प्रधानमंत्री बनने से ‘लगभग’ चूक जाएँगे ये लोकप्रिय चेहरे

गठबंधन भिक्षु से लेकर टोंटीचोर तक, अपने पर्स की प्रतिमा बनवाने से चुनावी हिंसा में विरोधियों को मौत के घाट उतारने वाली बहन और दीदी तक, जादूगर राहुल गाँधी से लेकर चिरयुवा राहुल गाँधी तक, ख्वाब बहुतों ने देखे लेकिन मोदी ने उन्हें धो कर सुखा दिया।

इस लोकसभा चुनाव में सबसे रोचक बात ये रही कि चुनाव जीतने से ज्यादा सर फुटव्वल प्रधानमन्त्री पद के उम्मीदवारों के बीच देखने को मिली। इसका सबसे पहला कारण तो महागठबंधन जैसे संक्रामक रोगों की उत्पत्ति थी और दूसरा कारण ‘कनविनिएंट वामपंथन’ और किराए पर उपलब्ध प्रदर्शनकारी शेहला रशीद के ‘मन की बात’ है। चुनाव के रुझान अब लगभग यही बता रहे हैं कि लोकप्रिय नरेंद्र मोदी एक बार फिर प्रधानमंत्री पद की शपथ लेते हुए देखना चाहते हैं।

इसी रुझान के साथ, तमाम EVM हैकिंग से लेकर डर के माहौल के बीच अन्य कई प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवारों के अरमानों का शीघ्रपतन देखने को मिला है। इस प्रकार बड़े ही दुःख के साथ यह सूचित करना पड़ रहा है कि देश ने एकसाथ आज लगभग 22 प्रधानमंत्री खो दिए हैं। हालाँकि, जो लोग अभी तक नेहरू-इंदिरा को ही अपना प्रधानमंत्री मानते आए हैं, वो अभी भी उन 22 चेहरों में अपना प्रधानमंत्री तलाशने के लिए स्वतंत्र हैं।

एक नजर उन सभी चेहरों पर जो ‘लगभग’ प्रधानमंत्री बनते-बनते रह जाएँगे

1 – गठबंधन भिक्षु सर अरविन्द केजरीवाल

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पिछले 1 साल से गठबंधन की भीख माँग रहे अरविन्द केजरीवाल को कोई और प्रधानमंत्री बनते देखना चाहे या न चाहे लेकिन बलात्कार पीड़ितों के नाम पर चंदा इकठ्ठा कर के अकेले डकार जाने वाली हायब्रिड वामपंथ की डोमेस्टिक विचारक शेहला रशीद उन्हें प्रधानमंत्री बनते देखना चाहती थीं। हैरानी की बात ये है कि ये मन की बात उन्होंने 4 महीनों तक पटियाला हाउस कोर्ट के बाहर जमकर कूटे गए और बेगूसराय सीट से फिलहाल ‘लगभग’ एक लाख वोटों से पीछे चल रहे कम्युनिस्ट कामरेड नेता कन्हैया कुमार के लिए चुनाव प्रचार करते वक़्त कभी नहीं रखी। हालाँकि, रोडशो के दौरान लप्पड़ खाकर चंदा जुटाने में शायद वो जरूर कामयाब रहे होंगे, लेकिन प्रधानमंत्री तो वो नहीं बन रहे हैं। अरविन्द केजरीवाल का ये डर कि नरेंद्र मोदी उनकी हत्या करवा देंगे, हो सकता है अभी लम्बे समय तक चलता रहे।

लगभग प्रधानमंत्री का प्रतीकात्मक चित्र

2 – PM IN WAITING, डिम्पलधारी, चिरयुवा, अध्यक्ष श्री राहुल गाँधी जी

नेहरू के बाद एकमात्र लाखों-करोड़ों लोगों की एकमात्र पसंद कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी को और 5 साल PM पद का सबसे योग्य उम्मीदवार बनने का सौभाग्य प्राप्त होने वाला है। उन्होंने रवीश कुमार को दिए गए गैर-राजनीतिक और निष्पक्ष इंटरव्यू में यह भी माना था कि 23 मई को जो भी नतीजे आएँगे, वो उसको ही मानेंगे। अब देखना ये है कि वो जनता के इस निर्णय को सर आँखों पर बिठाते हैं या फिरसे 5 साल तक जनता को जेब में एक ओर से हाथ डालकर दूसरी तरफ से निकालने और आलू से सोना बनाने का चमत्कार करते हुए नजर आते हैं। जो भी हो, जनता में चाहे राहुल गाँधी की लहर ना हो, लेकिन यह शत प्रतिशत तय है कि भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच में राहुल गाँधी का क्रेज पूरा है।

‘बेटा सत्ता जहर है और सुन, आएगा तो मोदी ही’ (PM in waiting का प्रतीकात्मक चित्र )

3 – टोंटीचोर अध्यक्ष अखिलेश यादव

अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव जी टोंटी, चिलम और पकौड़ों के स्वाद में इतना उलझे रहे कि उन्हें चुनाव में पूरी ताकत झोंकने का मौका ही नहीं मिल पाया। नेताजी श्री मुलायम सिंह यादव ने पहले ही कह दिया था कि उनकी आस्था नरेंद्र मोदी हैं, शायद यही बुजुर्गों का आशीर्वाद युवा अध्यक्ष जी को मिल नहीं पाया। हालाँकि, कुछ लोग तो ये भी कयास लगा रहे हैं कि चुनाव प्रचार के दौरान आखिरी समय पर कठिन सवाल पूछने की चॉइस रखने वाला एक निष्पक्ष पत्रकार का साया उनके प्राइवेट चॉपर में घुस आया था। वो निष्पक्ष पत्रकार कौन था, यह अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है।

टोंटी के साथ अध्यक्ष जी

4 – बहन मायावती

बसपा प्रमुख मायावती ने एग्जिट पोल के बाद तक भी मोदी विरोधियों को दिलासा दिया कि मोदी लहर कुछ नहीं होती है ये सब उनके मन का वहम है। NDTV जैसी निष्पक्ष मीडिया गिरोह को तो कल शाम को ये भी कहते देखा गया कि क्या भाजपा प्रधानमंत्री पद के लिए मायावती को अपना समर्थन देगी क्योंकि वो PM बनना चाहती हैं। यह बहुत बड़ी विडंबना है कि मायावती को गेस्ट हाउस प्रकरण के बाद भी समाजवादी पार्टी के साथ मंच पर बैठना पड़ा और उन्हें प्रधानमंत्री भी नहीं बनाया जा रहा है।

उन्नत भारत की दुखद तस्वीर

5 – ममता बनर्जी

सबसे पहले तो ममता बनर्जी को प्रधानमंत्री ना बन पाने की हार्दिक ‘जय श्री राम’। जिस तरह से TMC के गुंडों ने चुनाव के पहले से लेकर चुनाव के दौरान भी गुंडागिर्दी के द्वारा मतदाताओं से लेकर भाजपा तक को आतंकित कर के रखा, उससे ममता बनर्जी के सपनों के लोकतंत्र की झलक अवश्य मिलती है। पश्चिम बंगाल में TMC के गुंडों द्वारा RSS कार्यकर्ताओं की हत्या से लेकर हिन्दुओं पर किए जा रहे अत्याचार के सामने नरेंद्र मोदी द्वारा लगातार जनता का विश्वास जीतते रहना लोकतंत्र की सबसे बड़ी हत्या ही है। खैर, जो भी है, जय श्री राम।

ममता बनर्जी
तृणमूल कॉन्ग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी

6 – के चंद्रशेखर राव यानी, केसीआर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘तुच्छ’ बताने वाले तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (केसीआर) भी इस लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री पद के अग्रणी उम्मीदवारों में से एक थे। भले ही देश में ग़ैर-भाजपा और ग़ैर-कॉन्ग्रेसी फ्रंट बनाने का सपना देखने वाले केसीआर शायद अकेले नेता होंगे। इसके लिए उन्होंने वर्तमान समय में भारत के एकमात्र वामपंथी मुख्यमंत्री पी. विजयन तक से बातचीत का रास्ता अपनाया। लेकिन, रुझान बता रहा है कि जनता का मूड इस समय सिर्फ ‘राइट‘ ही है।

केसीआर कह रहे हैं कि गई भैंस पानी में

7 – चंद्रबाबू नायडू

आंध्र प्रदेश के CM (फिलहाल) चंद्र बाबू नायडू इनकम टैक्स की रेड के बाद ‘सेव इंडिया, सेव डेमोक्रेसी, की राह पकड़ने के बाद ‘गंभीर परिणामों’ की भी चेतावनी देते हुए देखे गए। एक समय पर ऐसा लग रहा था कि अगर मोदी विरोधी दल सत्ता में आता है, तो चंद्रबाबू नायडू प्रमुख भूमिका में नजर आएँगे, लेकिन उनकी पार्टी लोकसभा और विधानसभा दोनों ही में बुरी तरह से पिटी है। ईवीएम के मुद्दे पर विपक्ष की आवाज बुलंद करने वाले आंध्र प्रदेश के सीएम एन चंद्रबाबू नायडू राज्य के विधानसभा चुनावों में भी बुरी तरह पिछड़ने के बाद मुख्यमंत्री पद भी गँवा बैठे। 175 सीटों में से 152 सीटों पर वाईएसआरसीपी (YSRCP) के साथ, जगन मोहन रेड्डी राज्य अगले सीएम बनने के लिए तैयार हैं।

जनता ने दे दिए हैं गंभीर परिणाम
शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

नयनतारा सहगल जैसे लोग केवल व्यक्ति नहीं हैं, प्रतीक हैं- उस मानव-प्रवृत्ति का, उस ध्यानाकर्षण की लिप्सा और लोलुपता का, जिसके चलते इंसान अपने बूढ़े हो जाने, और अपने विचारों का समय निकल जाने के चलते हाशिए पर पहुँच जाने, अप्रासंगिक हो जाने को स्वीकार नहीं कर पाता।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

अरविन्द केजरीवाल

लड़की पर पब्लिकली हस्तमैथुन कर फरार हुआ आदमी: मुफ्त मेट्रो से सुरक्षा नहीं मिलती

आप शायद 'सुरक्षा' के नाम पर महिलाओं को मेट्रो में मुफ्त यात्रा करा सकते हैं, लेकिन आप यह कैसे सुनिश्चित करेंगे कि महिलाएँ वहाँ सुरक्षित हैं?
आसिया अंद्राबी

‘मैं हवाला के पैसे लेकर J&K में बवाल करवाती थी, उन्हीं पैसों से बेटे को 8 साल से मलेशिया में पढ़ा रही हूँ’

जम्मू-कश्मीर की अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी सहित गिरफ्तार अलगाववादी नेताओं ने 2017 के जम्मू-कश्मीर आतंकी फंडिंग मामले में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर ली है। आसिया अंद्राबी ने कबूल किया कि वो विदेशी स्रोतों से फंड लेती थी और इसके एवज में...
हिन्दू धर्म और प्रतीकों का अपमान फैशन है क्योंकि कोई कुछ कहता नहीं

Netflix पर आई है ‘लैला’, निशाने पर हैं हिन्दू जिन्हें दिखाया गया है तालिबान की तरह

वो पीढ़ी जिसने जब से होश संभाला है, या राजनैतिक रूप से जागरुक हुए हैं, उन्होंने भारत का इतिहास भी ढंग से नहीं पढ़ा, उनके लिए ऐसे सीरिज़ ही अंतिम सत्य हो जाते हैं। उनके लिए यह विश्वास करना आसान हो जाता है कि अगर इस्लामी आतंक है तो हिन्दू टेरर क्यों नहीं हो सकता।
दि प्रिंट और दीपक कल्लाल

सेक्स ही सेक्स… भाई साहब आप देखते किधर हैं, दि प्रिंट का सेक्सी आर्टिकल इधर है

बढ़ते कम्पटीशन के दौर में सर्वाइवल और नाम का भार ढोते इन पोर्टलों के पास नग्नता और वैचारिक नकारात्मकता के अलावा फर्जीवाड़ा और सेक्स ही बचता है जिसे हर तरह की जनता पढ़ती है। लल्लनपॉट यूनिवर्सिटी से समाज शास्त्र में पीएचडी करने वाले ही ऐसा लिख सकते हैं।
जय भीम-जय मीम

जय भीम जय मीम की कहानी 72 साल पुरानी… धोखा, विश्वासघात और पश्चाताप के सिवा कुछ भी नहीं

संसद में ‘जय भीम जय मीम’ का नारा लगा कर ओवैसी ने कोई इतिहास नहीं रचा है। जिस जोगेंद्र नाथ मंडल ने इस तर्ज पर इतिहास रचा था, खुद उनका और उनके प्रयास का हश्र क्या हुआ यह जानना-समझना जरूरी है। जो दलित वोट-बैंक तब पाकिस्तान के हो गए थे, वो आज क्या और कैसे हैं, इस राजनीति को समझने की जरूरत है।
हार्ड कौर, मोहन भागवत, योगी आदित्यनाथ

सस्ती लोकप्रियता के लिए ब्रिटिश गायिका ने मोहन भागवत को कहा ‘आतंकी’, CM योगी को बताया ‘Rape-Man’

"भारत में हुए सारे आतंकी हमलों के लिए मोहन भागवत ही ज़िम्मेदार हैं, चाहे वो 26/11 का मुंबई हमला हो या फिर पुलवामा हमला। इतिहास में महात्मा बुद्ध और महावीर ने ब्राह्मणवादी जातिवाद के ख़िलाफ़ लड़ाइयाँ लड़ी थीं। तुम एक राष्ट्रवादी नहीं हो, एक रेसिस्ट और हत्यारे हो।"
नितीश कुमार

अप्रिय नितीश कुमार, बच्चों का रक्त अपने चेहरे पर मल कर 103 दिन तक घूमिए

हॉस्पिटल का नाम, बीमारी का नाम, जगह का नाम, किसकी गलती है आदि बेकार की बातें हैं, क्योंकि सौ से ज़्यादा बच्चे मर चुके हैं। इतने बच्चे मर कैसे जाते हैं? क्योंकि भारत में जान की क़ीमत नहीं है। हमने कभी किसी सरकारी कर्मचारी या नेता को इन कारणों से हत्या का मुकदमा झेलते नहीं देखा।
औली-उत्तराखंड

200 करोड़ रुपया गुप्ता का, ब्याह गुप्ता के लौंडे का और आपको पड़ी है बदरंग बुग्याळ और पहाड़ों की!

दो सौ से दो हजार तक साल लगते हैं उस परत को बनने में जिस भूरी और बेहद उपजाऊ मिट्टी के ऊपर जन्म लेती है 10 से 12 इंच मोती मखमली घास यानी बुग्याळ! और मात्र 200 करोड़ रुपए लगते हैं इन सभी तथ्यों को नकारकर अपने उपभोक्तावाद के आगे नतमस्तक होकर पूँजीपतियों के समक्ष समर्पण करने में।
पाकिस्तान

ईश-निंदा में फ़ँसे Pak हिन्दू डॉक्टर लटकाए जा सकते हैं सूली पर… लेकिन ‘इनटॉलेरेंस’ भारत में है

जिन्हें अपने देश भारत के कानून इतने दमनकारी लगते हैं कि लैला जैसी डिस्टोपिया बनाकर वह मुसलमानों की प्रताड़ना दिखाना चाहते हैं, उन्हें केवल एक हफ़्ते पाकिस्तान में बिता कर आना चाहिए। आपके हिन्दूफ़ोबिक यूटोपिया जितना तो अच्छा नहीं है, लेकिन वैसे हिंदुस्तान का लोकतंत्र काफी अच्छा है...
पत्रकारिता के नाम पर संवेदनहीनता और बेहूदगी आम हो चुकी है

जब रिपोर्टर मरे बच्चे की माँ से भी ज़्यादा परेशान दिखने लगें…

नर्स एक बीमार बच्चे के बेड के पास खड़ी होकर कुछ निर्देश दे रही है और हमारे पत्रकार माइक लेकर पिले पड़े हैं! ये इम्पैक्ट किसके लिए क्रिएट हो रहा है? क्या ये मनोरंजन है कुछ लोगों के लिए जिनके लिए आप पैकेज तैयार करते हैं? फिर आपने क्या योगदान दिया इस मुद्दे को लेकर बतौर पत्रकार?

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

50,880फैंसलाइक करें
8,839फॉलोवर्सफॉलो करें
69,851सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: