Thursday, June 13, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिअबूधाबी में भव्य हिन्दू मंदिर का PM मोदी ने किया उद्घाटन, पत्थर पर लिखा...

अबूधाबी में भव्य हिन्दू मंदिर का PM मोदी ने किया उद्घाटन, पत्थर पर लिखा उपनिषद का सन्देश: अक्षय कुमार और UAE के मंत्री रहे मौजूद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने UAE (यूनाइटेड अरब अमीरात) के अबुधाबी में भव्य हिन्दू मंदिर का उद्घाटन किया। BAPS (बोचासनवासी अक्षर पुरुषोत्तम) स्वामीनारायण मंदिर 108 फ़ीट ऊँचा है। न सिर्फ UAE के हिन्दू समाज, बल्कि भारत-यूएई के रिश्तों में भी ये मंदिर एक नया अध्याय जोड़ेगा। स्वामीनारायण संस्था हिन्दू धर्म के वैष्णव संप्रदाय का हिस्सा है। दुनिया भर में इसके 1550 मंदिर हैं। नई दिल्ली और गुजरात के गाँधीनगर में स्थित अक्षर धाम मंदिर इसके सबसे लोकप्रिय मंदिरों में से एक है।

अभिनेता अक्षय कुमार भी मंदिर के उद्घाटन समारोह में मौजूद रहे। इस दौरान पीएम मोदी ने स्वामीनारायण की मूर्ति का अभिषेक भी किया। उन्होंने वहाँ पर बच्चों के साथ भी संवाद किया, उनकी कलाकृतियाँ देखीं। इस दौरान UAE के सहिष्णुता एवं सह-अस्तित्व मंत्री नाह्यान बिन मुबारक अल नाह्यान भी मौजूद रहे। मंदिर में एक पत्थर पर पीएम मोदी ने ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ का संदेश भी लिखा, जो उपनिषद से लिया गया है। मंदिर के कलाकारों से भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बातचीत की।

लंदन, हॉस्टन, शिकागो, अटलांटा, टोरंटो, लॉस एंजेल्स और नैरोबी जैसे दुनिया के सबसे बड़े व समृद्ध शहरों तक में BAPS स्वामीनारायण मंदिर हैं। दुनिया भर में इसके 3850 केंद्र हैं। साथ ये ये हर सप्ताह 17,000 आयोजनों को संपन्न कराता है। प्रमुख स्वामी जी महाराज संस्था के 10वें अध्यक्ष हैं, जिन्होंने 5 अप्रैल, 1997 को इस रेगिस्तान में एक भव्य हिन्दू मंदिर का सपना देखा था। UAE में अभी 33 लाख से भी अधिक भारतीय रहते हैं, ऐसे में संस्था की सोच थी कि वहाँ उनके लिए पूजा स्थल होने चाहिए।

इस मंदिर को 7 शिखर के साथ निर्मित किया गया है। नागर शैली में बने इस मंदिर का अगला हिस्सा वैश्विक मूल्यों की ओर इंगित करता है, वहीं जहाँ विभिन्न संस्कृतियों में सद्भाव का संदेश है, हिन्दू ऋषि-मुनियों को दर्शाया गया है और अवतारों की गाथाएँ कही गई हैं। ये मंदिर परिसर 27 एकड़ में फैला हुआ है, जिसमें से 13.5 एकड़ में मुख्य मंदिर है। 13.5 एकड़ का पार्किंग एरिया है, जिसमें 1400 कारण और 50 बसों को आराम से खड़ा किया जा सकता है।

2019 में UAE के राष्ट्रपति मोहम्मद बिन ज़याद अल नाह्यान ने ये भूमि हिन्दू मंदिर के लिए उपहार में दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन से एक दिन पहले मंगलवार (13 जनवरी, 2024) को आयोजित एक कार्यक्रम में बताया भी कि यूएई के राष्ट्रपति ने कहा था कि वो जिस जमीन पर लकीर खींच देंगे, उसे मंदिर के लिए दे दिया जाएगा। इस मंदिर के सभागार में 3000 लोग एक साथ भजन-कीर्तन कर सकते हैं। मंदिर को 2020 में सर्वेश्रेष्ठ इंटीरियर डिजाइन और 2019 में MEP मिडल ईस्ट अवॉर्ड्स में सर्वश्रेष्ठ मेकेनिकल प्रोजेक्ट का सम्मान मिला।

ये मंदिर 108 फ़ीट ऊँचा, 262 फ़ीट लंबा और 180 फ़ीट चौड़ा है। इसमें राजस्थान के बलुआ पत्थर और इटली के संगमरमर का इस्तेमाल किया गया है। 20,000 टन पत्थर और संगमरमर 700 कंटेनरों में लाया गया था। मंदिर के निर्माण में 700 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। मंदिर में कोई भी जंग लगने वाली वस्तु का इस्तेमाल नहीं किया गया है। भारत के अलग-अलग क्षेत्रों के देवी-देवताओं की प्रतिमाएँ हैं। मंदिर के पास एक ‘नदी’ भी बनाई गई है, जिसमें गंगा और यमुना का जल डाला गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -