Wednesday, August 12, 2020
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष व्यंग्य: विकास दुबे एनकाउंटर पर बकैत कुमार की प्राइमटाइम स्क्रिप्ट हुई लीक

व्यंग्य: विकास दुबे एनकाउंटर पर बकैत कुमार की प्राइमटाइम स्क्रिप्ट हुई लीक

मैं सोच नहीं पा रहा हूँ कि मेरे सवालों के उत्तर कौन देगा? 7 दिनों में 5 लोगों को एनकाउंटर में मार गिराया ताकि यह साबित किया जा सके कि यह सरकार ब्राह्मणों को भी नहीं छोड़ती। वैसे भी अजय सिंह बिष्ट तो क्षत्रिय हैं, ब्राह्मणों से तो बस वोट लेते हैं। ब्राह्मण लोग भी नहीं समझ पा रहे ये खेल।

नमस्कार, मैं बकैत कुमार! आखिर करोड़ों अल्पसंख्यकों को एनकाउंटर में मरवाने वाले योगी ने आज एक ब्राह्मण को भी मरवा ही दिया। मैंने देखा मीडिया के भी कई लोग बेतहाशा खुश हैं, जबकि मुझे लगता है एक समाज के तौर पर हम हार गए हैं।

यह एनकाउंटर कई सवाल उठाता है। यह एनकाउंटर कई बातें छुपाता भी है। अब कोई सीएए विरोधी रैलियों में मारे गए अल्पसंख्यकों को याद नहीं करेगा। अब सब बाबा की बूटी पी कर नाचेंगे कि देखो-देखो योगी ब्राह्मणों को भी नहीं छोड़ता। जबकि सत्य इसके बिलकुल ही विपरीत है।

विकास दुबे ब्राह्मण था ही नहीं। वो तो अल्पसंख्यक समुदाय का एक व्यक्ति था जिसका असली नाम था वकार दाऊद कनपुरिया। पिछले कुछ सालों में डर का माहौल कुछ ऐसा रहा कि वकार दाऊद को मजहब त्याग कर गोबर खिला कर हिंदू बनाया गया। उसे कहा गया कि यूपी में रहना है, तो योगी-योगी कहना है। साथ ही, यह भी कहा गया कि योगी-योगी तो सिर्फ़ हिन्दुओं में होता है, अतः हिन्दू बनना पड़ेगा। लेकिन गोदी मीडिया आपको ये सब नहीं बताएगा। सब मैनेज किया जा चुका है। हम एक समाज के तौर पर हार चुके हैं।

इस पूरे प्रकरण में मैं देख पा रहा हूँ अपने कमरे से कि एक साजिश रची गई, पूरी तरह से फिल्मी पटकथा बनाई गई। आप सोचिए कि जिस योगी के प्रदेश में कानून का इतना बोलबाला है, अपराधी स्वयं सरेंडर करने आते थे, उसमें आठ पुलिस वालों की हत्या हो जाती है? मैं पूछता हूँ क्या आपने वो लाशें देखी हैं? मेरा मतलब है पर्सनली देखी है जा कर?

- विज्ञापन -

फिर आप कैसे मान रहे हैं कि 8 पुलिस वाले सच में मरे या गोदी मीडिया में वकार दाऊद उर्फ विकास दुबे को मारने का एक कारण खोजते हुए यह खबर फैला दी गई? आप कहेंगे कि परिवार वालों के बयान हैं, तो मैं पूछूँगा कि क्या आप जानते हैं कि वही असली परिवार वाले हैं? उन्हें दो किलो गेहूँ दे कर भी तो तैयार किया जा सकता है। मीडिया वाले तो ऐसा अक्सर करते हैं। हाल ही में राजदीप ने आदिवासी बच्चियों पर जो कार्यक्रम किया था, वो तो ऐसे ही मैनेज हुआ है।

दूसरी बात, चलो मार भी दिया सच में, तो आपको नहीं लगता कि ये फिल्मी है? फिल्मों में ही तो पुलिस वाले मरते हैं। वो जाते हैं, कोई बता देता है कि आ रहे हैं, और फिर ऊपर से फायरिंग होती है, आठ लोग बलिदान हो जाते हैं। सवाल कई हैं, लेकिन ये राज भी विकास के ही साथ चला जाएगा।

मैं सोच नहीं पा रहा हूँ कि मेरे सवालों के उत्तर कौन देगा? 7 दिनों में 5 लोगों को एनकाउंटर में मार गिराया ताकि यह साबित किया जा सके कि यह सरकार ब्राह्मणों को भी नहीं छोड़ती। वैसे भी अजय सिंह बिष्ट तो क्षत्रिय हैं, ब्राह्मणों से तो बस वोट लेते हैं। ब्राह्मण लोग भी नहीं समझ पा रहे ये खेल।

जब तक वो पकड़ा नहीं गया था, मैंने स्क्रिप्ट बना ली थी कि नमस्कार मैं बकैत कुमार, आखिर इतने दिन क्यों लग रहे हैं एक अपराधी को पकड़ने में जबकि हर जगह भाजपा की ही सरकार है? क्या विकास दुबे को दुबे होने के कारण बचाया जा रहा है? क्या विकास दुबे को गुप्त रास्ते से नेपाल भेज दिया गया? क्या विकास दुबे को राजनैतिक संरक्षण मिला हुआ है?

अमूमन जो सरकार पाकिस्तान पर एयर स्ट्राइक करने में समय नहीं गँवाती उसे एक गुंडा जी नहीं मिल रहे? कहाँ हैं वो तमाम सैटेलाइट जो आकाश में छोड़े गए कि भाई चार मीटर ऊपर से फोटो खींच लेता है? मोदी जी तो खुद खड़े रह कर लॉन्च करते थे। कुछ भक्त तो यह भी कहते हैं मोदी जी ने स्वयं ही हाथों से कार्टोसैट कक्षा में स्थापित किया था। तो बोलो न मोदी जी को कि सैटेलाइट को फोन करें और विकास दुबे का पता लगा लें?

विकास दुबे को मारा नहीं जाएगा, जैसे कि बिजनौर के किसी सलमान को मार दिया जाता है। उसे जेल में रखने के नाम पर योगी सरकार उसे जेल से ही सत्ता चलाने का सुख देगी और एवज में ब्राह्मणों का वोट पाएगी। आप खेल समझिए सारा। जैसा कि कपिल देव जी कहते हैं कि ये थोड़ा कठिन जरूर है लेकिन मुश्किल नहीं।

अब आज सुबह खबर आई कि एनकाउंटर हो गया। स्क्रिप्ट बदलनी पड़ी। जज्बात बदल गए, हालात बदल गए, दिन बदल गया, शाम बदल गई! एनकाउंटर का एक ही मतलब होता है कि सत्ता में जो लोग हैं उनको बचाना। ये मैं नहीं जानता कि विकास दुबे के पास किसके संपर्क थे। मेरे सूत्रों ने मुझे तीन तस्वीरें दिखाई जिससे साबित हो जाता है कि इसके तार अमेरिका तक जुड़े हुए हैं।

मैंने तो देखा है कि एक फोटो में विकास दुबे अखिलेश यादव के साथ पोस्टर में है। वही अखिलेश यादव मोदी से मिल रहे हैं, और मोदी ट्रम्प से गले मिल रहे हैं। आप समझ रहे हैं बात को? एक आदमी, तीन तस्वीरें और एक अंतरराष्ट्रीय एंगल। आखिर ट्रम्प उस व्यक्ति से क्यों मिलेगा जो उस व्यक्ति से मिल चुका हो जिसका पोस्टर विकास दुबे के साथ है। उनका तो सीक्रेट सर्विस सब पता रखता है!

इसीलिए, उत्तर प्रदेश पुलिस ने डॉलर ले कर, ट्रम्प का नाम न आए, ऐसा सोच कर उसे निपटा दिया। आपको पता ही है कि इसी साल नवंबर में अमेरिका में चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में यूपी के किसी अपराधी से तार जुड़े होना, ब्लैक लाइव्स मैटर के दौर में, अमेरिकी राष्ट्रपति की छवि बर्बाद कर सकती है।

मैं आपको कुछ नहीं कह रहा, मैं बस तथ्य सामने रख रहा हूँ। अगर एनकाउंटर न होता, उससे पूछताछ होती तो बहुत नाम बाहर आ जाते। ये कोई नहीं जानता कि विकास दुबे के पीछे के असली अपराधी कौन थे। लेकिन जिस तरह से ‘असली अपराधी’ तो बच गया कहा जा रहा है, मुझे ऐसा लगता है कि किसी व्यक्ति का नाम ही ‘असली अपराधी’ है। लोग समझ रहे हैं कि ये जातिवाचक संज्ञा हैं, जबकि ये तो व्यक्तिवाचक भी हो सकता है।

ख़ैर जो भी हो, मेरे ख्याल से जो हुआ है, वो लोकतंत्र की हत्या है। न कोई न्यायिक प्रक्रिया, न कोई वकील, न जज… पुलिस की गाड़ी पलट गई, उसने पिस्तौल निकाली और भागने लगा, पुलिस ने आत्मरक्षा में गोली चलाई और बात खत्म! ये सब फिल्मी कथानक जैसा है। लेकिन दिल है कि मानता नहीं।

आप कहेंगे कि बकैत जी, आपने तो स्वयं ही कहा कि जेल में रहता तो राज चलाता, अब एनकाउंटर हो गया तो भी आपको दिक्कत है, आखिर चाहते क्या हैं आप? देखिए, हम पत्रकार हैं, हमारा काम है सवाल करना। फिर भी आप जवाब माँग रहे हैं तो सुनिए, ध्यान से:

विकास दुबे को जेल में डालने पर वो संरक्षण में अपराध करवाता, रंगदारी करता। उसको मार दिया तो असली अपराधी बच गए हैं। इसलिए उत्तम रास्ता तो यही होता कि उससे पूछताछ कर के छोड़ देते। न जेल में रहता, न भीतर से राज करता और जिंदा भी रहता तो असली अपराधी भी नहीं बचते। पूछताछ में कुछ बता देता तो भी ठीक, नहीं बताता तो कहते कि जेल में रखने पर तो भीतर से राज करने लगेगा…

हें हें हें… नमस्कार!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पैगंबर मुहम्मद पर खबर, भड़के दंगे और 17 लोगों की मौत: घटना भारत की, जब दो मीडिया हाउस पर किया गया अटैक

वो 5 मौके, जब पैगंबर मुहम्मद के नाम पर इस्लामी कट्टरता का भयावह चेहरा देखने को मिला। मीडिया हाउस पर हमला भारत में हुआ था, लोग भूल गए होंगे!

भारत में नौकरी कर रहे चायनीज ने की ₹1000+ करोड़ की मनी लॉन्ड्रिंग, IT विभाग ने किया भंडाफोड़

IT विभाग को छानबीन में हवाला से जुड़े दस्तावेज मिले हैं। इसके साथ ही हॉन्ग कॉन्ग की करेंसी और अमेरिकी डॉलर भी हाथ लगे हैं।

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट लिखने वाला हुआ अरेस्ट: बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा हिंसा में 150 दंगाई गिरफ्तार

बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा दलित विधायक के घर पर हमले, दंगे, आगजनी और पत्थरबाजी के मामले में CM येदियुरप्पा ने कड़ा रुख अख्तियार किया।

वामपंथियों को दिल्ली दंगों की सच्चाई नहीं आ रही रास, 20 अगस्त को भेजेंगे ओपन लेटर, गुप्त सूचना हुई लीक

पुलिस जाँच कर रही है। लेकिन दिल्ली दंगों की जाँच में निकल कर आ रहे नाम और इलाके वामपंथियों के गले की हड्डी बनते जा रहे हैं। इसी कारण से...

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट, दलित कॉन्ग्रेस MLA के घर पर हमला: 1000+ मुस्लिम भीड़, बेंगलुरु में दंगे व आगजनी

बेंगलुरु में 1000 से भी अधिक की मुस्लिम भीड़ ने स्थानीय विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर को घेर लिया और तोड़फोड़ शुरू कर दी।

मौलाना ने 9 साल की अपनी ही स्टूडेंड का किया रेप, अब बच्ची से शादी कराने और केस वापस लेने की धमकी

जिस मौलाना पर रेप का आरोप, उसके परिवार वाले पीड़ित बच्ची के परिवार पर दबाव बना रहे कि वो 9 साल की बच्ची की शादी मौलाना से कर दे और...

प्रचलित ख़बरें

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट, दलित कॉन्ग्रेस MLA के घर पर हमला: 1000+ मुस्लिम भीड़, बेंगलुरु में दंगे व आगजनी

बेंगलुरु में 1000 से भी अधिक की मुस्लिम भीड़ ने स्थानीय विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर को घेर लिया और तोड़फोड़ शुरू कर दी।

गोधरा पर मुस्लिम भीड़ को क्लिन चिट, घुटनों को सेक्स में समेट वाजपेयी का मजाक: एक राहत इंदौरी यह भी

"रंग चेहरे का ज़र्द कैसा है, आईना गर्द-गर्द कैसा है, काम घुटनों से जब लिया ही नहीं...फिर ये घुटनों में दर्द कैसा है" - राहत इंदौरी ने यह...

महेश भट्ट की ‘सड़क-2’ में किया जाएगा हिन्दुओं को बदनाम: आश्रम के साधु के ‘असली चेहरे’ को एक्सपोज करेगी आलिया

21 साल बाद निर्देशन में लौट रहे महेश भट्ट की फिल्म सड़क-2 में एक साधु को बुरा दिखाया जाएगा, आलिया द्वारा उसके 'काले कृत्यों' का खुलासा...

मस्जिद के अवैध निर्माण के खिलाफ याचिका डालने वाले वकील पर फायरिंग, अतीक अहमद गैंग का हाथ होने का दावा

प्रयागराज में बदमाशों ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के वकील अभिषेक शुक्ला पर फायरिंग की। हमले में वे बाल-बाल बच गए।

बुर्के वाली औरतों की टीम तैयार की गई थी, DU के प्रोफेसर अपूर्वानंद ने दंगों का दिया था मैसेज: गुलफिशा ने उगले राज

"प्रोफेसर ने हमे दंगों के लिए मैसेज दिया था। पत्थर, खाली बोतलें, एसिड, छुरियाँ इकठ्ठा करने के लिए कहा गया था। सभी महिलाओं को लाल मिर्च पाउडर रखने के लिए बोला था।"

सुशांत के फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिथानी का पकड़ा गया झूठ! चौकीदार ने कहा- सुशांत की बॉडी के बारे में नहीं बताया गया

सिद्धार्थ पिथानी ने पहले दावा किया था कि उन्होंने सुशांत की बॉडी देखने के बाद चौकीदार को सूचित किया था, मगर चौकीदार का कहना है कि उसे किसी ने कुछ भी नहीं बताया।

जो बना CAA विरोधी उपद्रव का गढ़, जहाँ नसीरुद्दीन शाह ने उगला था जहर: बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ ने वहीं किया दंगा

भारत के लिबरल गैंग जिस भी चीज का हद से ज्यादा गुणगान करे, उसके बारे में समझ जाना चाहिए कि वो उतना ही ज्यादा खतरनाक है। उदाहरण के लिए दिल्ली के शाहीन बाग को ही ले लीजिए। इसी क्रम में बेंगलुरु के बिलाल बाग को भी प्रचारित किया गया।

पैगंबर मुहम्मद पर खबर, भड़के दंगे और 17 लोगों की मौत: घटना भारत की, जब दो मीडिया हाउस पर किया गया अटैक

वो 5 मौके, जब पैगंबर मुहम्मद के नाम पर इस्लामी कट्टरता का भयावह चेहरा देखने को मिला। मीडिया हाउस पर हमला भारत में हुआ था, लोग भूल गए होंगे!

बेंगलुरु दंगा के पीछे SDPI का हाथ: मुजम्मिल पाशा ने हिंसा भड़काने के लिए बाँटे थे रुपए, 165 हिरासत में

पूर्वी बेंगलुरु में हुई इस घटना के मामले में 'सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI)' के नेता मुजम्मिल पाशा को गिरफ्तार किया गया है। वो इन दंगों का मास्टरमाइंड है।

पैंगबर से ज्यादा तारीफ इंसान की, गाना लिख कर वायरल करने वाले संगीतकार को अब मौत की सजा

यहाया फिलहाल हिरासत में हैं। गाना कंपोज करने के बाद से वह छिपते फिर रहे थे। जिसके कारण प्रदर्शनकारियों ने उनके परिवार के घर को जला दिया।

रायबरेली में बने भव्य बाबरी मस्जिद, सुप्रीम कोर्ट ने नहीं माना कि राम मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनी थी: मुनव्वर राना

मुनव्वर राना की बेटी सुमैया ने भी कहा कि अयोध्या के राम मंदिर परिसर में ही छोटी सी मस्जिद बनाने के लिए इजाजत दी जानी चाहिए थी।

भारत में नौकरी कर रहे चायनीज ने की ₹1000+ करोड़ की मनी लॉन्ड्रिंग, IT विभाग ने किया भंडाफोड़

IT विभाग को छानबीन में हवाला से जुड़े दस्तावेज मिले हैं। इसके साथ ही हॉन्ग कॉन्ग की करेंसी और अमेरिकी डॉलर भी हाथ लगे हैं।

ऑपइंडिया एक्सक्लूसिव: 400 Gb/s की इंटरनेट स्पीड, इस समुद्री केबल से बदलेगी अंडमान-निकोबार की तस्वीर

अंडमान-निकोबार में कनेक्टिविटी से वहाँ अनगिनत अवसर पैदा होंगे। पीएम मोदी ने कहा कि 2300 KM पनडुब्बी केबल तय समय से पहले बिछा लिया गया।

नाबालिग हिन्दू लड़कियों को नशे का आदी बना रहा था जावेद: इंस्टाग्राम पर दोस्ती कर ले जाता था हुक्का बार

मेरठ के जावेद खान (नाबालिग, इसीलिए बदला हुआ नाम) का पेशा प्रतिष्ठित हिन्दू कॉलनियों की लड़कियों को हुक्का बार ले जाकर नशे का आदी बनाना है।

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट लिखने वाला हुआ अरेस्ट: बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा हिंसा में 150 दंगाई गिरफ्तार

बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा दलित विधायक के घर पर हमले, दंगे, आगजनी और पत्थरबाजी के मामले में CM येदियुरप्पा ने कड़ा रुख अख्तियार किया।

गोधरा पर मुस्लिम भीड़ को क्लिन चिट, घुटनों को सेक्स में समेट वाजपेयी का मजाक: एक राहत इंदौरी यह भी

"रंग चेहरे का ज़र्द कैसा है, आईना गर्द-गर्द कैसा है, काम घुटनों से जब लिया ही नहीं...फिर ये घुटनों में दर्द कैसा है" - राहत इंदौरी ने यह...

हमसे जुड़ें

246,500FansLike
64,617FollowersFollow
295,000SubscribersSubscribe
Advertisements