बीआरआई से संबंधित समझौतों को रद्द कर दिया है।

अम्मी कोविड वॉर्ड में… फिर भी बेहतर बेड के लिए इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने डॉक्टर का सिर फोड़ा: UP पुलिस से सस्पेंड

इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने डॉक्टर को पीटा। ये बवाल उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में कोविड-19 लेवल थ्री स्वरूपरानी अस्पताल (SRN Hospital) में हुआ।

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

293,859FansLike
83,529FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe