Sunday, July 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयबाली के हिंदू मंदिर में नग्न होकर पहुँची 28 साल की जर्मन महिला, पुलिस...

बाली के हिंदू मंदिर में नग्न होकर पहुँची 28 साल की जर्मन महिला, पुलिस ने गिरफ्तार करके मेंटल हॉस्पिटल भेजा

बाली में हिंदू मंदिर में इस तरह की यह पहली घटना नहीं है। पिछले महीने बाली मेें ही एक रूसी महिला ने 700 साल पुराने पवित्र बरगद के पेड़ के नीचे नग्न होकर तस्वीरें खिंचवाई थी। उसकी तस्वीरें वायरल होने के बाद स्थानीय हिंदुओं ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी। इसके बाद पुलिस अधिकारियों ने महिला को मास्को भेज दिया था।

इंडोनेशिया के बाली (Bali, Indonesia) स्थित हिंदू मंदिर में नंगा होकर घुसने के मामले में जर्मनी की एक महिला पर्यटक को गिफ्तार किया गया है। उसके बाद मानसिक स्वास्थ्य उपचार के लिए भेजा गया है। दरअसल, दारजा तुशिंस्की सोमवार (22 मई 2023) को सरस्वती उबुद मंदिर में नृत्य शो के लिए गई थी, लेकिन टिकट नहीं मिला। इसके बाद वह नंगी हो गई। कपड़े उतार फेंका था।

नृत्य शो के दौरान के महिला के का भी वीडियो सामने आया है, जो इंटरनेट पर वायरल हो रहा है। इसमें महिला मंदिर में नृत्य के प्रस्तुतीकरण के दौरान महिला सीढ़ियों से ऊपर चढ़ती है और दरवाजे को जबरन खोलती है। अंदर आने के बाद सुरक्षा गार्डों ने महिला को रोकने की कोशिश की।

अंदर आकर महिला नीचे की ओर झुककर प्रणाम में मुद्रा में दिखती है और फिर डांसर्स के बगल में खड़ी हो जाती है। इस हालत में महिला को देखकर लोग अचंभित रह जाते हैं। इसके बाद सुरक्षा गार्डों ने उसे पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। इसके बाद पाया गया कि महिला की मानसिक हालत सही नहीं है।

जाँच में बाली पुलिस ने यह पाया है कि 28 वर्षीय जर्मन पर्यटक दारजा तुशिंस्की छुट्टी मनाने के लिए इंडोनेशिया आई थी। इस दौरान वह कई होटलों में ठहरी, लेकिन बिल का भुगतान नहीं किया। इतना ही नहीं, जिस होटल में वह ठहरी हुई थी, वहाँ भी वह अतिथि क्षेत्र में वह नंगी होकर घूमा करती थी।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस प्रवक्ता स्टीफेनस साटेके बायू ने साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट को बताया, “विदेशी महिला तनाव में है, क्योंकि उसके पास बाली में रहने के लिए पैसे नहीं हैं।” पुलिस प्रवक्ता का कहना है कि महिला के आचरण से बाली के हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुँची है।

इंडोनेशिया की अंतरा समाचार एजेंसी कहना है कि महिला डांस कार्यक्रम में जाना चाहती थी, लेकिन टिकट को लेकर उसने कर्मचारियों से झगड़ा कर लिया। जब उसे टिकट नहीं मिला तो वह खुद को नंगा किया और नर्तकियों के पास जाकर खड़ी हो गई। पुलिस ने बताया कि इस घटना के बाद मंदिर के शुद्धिकरण के लिए एक अनुष्ठान किया।

पुलिस ने यह भी कहा कि महिला के खिलाफ कोई मामला नहीं चलेगा, क्योंकि वह मानसिक रूप से परेशान है। इस घटना के बाद उसे जर्मनी की फ्लाइट पर बैठाने की कोशिश की गई थी, लेकिन उसने वहाँ जाने से इनकार कर दिया। इसके बाद पुलिस ने उसे मानसिक अस्पताल में भर्ती कराया है।

बाली में हिंदू मंदिर में इस तरह की यह पहली घटना नहीं है। पिछले महीने बाली मेें ही एक रूसी महिला ने 700 साल पुराने पवित्र बरगद के पेड़ के नीचे नग्न होकर तस्वीरें खिंचवाई थी। उसकी तस्वीरें वायरल होने के बाद स्थानीय हिंदुओं ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी। इसके बाद पुलिस अधिकारियों ने महिला को मास्को भेज दिया था।

उसी महीने ऐसे ही एक अन्य मामले में एक रूसी जोड़ा एक पवित्र पर्वत के ऊपर अर्धनग्न तस्वीरें पोस्ट की थी। इसका वीडियो भी सामने आया था। वीडियो में दिखा कि यह जोड़ा मंदिर परिसर में मस्ती कर रहा था। इनके सामने फाउंटेन से पवित्र जल निकल रहा था। वीडियो में सबीना नाम की एक लड़की पीछे की ओर से अपनी स्कर्ट उठाती दिखती है और उसका ब्वॉयफ्रेंड उसके बट पर पानी मारता है। इसके बाद ऐसा करके दोनों बहुत खुश होते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

US में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगी गोली, हमलावर सहित 2 की मौत: PM मोदी ने जताया दुख, कहा- ‘राजनीति में हिंसा की...

गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने हमलावर को मार गिराया। इस हमले में डोनाल्ड ट्रंप घायल हो गए और उनके कान से निकला खून उनके चेहरे पर दिखा।

छात्र झारखंड के, राष्ट्रगान बांग्लादेश-पाकिस्तान का, जनजातीय लड़कियों से ‘लव जिहाद’, फिर ‘लैंड जिहाद’: HC चिंतित, मरांडी ने की NIA जाँच की माँग

झारखंड में जनजातीय समाज की समस्या पर भाजपा विरोधी राजनीतिक दल भी चुप रहते हैं, जबकि वो खुद को पिछड़ों का रहनुमा कहते नहीं थकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -