Tuesday, July 16, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिपिता ने राम मंदिर के लिए खाई गोली, इंतजार करते-करते माँ का राम नवमी...

पिता ने राम मंदिर के लिए खाई गोली, इंतजार करते-करते माँ का राम नवमी पर हुआ देहांत: प्राण प्रतिष्ठा का न्योता पाकर भावुक हुईं कारसेवक संजय सिंह की बेटी, बोलीं- सपना पूरा हुआ

बिहार के मुजफ्फरपुर में बलिदानी कारसेवक संजय कुमार की बेटी के घर राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का न्यौता भेजा है। कारसेवक संजय के परिजन ये निमंत्रण मिलने से बेहद खुश हैं। पिछले 32 सालों से परिवार ने ने राम मंदिर का संपना संजोया था। उनकी पत्नी को राम मंदिर की आस में 2019 में राम नवमी के दिन देह त्याग गईं।

बिहार के मुजफ्फरपुर में बलिदानी कारसेवक संजय कुमार की बेटी के घर राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का न्योता गया है। कारसेवक संजय के परिजन ये निमंत्रण मिलने से बेहद खुश हैं। पिछले 32 सालों से परिवार ने ने राम मंदिर का संपना संजोया था। उनकी पत्नी तो राम मंदिर की आस में 2019 में राम नवमी के दिन देह त्याग गईं, लेकिन उनकी बेटियों को इस पल का खास इंतजार था।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, 1990 में अन्य कारसेवकों की तरह संजय कुमार सिंह भी बहुत उत्साह के साथ राम मंदिर निर्माण का सपने लिए अपने घर से निकले थे। लेकिन उन्हें नहीं पता था वो वापस नहीं लौट पाएँगे। कारसेवकों पर जब गोली चलाई गई तो वो गोलियाँ संजय कुमार सिंह को भी लगी, जिससे उनकी मौत हो गई।

परिवार बताता है कि अंतिम संस्कार तक के लिए संजय सिंह का शव उन्हें घर पर नहीं पहुँचाया गया था। बेटियाँ उस समय मात्र 2 साल और 45 दिन की थीं। संजय सिंह के जाने के बाद उनकी पत्नी ने ही बेटियों का लालन पालन कड़े संघर्ष के साथ किया। आज संजय सिंह की बेटी कृति को जब निमंत्रण मिला तो वह काफी खुश हुईं। भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, कृति ने रोते हुए कहा कि पिता का सपना पूरा हो रहा है इसलिए उन्हें बहुत अच्छा लग रहा है।

कृति ने कहा, “पिताजी ने मंदिर के लिए अपनी जान दे दी थी। उस समय मेरी उम्र सिर्फ 45 दिन की थी और मेरी बड़ी बहन दो साल थी। माँ ने बड़ी कठिनाइयों के साथ हमें पाला। मुझे तो पता भी नहीं कि हमारे पापा इस दुनिया में नहीं है। बड़े होने पर माँ ने बताया कि उनके पिता ने राम मंदिर के लिए जान दी थी। मुझे उस समय जानकर बहुत दुख हुआ था। लेकिन माँ कहती रहती थी कि उनका सपना जरूर पूरा होगा। आज माँ नहीं है। उनका देहांत साल 2019 में रामनवमी के दिन हुआ था।”

बता दें कि अयोध्या राम जन्मभूमि के लिए मर मिटने वाले कारसेवकों पर ऑपइंडिया लगातार ग्राउंड रिपोर्ट अपने पाठकों के लिए ला रहा है। हाल में हमने आपको कारसेवक महावीर अग्रवाल के बारे में बताया था जिनके सीने में गोली दागी गई थी और जिंदा हालत में ही उन्हें मृतकों के साथ गाड़ी में ठूँस दिया गया था। इसी तरह कारसेवक राम बहादुर वर्मा, भगवान सिंह जाट, अचल गुप्ता जैसे कारसेवकों के साथ क्या ज्यादती हुई थी उनके परिवार पर क्या गुजरी ये भी हमने इस सीरिज में बताया है। आप लिंक पर क्लिक करके उसे पढ़ सकते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

किसानों के प्रदर्शन से NHAI का ₹1000 करोड़ का नुकसान, टोल प्लाजा करने पड़े थे फ्री: हरियाणा-पंजाब में रोड हो गईं थी जाम

किसान प्रदर्शन के कारण NHAI को ₹1000 करोड़ से अधिक का नुकसान झेलना पड़ा। यह नुकसान राष्ट्रीय राजमार्ग 44 और 152 पर हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -