Sunday, July 5, 2020
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति हिन्दू धर्म को लील रहे मिशनरी: तमिलनाडु में मतांतरण का 'धंधा', स्वराज्य की रिपोर्ट

हिन्दू धर्म को लील रहे मिशनरी: तमिलनाडु में मतांतरण का ‘धंधा’, स्वराज्य की रिपोर्ट

सरगुनाम का दावा है कि उसने एक करोड़ तमिल हिन्दुओं को ईसाई बनाया है और पाँच लाख चर्च राज्य भर में खड़े किए हैं। बकौल स्वराज्य, उसकी 'ट्रेनिंग' बिली ग्राहम नामक अमेरिकी पादरी के अंतर्गत हुई थी, जो डार्विन के जैवीय विकास सिद्धांत का विरोधी था, और यहूदियों के खिलाफ नस्लवादी बातें करने के लिए बदनाम था।

ये भी पढ़ें

स्वराज्य पत्रिका ने तमिलनाडु में चल रही ईसाई मिशनरियों की मतांतरण की फैक्ट्री का पर्दाफाश करते हुए एक रिपोर्ट जारी की है। द्रविड़ आंदोलन, ‘आर्य-द्रविड़ विभाजन’ जैसे बोगस मुद्दों के ज़रिए तमिलनाडु में हिंदुत्व/हिन्दू धर्म की जड़ों को दीमक की तरह चाट रहे पादरियों का कच्चा चिट्ठा रिपोर्ट में बयान है, और किस तरह से ‘सेक्युलरिज़्म’ के पिछले दरवाजे और द्रविड़वादी पार्टियों की साँठ-गाँठ से लोकप्रथाओं के साथ खिलवाड़ कर हिन्दुओं को ईसाई बनाने का खेल चल रहा है, इस पर विस्तार से बताया गया है।

‘द्रविड़ आंदोलन हमारा टाइम बम है हिंदुत्व के खिलाफ’

रिपोर्ट की शुरुआत में ही स्वराज्य उद्धृत करती है तमिलनाडु के प्रख्यात आध्यात्मिक गुरु और शिक्षाविद चित् भावानन्द को। बकौल स्वराज्य, चित भावानंद के सामने एक बार एक मदुरै के ईसाई बिशप ने (शेखी बघारते हुए?) कहा था कि द्रविड़ आँदोलन चर्च की ओर से लगाया हुआ एक टाइम बम है, हिंदुत्व को नष्ट करने के लिए। रिपोर्ट इस पर आगे बताती है कि कैसे तमिलनाडु में एक झूठा इतिहास पढ़ाया जा रहा है जिसमें द्रविड़वादी नस्लभेद और ईसाई प्रोपेगैंडा का मिश्रण होता है। और इसमें तीन मुख्य किरदारों के नाम और उनकी करतूतें भी स्वराज्य खुल कर बताती है।

बिशप एज़रा सरगुनाम

“हिन्दू धर्म/हिंदुत्व जैसी कोई चीज़ नहीं होती; जो बोले होती है, उसे पीट-पीटकर अक्ल ठिकाने पर ले आओ” जैसी साम्प्रदायिक रूप से भड़काऊ बातें करने वाला यह पादरी स्वराज्य के अनुसार कोई हाशिए पर पड़ा ‘fringe element’ नहीं है, बल्कि द्रविड़वादी सत्ता के गलियारों में खासी पहुँच रखता है। हिंसा भड़काने की अपील के अलावा सत्ता की दलाली, गठबंधन बनवाना-बिगड़वाना भी इसके शगल हैं। 1960 के दशक में सरगुनाम ने कुम्भ में आकर भी हिन्दुओं के बीच उनके देवताओं को ‘शैतान’ बताने की हिमाकत की थी। श्रद्धालुओं के कोप से उलटे पैर वापिस होना पड़ा।

सरगुनाम का दावा है कि उसने एक करोड़ तमिल हिन्दुओं को ईसाई बनाया है और पाँच लाख चर्च राज्य भर में खड़े किए हैं। बकौल स्वराज्य, उसकी ‘ट्रेनिंग’ बिली ग्राहम नामक अमेरिकी पादरी के अंतर्गत हुई थी, जो डार्विन के जैवीय विकास सिद्धांत का विरोधी था, और यहूदियों के खिलाफ नस्लवादी बातें करने के लिए बदनाम था।

फादर जगत गास्पर

इस कैथोलिक पादरी के उभार को स्वराज्य सीधे-सीधे द्रमुक से जोड़ती है। आरोप है कि यह तमिल हिन्दुओं की लोक परम्पराओं को पहले ‘सेक्युलर’ बनाता है, और बाद में धीरे-धीरे जब लोग यह भूल जाते हैं कि यह ‘सेक्युलर’ नहीं, हिन्दू परम्पराएँ हैं, तो चर्च हिन्दुओं के टैक्स के पैसे से सहायता पाने वाले ईसाई शिक्षा संस्थानों के ज़रिए उन पर ईसाई बाना चस्पा कर लोगों के मतांतरण का खेल चालू कर देता है। इसके अलावा गास्पर एक तथाकथित ‘विद्वान’ मा. से. विक्टर के लेखन का प्रसार करने वाला प्रकाशन भी चलाता है, जिसमें तमिलों को ईसाईयत की ओर आकर्षित करने वाले प्रोपेगंडे किए जाते हैं; उदाहरण के तौर पर, यह दावा किया जाता है कि एडम (ईसाई मिथकों के अनुसार परमात्मा का बनाया पहला इंसान) तमिल बोलता था। ऐसे दावों को द्रमुक शासन राज्य में जब भी आता है तो ऊपर से धकेला जाता है।

ऐसे प्रोपेगंडे से पहले भरे गए द्रविड़ अलगाववाद को हवा दी जाती है, और उसके बाद उसकी आग से तमिलों की हिंदुत्व से गर्भनाल को जला दिया जाता है। बकौल स्वराज्य, “अतः जब द्रमुक बिशपों का समर्थन करती है, तो यह केवल तात्कालिक वोट-बैंक की राजनीति नहीं होती।” यह हिन्दुओं और हिंदुत्व के खिलाफ नस्लवाद और ईसाईयत का ‘कॉकटेल’ होता है।

मोहन सी लज़ारस

मोहन सी लज़ारस ईसाई प्रचारक है, जिसका दावा है कि ईसा मसीह ने उसके हृदय रोग का इलाज कर उसे ईसाईयत के प्रचार का आदेश दिया था। धार्मिक, श्रद्धालु तमिल हिन्दू परिवार में पैदा हुए मोहन लज़ारस का जन्म का नाम मुरुगन था। आज लज़ारस को कट्टर और रूढ़िवादी ईसाई के रूप में देखा जाता है, और स्टरलाइट प्लांट के खिलाफ तुतुकुडी में हुए आँदोलन में भी उसकी भूमिका मानी जाती है।

स्वराज्य के अनुसार उसके मंच पर अक्सर स्टालिन जैसे द्रमुक नेता देखे जा सकते हैं और उसने अपना हेडक्वार्टर एक रणनीति के तहत प्राचीन हिन्दू तीर्थस्थल तिरुचेंडूर के बगल में नालूमावाडी में बनाया है। बकौल स्वराज्य, उसका एक विवादस्पद वीडियो सामने आया था जहाँ उसने तमिलनाडु में मंदिरों की बड़ी संख्या को इंगित करते हुए राज्य को ‘शैतान’ का गढ़ करार दिया था

तमिलनाडु महत्वपूर्ण क्यों

तमिलनाडु कई कारणों से हिंदुत्व का वह गढ़ है जिसकी हिन्दुओं को सबसे अधिक रक्षा करने की आवश्यकता है, और हिन्दू-विरोधियों की सबसे गिद्ध-दृष्टि भी इस पर है। पहला कारण तो यह कि हिन्दू आध्यात्मिक परम्पराएँ अपने विशुद्ध, मूल रूप में दक्षिण भारत में, विशेषतः तमिलनाडु में सर्वाधिक सुरक्षित हैं। उत्तर भारत और उत्तरी दक्षिण भारत में इस्लामी आक्रमण और इस्लाम के राजनीतिक रूप से थोपे जाने से कई हिन्दू परम्पराएँ (जैसे वाराह मूर्ति, नरसिंह आदि का पूजन) केवल तमिलनाडु में आज भी जीवंत हैं।

हाल ही में जब काशी विश्वनाथ मंदिर में 238 वर्ष बाद कुम्भाभिषेकं को पुनर्जीवित करने का प्रयास हुआ तो यह अहसास हुआ कि काशी में सभी को यह विधि विस्मृत हो चुकी थी- तब एक तमिल व्यक्ति ने इसकी विधि बताई थी। इसके अलावा चिदंबरम नटराजा समेत पाँच में से चार पंचभूतस्थळं, अरुणाचलम पहाड़ी समेत कई सारे विशिष्ट मंदिर और आध्यात्मिक महत्व के स्थान भी तमिलनाडु में हैं।

राजनीतिक दृष्टि से भी देखें तो तमिलनाडु का द्रविड़ आंदोलन कहीं-न-कहीं अन्य दक्षिणी भाषाई समूहों- मलयाली, तेलुगु, कन्नड़ को भी प्रभावित करता है। जब तमिलनाडु में हिंदी-विरोधी या द्रविड़ नस्लवादी आंदोलन जोर पकड़ता है तो वह इन राज्यों में प्रतिध्वनित हुए बगैर नहीं रहता।

ऐसे में तमिलनाडु में हिन्दू धर्म के खिलाफ बन रहे इस चक्रव्यूह के बारे में अगर राजनीतिक रूप से ज़्यादा कुछ न भी हो सके तो कम-से-कम एक सांस्कृतिक वार्तालाप शुरू किए जाने की तत्काल आवश्यकता है। यह धर्म और संस्कृति की भी ज़रूरत है, और इस देश की राजनीति की भी। और अगर किसी को लगता है कि कृत्रिम रूप से बदली जा रही पंथिक पहचान अगर इस देश के राजनीतिक भविष्य और स्थिरता को खतरे में नहीं डालेगी, तो उन्हें पाकिस्तान मूवमेंट के उद्भव को एक बार और पढ़ने की ज़रूरत है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

‘द वायर’ और ‘द हिन्दू’ के पत्रकार ने किया भगवान हनुमान का अपमान, कहा- ‘हनुमान का राम पर समलैंगिक क्रश था’

‘द वायर’ और ‘द हिंदू’ जैसी कुख्यात वामपंथी वेबसाइटों में रोजगार प्राप्त करने की एकमात्र शर्त हिंदूफोबिक विचारों को पोषित और प्रकट करना है। ऐसा इसलिए, क्योंकि हिंदू-विरोधी प्रवृत्ति लंबे समय से इन वेबसाइटों से जुड़े पत्रकारों और लेखकों की पहचान रही है।

गलवान घाटी में सिर्फ कृपाण से 12 चीनी सैनिकों को मारकर बलिदान हुए 23 साल के गुरतेज सिंह की कहानी

20 बहादुरों में एक नाम 23 साल के सिपाही गुरतेज सिंह का भी है। गुरतेज सिंह ने बलिदान होने से पहले 12 चीनी सैनिकों को अपने कृपाण से ही ढेर कर दिया।

कॉन्ग्रेस नेताओं और भाजपा विरोधियों ने फर्जी खबरें फैलाईं: PM मोदी की लेह सैन्य अस्पताल विजिट को कहा दिखावा, ये रहा सच

अस्पताल के कॉन्फ्रेंस हॉल को मामूली चोटों वाले सैनिकों के लिए अस्पताल में बदल दिया गया है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इसका मंचन करने के लिए यह सब किया गया था।

ताहिर हुसैन ने न केवल दंगे की योजना बनाई और भीड़ को भड़काया, बल्कि हिंदुओं पर पत्थर और पेट्रोल बम भी फेंके: चार्जशीट में...

अब तक, ताहिर हुसैन की संलिप्तता चाँद बाग में हिन्दू विरोधी दंगों की योजना बनाने और दंगों को फंडिग करने की बात सामने आई थी। मगर अब यह भी पाया गया कि वह 'काफिरों' (हिंदुओं) के ऊपर पत्थर......

ब्रिटिशर्स के खिलाफ सशस्त्र आदिवासी विद्रोह के नायक थे अल्लूरी सीताराम राजू: आज जिनकी जयंती है

अल्लूरी को सबसे अधिक अंग्रेजों के खिलाफ रम्पा विद्रोह का नेतृत्व करने के लिए याद किया जाता है, जिसमें उन्होंने ब्रिटिशर्स के खिलाफ विद्रोह करने के लिए विशाखापट्टनम और पूर्वी गोदावरी जिलों के आदिवासी लोगों को संगठित किया था।

काफिरों को देश से निकालेंगे, हिन्दुओं की लड़कियों को उठा कर ले जाएँगे: दिल्ली दंगों की चार्ज शीट में चश्मदीद

भीड़ में शामिल सभी सभी दंगाई हिंदुओं के खिलाफ नारे लगा रहे और कह रहे थे कि इन काफिरों को देश से निकाल देंगे, मारेंगे और हिंदुओं की लड़कियों को.......

प्रचलित ख़बरें

जातिवाद के लिए मनुस्मृति को दोष देना, हिरोशिमा बमबारी के लिए आइंस्टाइन को जिम्मेदार बताने जैसा

महर्षि मनु हर रचनाकार की तरह अपनी मनुस्मृति के माध्यम से जीवित हैं, किंतु दुर्भाग्य से रामायण-महाभारत-पुराण आदि की तरह मनुस्मृति भी बेशुमार प्रक्षेपों का शिकार हुई है।

गणित शिक्षक रियाज नायकू की मौत से हुआ भयावह नुकसान, अनुराग कश्यप भूले गणित

यूनेस्को ने अनुराग कश्यप की गणित को विश्व की बेस्ट गणित घोषित कर दिया है और कहा है कि फासिज़्म और पैट्रीआर्की के समूल विनाश से पहले ही इसे विश्व धरोहर में सूचीबद्द किया जाएगा।

‘व्यभिचारी और पागल Fuckboy थे श्रीकृष्ण, मैंने हिन्दू ग्रंथों में पढ़ा है’: HT की सृष्टि जसवाल के खिलाफ शिकायत दर्ज

HT की पत्रकार सृष्टि जसवाल ने भगवान श्रीकृष्ण का खुलेआम अपमान किया है। उन्होंने श्रीकृष्ण को व्यभिचारी, Fuckboy और फोबिया ग्रसित पागल (उन्मत्त) करार दिया है।

व्यंग्य: अल्पसंख्यकों को खुश नहीं देखना चाहती सरकार: बकैत कुमार दुखी हैं टिकटॉकियों के जाने से

आज टिकटॉक बैन किया है, कल को वो आपका फोन छीन लेंगे। यही तो बाकी है अब। आप सोचिए कि आप सड़क पर जा रहे हों, चार पुलिस वाला आएगा और हाथ से फोन छीन लेगा। आप कुछ नहीं कर पाएँगे। वो आपके पीछे-पीछे घर तक जाएगा, चार्जर भी खोल लेगा प्लग से........

नेपाल के कोने-कोने में होऊ यांगी की घुसपैठ, सेक्स टेप की चर्चा के बीच आज जा सकती है PM ओली की कुर्सी

हनीट्रैप में नेपाल के पीएम ओली के फँसे होने की अफवाहों के बीच उनकी कुर्सी बचाने के लिए चीन और पाकिस्तान सक्रिय हैं। हालॉंकि कुर्सी बचने के आसार कम बताए जा रहे हैं।

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के घर पर चला बुलडोजर, भाभी के पास मिली पिस्तौल: तलाश में पुलिस की 100 टीमें

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर पुलिस का शिकंजा कसता जा रहा है। एक तरफ उसकी तलाश में पुलिस लगातार दबिश दे रही है, दूसरी तरफ उसके घर पर बुलडोजर चलाया जा रहा है।

Covid-19: भारत में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या हुई 648315, मृतकों की संख्या 18655

भारत में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 6,48,315 हो गई। इनमें से वर्तमान में 2,35,433 सक्रिय मामले हैं। ठीक होने वालों का आँकड़ा इनमें 3,94,227 का है, जबकि घातक संक्रमण से मरने वाले 18,655 लोग हैं।

जानिए रूसी शहर व्लादिवोस्तोक पर क्यों नजर गड़ाए है चीन, क्या है उसकी विस्तारवादी नीति?

चीन कम से कम 21 देशों के जमीन पर अवैध रूप से कब्जा किए हुए है। भले ही अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय ने उसके संदिग्ध दावों को खारिज कर दिया है, मगर फिर भी चीन फिलीपींस में द्वीपों के स्वामित्व पर जोर देता है।

‘द वायर’ और ‘द हिन्दू’ के पत्रकार ने किया भगवान हनुमान का अपमान, कहा- ‘हनुमान का राम पर समलैंगिक क्रश था’

‘द वायर’ और ‘द हिंदू’ जैसी कुख्यात वामपंथी वेबसाइटों में रोजगार प्राप्त करने की एकमात्र शर्त हिंदूफोबिक विचारों को पोषित और प्रकट करना है। ऐसा इसलिए, क्योंकि हिंदू-विरोधी प्रवृत्ति लंबे समय से इन वेबसाइटों से जुड़े पत्रकारों और लेखकों की पहचान रही है।

गलवान घाटी में सिर्फ कृपाण से 12 चीनी सैनिकों को मारकर बलिदान हुए 23 साल के गुरतेज सिंह की कहानी

20 बहादुरों में एक नाम 23 साल के सिपाही गुरतेज सिंह का भी है। गुरतेज सिंह ने बलिदान होने से पहले 12 चीनी सैनिकों को अपने कृपाण से ही ढेर कर दिया।

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को किया ढेर, दो जवान घायल

शनिवार को ही सुरक्षाबलों ने राजौरी जिले के थानामंडी इलाके में मौजूद आतंकी ठिकाने का भंडाफोड़ कर दिया। सुरक्षाबलों ने तलाशी अभियान के दौरान आतंकी......

दुनिया के कई देशों ने दिया भारत का साथ: LAC पर टकराव के लिए चीन को ठहराया ज़िम्मेदार, विस्तारवादी नीति का विरोध

प्रधानमंत्री का यह दौरा चीन के लिए साफ़ संदेश था कि भारत किसी भी तरह का विवाद होने पर पीछे नहीं हटेगा। इन बातों के बावजूद यह उल्लेखनीय है कि दुनिया के किन-किन देशों ने भारत का समर्थन करते हुए क्या कुछ कहा है?

कॉन्ग्रेस नेताओं और भाजपा विरोधियों ने फर्जी खबरें फैलाईं: PM मोदी की लेह सैन्य अस्पताल विजिट को कहा दिखावा, ये रहा सच

अस्पताल के कॉन्फ्रेंस हॉल को मामूली चोटों वाले सैनिकों के लिए अस्पताल में बदल दिया गया है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इसका मंचन करने के लिए यह सब किया गया था।

ताहिर हुसैन ने न केवल दंगे की योजना बनाई और भीड़ को भड़काया, बल्कि हिंदुओं पर पत्थर और पेट्रोल बम भी फेंके: चार्जशीट में...

अब तक, ताहिर हुसैन की संलिप्तता चाँद बाग में हिन्दू विरोधी दंगों की योजना बनाने और दंगों को फंडिग करने की बात सामने आई थी। मगर अब यह भी पाया गया कि वह 'काफिरों' (हिंदुओं) के ऊपर पत्थर......

COVAXIN के मानव परीक्षण के लिए विहिप नेता सुरेंद्र जैन ने खुद को किया प्रस्तुत, कहा- मुझ पर किया जाए वैक्सीन का परीक्षण

भारत बायोटेक द्वारा बनाई गई देश की पहली कोरोना वायरस वैक्सीन की मानव परीक्षण करने की योजना बना रही है। इस बीच विहिप के वरिष्ठ नेता डॉ सुरेंद्र जैन ने कोरोना वैक्सीन के मानवीय परीक्षण के लिए खुद को प्रस्तुत करने का निवेदन किया है।

ब्रिटिशर्स के खिलाफ सशस्त्र आदिवासी विद्रोह के नायक थे अल्लूरी सीताराम राजू: आज जिनकी जयंती है

अल्लूरी को सबसे अधिक अंग्रेजों के खिलाफ रम्पा विद्रोह का नेतृत्व करने के लिए याद किया जाता है, जिसमें उन्होंने ब्रिटिशर्स के खिलाफ विद्रोह करने के लिए विशाखापट्टनम और पूर्वी गोदावरी जिलों के आदिवासी लोगों को संगठित किया था।

हमसे जुड़ें

234,194FansLike
63,099FollowersFollow
269,000SubscribersSubscribe