Wednesday, June 12, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृति'विधिवत संपन्न हो राम मंदिर का काज, आशीर्वाद...' : 2 मठों के शंकराचार्यों ने...

‘विधिवत संपन्न हो राम मंदिर का काज, आशीर्वाद…’ : 2 मठों के शंकराचार्यों ने प्राण-प्रतिष्ठा के लिए भेजी शुभकामनाएँ, ये महामंत्र जाप करने का संदेश

राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से पहले उल-जुलूल खबरों को फैलाने का कार्य किया जा रहा है। हाल में फैलाया गया था कि इस आयोजन से देश के चारों शंकराचार्यों ने दूरी बनाई है। अब इन्हीं खबरों को निराधार बताते हुए दो मठों के शंकराचार्यों ने राम मंदिर के लिए आयोजित कार्यक्रम के सफल होने की काम की है।

राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से पहले उल-जुलूल खबरों को फैलाने का कार्य किया जा रहा है। कैसे भी कोशिश है कि पूरे आयोजन पर सवाल खड़े हो सकें। इसी क्रम में बताया गया था कि देश के चारों शंकराचार्यों ने इस आयोजन से दूरी बना रहे हैं। अब इन्हीं खबरों को निराधार बताते हुए दो मठों के शंकराचार्यों ने राम मंदिर के लिए आयोजित कार्यक्रम के विधिवत सफलतापूर्व संपन्न होने की कामना की है।

द्वारका शारदापीठम के स्वामी सदानन्द सरस्वती के नाम पर फैलाई गई भ्रामक खबर

गुजरात के द्वारकाशारदापीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्या स्वामी सदानन्द सरस्वती ने इस संबंध में रामभक्तों के नाम संदेश जारी करते हुए स्पष्ट किया कि उनकी ओर से कोई वक्तव्य प्रसारित नहीं किया गया है। किसी समाचार पत्र में जो कुछ भी लिखा गया है वो महाराज की बिना आज्ञा के प्रसारित हुआ है और ये पूरी तरह भ्रामक है।

संदेश में कहा कि 500 साल बाद पूरा विवाद समाप्त हुआ है। सनातन धर्मावलम्बियों के लिए प्रसन्नता का अवसर है। महाराज चाहते हैं कि अयोध्या में होने वाली श्रीराम की प्राण-प्रतिष्ठता समारोह के सभी कार्यक्रम वेद शास्त्रानुसार, धर्म शास्त्रों की मर्यादा का पालन करते हुए विधिवत संपन्न हों।

श्रृंगेरी शारदा पीठम ने खारिज की खबर

वहीं श्रृंगेरी शारदा पीठम ओर से सूचना जारी करते हुए कहा गया कि अब जब 22 जनवरी 2024 को राम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा होने वाली है उस समय कुछ धर्मद्वेषियों ने शंकराचार्य, जगद्गुरु भारतीतीर्थजी महाराज की फोटो इस्तेमाल करके झूठ फैलाने का काम किया है।

उन्होंने ऐसी खबर फैलाने के लिए साफ तौर पर दैनिक जागरण का नाम लिया है। साथ ही साफ कहा है कि श्रृंगेरी शंकराचार्य ने महोत्सव के विषय में किसी तरह का विरोध नहीं व्यक्त किया है।

उन्होंने इसे मिथ्या प्रचार कहा और लोगों से इस पर ध्यान न देने को कहा। उन्होंने बताया कि इस प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के उपलक्ष्य में तो बीती दीवाली के अवसर पर ही श्रृंगेरी जगदगुरु द्वारा समस्त आस्तिकों को श्रीराम तारक महामंत्र का जाप करने का संदेश दिया गया था।

श्रृंगेरी शंकराचार्य ने इस पावन अवसर पर आशीर्वाद दिया है कि अतिपावन और दुर्लभ इस प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के सुसंदर्भ में यथायोग्य भाग लिया जाए।

दैनिक जागरण ने झाड़ा पल्ला

दक्षिण पीठम की ओर से जारी सूचना के बाद दैनिक जागरण ने पोस्ट के नीचे सफाई दी है। पोस्ट में लिखा है कि दैनिक जागरण और इसकी साइट का ऐसे पोस्ट और पब्लिकेशन से कोई लेना देना नहीं है। जागरण ने गौर करवाते हुए कहा कि ये उनकी छवि धूमिल करने का प्रयास है। संस्थान ने ऐसे पोस्ट को फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के अधिकार की बात भी पोस्ट में कही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

नाबालिग औलाद ने ही अपने इमाम अब्बा का किया सिर तन से जुदा: कट्टर इस्लामी-वामी मचा रहे ‘मुस्लिम टारगेट किलिंग’ का शोर, पुलिस जाँच...

जिसे वामी-इस्लामी हैंडल घोषित करना चाहते थे टारगेट किलिंग, शामली में मस्जिद के उस इमाम का सिर उनके ही नाबालिग बेटे ने किया था तन से जुदा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -