Sunday, September 19, 2021
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिमहाकाल परिसर में खुदाई में मिला वृहद शिवलिंग, 2100 साल पुराने मंदिर का अवशेष:...

महाकाल परिसर में खुदाई में मिला वृहद शिवलिंग, 2100 साल पुराने मंदिर का अवशेष: नरकंकाल से तेज हुई मुगल आक्रांताओं द्वारा नरसंहार की आशंका

महाकाल मंदिर के दक्षिणी भाग में जमीन से 4 मीटर नीचे एक प्राचीन दीवार मिली है, जिसकी आयु लगभग 2,100 वर्ष मानी जा रही है। मंदिर की वास्तुकला और कलाकारी काफी सुंदर बताई जा रही है।

उज्जैन के प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर में विस्तारीकरण का कार्य कई महीनों से चल रहा है। इसी दौरान मंगलवार (10 अगस्त 2021) को खुदाई के दौरान एक विशाल शिवलिंग और भगवान विष्णु की प्रतिमा मिली। इसके अलावा मंदिर के दक्षिणी भाग में जमीन से लगभग 4 मीटर नीचे एक प्राचीन दीवार भी मिली है, जो लगभग 2,100 साल पुरानी मानी जा रही है। हालाँकि, पुरातत्व विभाग की टीम द्वारा इस शिवलिंग की जाँच की जा रही है, जिसके बाद यहाँ स्थित प्राचीन मंदिर के बारे में रहस्य सुलझाया जा सकेगा।

महाकाल मंदिर परिसर में चल रहा खुदाई का कार्य

विस्तारीकरण के कार्य में लगे मजदूरों ने शिवलिंग मिलने की जानकारी समिति को दी, जिसके बाद इसकी सूचना पुरातत्व विभाग को दी गई। बुधवार की सुबह उज्जैन पहुँचे पुरातत्व विभाग के अधिकारियों ने खुदाई में मिली प्रतिमाओं का अध्ययन किया। पुरातत्व अधिकारी ध्रुवेंद्र जोधा ने शिवलिंग के बारे में बताया कि यह शिवलिंग लगभग 5 फुट का है। यह जितना जमीन के ऊपर है उतना ही जमीन के अंदर भी है।

जोधा के अनुसार, 9वीं-10वीं शताब्दी का यह जलाधारी शिवलिंग परमारकालीन है। इसके अलावा शिवलिंग के आसपास जो ईंटें दिखाई दे रही हैं, वे गुप्तकालीन यानी 5वीं शताब्दी की बताई जा रही हैं। इसके साथ ही यहाँ पर 10वीं शताब्दी की एक चतुर्भुजी भगवान विष्णु की प्रतिमा भी मिली है, जो स्थानक मुद्रा में है।

महाकाल मंदिर परिसर में चल रहा खुदाई के दौरान मिला शिवलिंग

महाकाल मंदिर के विस्तारीकरण के कार्य के दौरान मंदिर के उत्तरी हिस्से में 11वीं-12वीं शताब्दी का मंदिर जमीन के नीचे दबा हुआ है, जिसमें स्तम्भ खंड, शिखर के भांग, रथ का भांग, भरवाई कीचक ये सब शामिल हैं। इसके अलावा महाकाल मंदिर के दक्षिणी भाग में जमीन से 4 मीटर नीचे एक प्राचीन दीवार मिली है, जिसकी आयु लगभग 2,100 वर्ष मानी जा रही है। मंदिर की वास्तुकला और कलाकारी काफी सुंदर बताई जा रही है। हालाँकि, मंदिर के भूमिगत होने के विषय में फिलहाल कोई जानकारी नहीं मिली है।

कुछ दिनों पहले यहाँ मानव कंकाल भी मिले थे। विस्तारीकरण कार्य में चल रही खुदाई के दौरान यहाँ मंदिर के अवशेषों के साथ मानव हड्डियाँ और जानवरों की हड्डियाँ भी मिली थीं। पुरातत्व एक्सपर्ट्स का मानना है कि जब मंदिरों पर आक्रमण किया जा रहा था, उसी समय के ये मानव कंकाल हो सकते हैं। इन कंकालों के अध्ययन से यह पता चल पाएगा कि ये कंकाल मुगलकालीन इस्लामिक आक्रमण के हैं या उनसे पहले आए मुस्लिम आक्रांताओं के आक्रमण के समय के।

हालाँकि, अधिक संभावना मुगलकालीन की ही जताई जा रही है, जब मुगल कट्टरपंथियों ने आक्रमण करके न केवल मंदिरों में लूटपाट और उनका विध्वंस किया था, बल्कि मंदिर के भक्तों और साधुओं का बड़े पैमाने पर नरसंहार भी किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe