Sunday, September 27, 2020
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति द वायर वालो, जनेऊ के लिए इतना जहर उगलने से पहले पता किया था...

द वायर वालो, जनेऊ के लिए इतना जहर उगलने से पहले पता किया था जनेऊ क्या है?

एक पूरे जनसांख्यिकीय समूह को, उनकी अस्मिता और उनकी पवित्र परंपराओं को अवैध घोषित कर देने के लिए लेखिका सहारा लेती है इंटरनेट के किसी अँधेरे कोने में बैठे किसी तमिल ब्राह्मणों के लिए बनी वेबसाइट के चैट थ्रेड का।

वायर ने हिन्दुओं के खिलाफ फिर झूठ और जहर से बुझा हुआ लेख छापा है- “आधुनिक ब्राह्मण ‘उत्पीड़न’ के इस प्रतीक को क्यों इठला कर दिखाते फिर रहे हैं?” बताया गया है कि जनेऊ ब्राह्मणों द्वारा दूसरी जातियों, खासकर कि अनुसूचित जातियों के, उत्पीड़न का, ब्राह्मण-प्रभुतावाद का प्रतीक है, और जनेऊ पहनने वालों को कंधे पर नफरत का, दूसरों को नीचा देखने का ‘बोझ’ महसूस होना चाहिए।

‘फर्जी’ ऑनलाइन फोरम का सहारा

एक पूरे जनसांख्यिकीय समूह को, उनकी अस्मिता और उनकी पवित्र परंपराओं को अवैध घोषित कर देने के लिए लेखिका सहारा लेती है इंटरनेट के किसी अँधेरे कोने में बैठे किसी तमिल ब्राह्मणों के लिए बनी वेबसाइट के चैट थ्रेड का। उसमें कोई एक-आधा आदमी लिख देता है कि मुझे ऐसा लगता है कि मेरी बुद्धि ब्राह्मण-कुल में पैदा होने के कारण अधिक तीक्ष्ण है, कोई बता देता है कि मैं ‘सेक्युलर’ (धार्मिक कर्मकांडों को ढकोसला मानने वाला) ब्राह्मण हूँ और उसके बावजूद मुझे ख़ुशी होती है कि मेरे बच्चे जाति के बाहर शादी नहीं कर रहे, और बस इतने भर से मेघाली मित्रा न केवल सभी ब्राह्मणों को सभी अनुसूचित जाति वालों के उत्पीड़न का दोषी बना देतीं हैं, सभी ब्राह्मणों से स्थायी क्षमा-याचना मुद्रा में जीने की उम्मीद करने लगतीं हैं। जबकि उस वेबसाइट पर जो लिख रहा है, वह सही में तमिल ब्राह्मण है भी या नहीं, इसका भी कोई सबूत नहीं है, और इसके आधार पर वह सभी ब्राह्मणों से अपना जनेऊ उतार फेंकने की अपेक्षा करतीं हैं।

यहाँ पहली बात तो यह कि ब्राह्मण (या कोई भी जाति/वर्ण) जन्म से ज्यादा कर्म पर आधारित होता है, अतः जिसे धार्मिक कर्मकांडों को ढकोसला मानना है, वह काहे का हिन्दू, काहे का ब्राह्मण? उसके विचारों का बोझ हिन्दू क्यों उठाए? उसके विचारों के आधार पर ब्राह्मणों को क्यों निशाना बनाया जा रहा है, जो हिन्दू ही नहीं है?

लेखिका यह भी कहती है कि क्या ऐसी चीज जिसने ऐतिहासिक रूप से बड़ी तादाद में लोगों को तुम्हें मिलने वाली सुरक्षा को लेकर ईर्ष्यालु बनाया हो, सच में क्षतिविहीन (harmless) हो सकती है? तो पहली बात तो हाँ, बिलकुल। किसी की ईर्ष्या ब्राह्मण का ठेका नहीं है। और जिसे लगता है ब्राह्मण होना आसान है, उसे यह पता होना चाहिए कि जो स्मृतियाँ ब्राह्मणों को वेद-पाठ का विशेषाधिकार देतीं हैं, सैद्धांतिक रूप से ‘सर्वोच्च’ बनातीं हैं, वही स्मृतियाँ ब्राह्मणों को भीख माँगने और यजमान अथवा छात्र के दान-दक्षिणा पर निर्भर रहने का भी आदेश देतीं हैं। सुदामा और द्रोण ऐसे ही प्रतिभासम्पन्न, ज्ञान-सम्पन्न होने के बावजूद कँगले थे।

जनेऊ का इतिहास हिन्दुओं से पूछो

- विज्ञापन -

जनेऊ के इतिहास शीर्षक वाले खंड में पहली बात तो जनेऊ की उत्पत्ति और इतिहास की बात ही नहीं है, सिवाय आखिर में एक-आधे वाक्य के अलावा। बाकी के खंड में लेखिका खुद ही यह मानती है कि अन्य जातियाँ भी ‘ब्राह्मणों-जैसा’ बनने के लिए जनेऊ पहनने के लिए स्वतंत्र थीं, और उन्होंने ब्राह्मणों जैसा आचरण करने (जनेऊ पहनने, माँस-मदिरा का त्याग करने, आदि) का प्रयास किया भी। तो इसमें फिर भेदभाव बचा ही कहाँ?

अब आते हैं मूल मुद्दे यानि कि जनेऊ/यज्ञोपवीत के असली अर्थ/महत्व पर (जोकि द वायर के लेखकों जैसे असुर-प्रकृति के लोगों को पता ही नहीं होगा)। तो यज्ञोपवीत मात्र एक ‘प्रतीक’ नहीं है- यह एक कवच होता है, जोकि योग करते समय शक्ति के शरीर में संचालन को नियंत्रित करता है। योग के अनुसार शरीर में विभिन्न चक्र होते हैं, और यज्ञोपवीत गले के विशुद्धि चक्र से लेकर जननांग के स्वाधिष्ठान चक्र तक की रक्षा करता है। यहाँ तक कि कई गणपति मूर्तियों में उन्हें भी सर्प को यज्ञोपवीत की तरह धारण किए हुए दिखाया जाता है। इसके अलावा यज्ञोपवीत पहली बात तो यज्ञ करने का अधिकारी होने का सूचक होता है (जोकि न हर कोई होता है, न ही अपने आप, बिना गुरु की अनुमति के बना जा सकता है), और दूसरी चीज यज्ञोपवीत कपड़ों के अंदर पहना जाता है, बाहर पहन कर कोई भी इठलाते हुए नहीं घूमता।

जिन्हें यज्ञ करने की योग्यता, योग में निहित शक्ति जैसी चीजों में विश्वास नहीं (जैसे द वायर, या फिर मेघाली मित्रा), उनके लिए यह विषय है ही नहीं- अतः वह किसी भी तरह से इस विषय की चर्चा का हिस्सा ही नहीं हैं। और जिन्हें इस विषय पर अधिक जानकारी चाहिए, वे या तो अपने-अपने गुरु से सम्पर्क करें, या फिर 18वीं-19वीं सदी के योगी त्रैलंग स्वामी की उमाचरण मुखोपाध्याय द्वारा लिखित किताब खंगाल सकते हैं।

यही ‘प्रतीक से भय’ का नाटक समुदाय विशे के साथ हो, तो वायर वालों कैंसर होने लगेगा

और जिस चूँकि-जनेऊ-‘उत्पीड़न’-का-प्रतीक-है-अतः-इसे-हटा-देना-चाहिए के तर्क का इस्तेमाल पत्रकारिता के समुदाय विशेष वालों के पसंदीदा मज़हब इस्लाम पर किया जाए, तो इन्हें कैंसर होने लगता है। हजारों-लाखों जानें बिना मूंछों की दाढ़ी वाले पंथिक नफरत से भरे इस्लामी हमलावरों ने ले लीं हैं केवल आधुनिक युग में ही (600 ईस्वी से शुरू करने पर तो यह आँकड़ा करोड़ पार कर शायद अरब में पहुँच जाए), लेकिन अगर मैं कहूँ कि इसी तर्क के इस्तेमाल से बिना मूँछों की दाढ़ी मेरे लिए पंथिक हिंसा का प्रतीक है, इस्लाम वाले इसे त्याग दें तो मजहब वालों से पहले वायर फतवे जारी करेगा। क्या मैं यह कहता फिरूँ कि समुदाय विशेष के लोगों को दाढ़ी हटा लेनी चाहिए? ऐसा मानना सर्वथा अनुचित है, इसलिए यह तर्क हर तरह के विषय पर लागू होना चाहिए न कि सिर्फ हिन्दू प्रतीकों पर।

अंग्रेजों ने 190 साल भारत को अपने बूटों तले रौंदा लेकिन अगर मैं विक्टोरिया मेमोरियल या किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज का नाम बदलना चाहूँ तो यही वायर शायद इन्हीं मेघाली मित्रा से लिखवाएगा कि भला उससे क्या होगा; मासूम-सा लगने वाला हिन्दूफोबिक तर्क होगा कि सताने वाले और सताए जाने वाले, दोनों मर चुके हैं।

असल बात यही है कि मेघाली मित्रा और वायर दोनों की ही दिक्कत यज्ञोपवीत नहीं, उसका हिन्दू उद्गम है, और उन्हें ‘भारी मन से’ यह सूचित करना चाहूँगा की उनकी इस ‘दिक्कत’ का कोई इलाज नहीं हो सकता…

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान जलने के पीछे आदिवासी-मिशनरी नेक्सस? केंद्र से गहलोत ने लगाई गुहार, 3 दिन से राजमार्ग ठप्प

पुलिस का कहना है कि झारखण्ड से लोगों ने आकर एसटी वर्ग को भड़काया है। अशोक गहलोत केंद्र से मदद माँग रहे। समझिए, क्यों जल रहा है दक्षिणी राजस्थान।

15 साल की लड़की से 28 घंटे तक गैंगरेप: सिर्फ इस्माइल गिरफ्तार, इरशाद और साहिर खुलेआम गाँव में घूम कर दे रहे धमकी

23 दिनों तक पुलिस के रवैये से परेशान होकर पीड़िता ने राष्ट्रीय पुलिस संरक्षण आयोग को चिट्ठी लिखी और कथित निष्क्रियता की रिपोर्ट दी है।

पाकिस्तान से आए सिखों के 70 साल पुराने आशियाने पर बुलडोजर चलाने की तैयारी में BMC

अभिनेत्री कंगना रनौत के दफ्तर में तोड़फोड़ को लेकर विवादों में आया बीएमसी अब पंजाबी कॉलोनी को ध्वस्त करने वाली है।

‘संयुक्त राष्ट्र का काम प्रोपेगेन्डा फैलाना, ‘फ्रीडम फाइटर्स’ कहता है आतंकियों को’ – आखिर UN अब कितना विश्वसनीय?

“संयुक्त राष्ट्र को छोड़कर ऐसी कोई संस्था नहीं है, जोकि आतंकवाद को इस हद तक मान्यता देती हो!” - आतंकियों को फ्रीडम फाइटर्स कहने वाला UN अब...

पंचतंत्र और कताकालक्षेवम् का देश है भारत, कहानी कहने-सुनने के लिए समय निकालें: ‘मन की बात’ में PM मोदी

'मन की बात' में पीएम मोदी ने कहा कि हम उस देश के वासी है, जहाँ, हितोपदेश और पंचतंत्र की परंपरा रही है, जहाँ पंचतंत्र जैसे ग्रन्थ रचे गए।

चुनाव से पहले संकट में बिहार कॉन्ग्रेस: अध्यक्ष समेत 107 नेताओं पर FIR, तेजस्वी यादव को अलग गठबंधन में जाने की धमकी

कॉन्ग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा सहित 7 नामजद व 100 अज्ञात पर आचार संहिता उल्लंघन का मामला। सीट शेयरिंग पर राजद के साथ नहीं बनी बात।

प्रचलित ख़बरें

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

पूना पैक्ट: समझौते के बावजूद अंबेडकर ने गाँधी जी के लिए कहा था- मैं उन्हें महात्मा कहने से इंकार करता हूँ

अंबेडकर ने गाँधी जी से कहा, “मैं अपने समुदाय के लिए राजनीतिक शक्ति चाहता हूँ। हमारे जीवित रहने के लिए यह बेहद आवश्यक है।"

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘मारो, काटो’: हिंदू परिवार पर हमला, 3 घंटे इस्लामी भीड़ ने चौथी के बच्चे के पोस्ट पर काटा बवाल

कानपुर के मकनपुर गाँव में मुस्लिम भीड़ ने एक हिंदू घर को निशाना बनाया। बुजुर्गों और महिलाओं को भी नहीं छोड़ा।

ड्रग्स स्कैंडल: रकुल प्रीत ने उगले 4 बड़े बॉलीवुड सितारों के नाम, करण जौह​र ने क्षितिज रवि से पल्ला झाड़ा

NCB आज दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर से पूछताछ करने वाली है। उससे पहले रकुल प्रीत ने क्षितिज का नाम लिया है, जो करण जौहर के करीबी बताए जाते हैं।

महाराष्ट्र: नागपुर में गृह मंत्री अनिल देशमुख के घर के करीब कुल्हाड़ी से काट डाला, Video वायरल

नागपुर के व्यस्त सिटी स्क्वायर पर किशोर उर्फ बाल्या बेलेकर की सरेआम हत्या कर दी गई। घटना एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई।

राजस्थान जलने के पीछे आदिवासी-मिशनरी नेक्सस? केंद्र से गहलोत ने लगाई गुहार, 3 दिन से राजमार्ग ठप्प

पुलिस का कहना है कि झारखण्ड से लोगों ने आकर एसटी वर्ग को भड़काया है। अशोक गहलोत केंद्र से मदद माँग रहे। समझिए, क्यों जल रहा है दक्षिणी राजस्थान।

15 साल की लड़की से 28 घंटे तक गैंगरेप: सिर्फ इस्माइल गिरफ्तार, इरशाद और साहिर खुलेआम गाँव में घूम कर दे रहे धमकी

23 दिनों तक पुलिस के रवैये से परेशान होकर पीड़िता ने राष्ट्रीय पुलिस संरक्षण आयोग को चिट्ठी लिखी और कथित निष्क्रियता की रिपोर्ट दी है।

पाकिस्तान से आए सिखों के 70 साल पुराने आशियाने पर बुलडोजर चलाने की तैयारी में BMC

अभिनेत्री कंगना रनौत के दफ्तर में तोड़फोड़ को लेकर विवादों में आया बीएमसी अब पंजाबी कॉलोनी को ध्वस्त करने वाली है।

BJP की नई टीम में भी अमित मालवीय को देख उखड़े सुब्रमण्यम स्वामी, प्रियंका गाँधी की तारीफ वाली रिपोर्ट रीट्वीट की

सुब्रमण्यम स्वामी ने एक ऐसी रिपोर्ट को रीट्वीट किया है जिसमें दावा किया गया है कि प्रियंका गाँधी के नेतृत्व में कॉन्ग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर बदलाव के दौर से गुजर रही है।

बंगाल में 1 अक्टूबर से खुलेंगे सिनेमा हॉल, थिएटर; CM ममता बनर्जी ने दी इजाजत

बंगाल में सिनेमा हॉल खोलने का फैसला ऐसे वक्त में किया गया है, जब कोरोना संक्रमण का प्रसार अपने चरम पर है।

ट्रायल पूरा हुए बिना ही हजारों को कोरोना वैक्सीन दे रहा है चीन, चुप रहने की चेतावनी भी दी

चीन में जिन लोगों को कोरोना वैक्सीन की डोज दी जा रही है उनसे एक समझौते पर हस्ताक्षर भी कराया जा रहा है कि वह किसी से भी इसकी चर्चा नहीं कर सकते हैं।

‘संयुक्त राष्ट्र का काम प्रोपेगेन्डा फैलाना, ‘फ्रीडम फाइटर्स’ कहता है आतंकियों को’ – आखिर UN अब कितना विश्वसनीय?

“संयुक्त राष्ट्र को छोड़कर ऐसी कोई संस्था नहीं है, जोकि आतंकवाद को इस हद तक मान्यता देती हो!” - आतंकियों को फ्रीडम फाइटर्स कहने वाला UN अब...

BJP नेता ने ‘मथुरा मुक्ति’ का किया समर्थन तो भड़का इकबाल अंसारी, कहा- ये हिंदुस्तान की तरक्की रोक रहे

विनय कटियार ने कहा कि अयोध्या, काशी और मथुरा को मुक्त कराने का भाजपा का वादा काफी पुराना है, जिसमें से अयोध्या में विजय प्राप्त हो चुकी है।

स्वस्थ हुए अभिनेता अनुपम श्याम ओझा, CM योगी को पत्र लिख कहा- आपका सहयोग सेवाभाव का प्रतीक

योगी आदित्यनाथ ने भारतेन्दु नाट्य अकादमी के अभिनेता अनुपम श्याम ओझा के इलाज के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष से 20 लाख रुपए की सहायता राशि प्रदान की थी।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,059FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe
Advertisements