Friday, July 19, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'पागल का रोल करने के लिए सरदार बनना क्यों जरूरी था': लाल सिंह चड्ढा...

‘पागल का रोल करने के लिए सरदार बनना क्यों जरूरी था’: लाल सिंह चड्ढा वाले आमिर खान का ‘पाकिस्तान प्रेम’ KRK ने किया उजागर, करीना कपूर को बताया ‘आंटी’

"मैं आमिर खान से सिर्फ इतना पूछना चाहता हूँ कि जब आपको फिल्म में पागल का ही रोल करना था फिर आपका सरदार बनना जरूरी क्यों था। क्या आप ये साबित करना चाहते हैं कि सरदार पागल होते हैं।"

कमाल आर खान (Kamaal R Khan) उर्फ केआरके ने भी आमिर खान (Amir Khan) की फिल्म ‘लाल सिंह चड्डा’ का रिव्यू कर दिया है। उन्होंने ‘लाल सिंह चड्ढा’ (Laal Singh Chaddha) का मजाक उड़ाते हुए आमिर खान को पागल, बेवकूफ और मेंटल बताया है। केआरके ने अपने यूट्यूब चैनल पर फिल्म का रिव्यू अपलोड किया है। उन्होंने फिल्म के डायलॉग्स को बेहद खराब बताया है। केआरके ने फिल्म की लीड एक्ट्रेस करीना कपूर खान (Kareena Kapoor Khan) को ‘आंटी’ बताया है।

उन्होंने कहा है, “आमिर खान को ठीक से पंजाबी भी बोलना नहीं आ रहा है। इसे एक्टिंग ही नहीं आती है, बेदम एक्टिंग वाले आमिर ने 2 घंटे 20 की फिल्म को 3 घंटे की फिल्म बना दिया है। ये फिल्म हॉलीवुड स्टार टॉम हैंक्स की फिल्म ‘फॉरेस्ट गंप’ का हिंदी रीमेक है, जिसका रिव्यू मैं पहले ही कर चुका हूँ। अब आप खुद अंदाजा लगा सकता हैं कि जब 2 घंटे 20 मिनट की फिल्म ‘फॉरेस्ट गंप’ इतनी बोरिंग थी, तो आमिर खान की 3 घंटे की फिल्म कितनी बोरिंग होगी।”

केआरके के मुताबिक, “उस फिल्म में हीरो-हीरोइन एक बार मिल रहे थे, तो इसमें 4 बार मिल रहे हैं। उस फिल्म में हीरो एक बार फुटबॉल लेकर भागता है, तो इस फिल्म में 5 बार लेकर भाग रहा है। ‘फॉरेस्ट गंप’ फिल्म की कहानी को जान-बूझकर चिंगम की तरह खींचा गया है, ऊपर से ‘लाल सिंह चड्ढा’ में 15 मिनट जानबूझकर बढ़ाए गए, सिर्फ ये दिखाने के लिए कि पाकिस्तान के लोग कितने अच्छे होते हैं। इसी तरह कबीर खान ने भी अपनी फिल्म ’83’ में ये दिखाने कि कोशिश की थी कि पाकिस्तान कितना अच्छा मुल्क है।”

बॉलीवुड फिल्मों के रिव्यू को लेकर अक्सर विवादों में रहने वाले कमाल आर खान आगे कहते हैं, “फिल्म बहुत स्लो और बोरिंग है। ट्रेन में बैठा आमिर खान पागलों जैसी हरकतें कर रहा है। मैं आमिर खान से सिर्फ इतना पूछना चाहता हूँ कि जब आपको फिल्म में पागल का ही रोल करना था फिर आपका सरदार बनना जरूरी क्यों था। क्या आप ये साबित करना चाहते हैं कि सरदार पागल होते हैं।”

वह कहते हैं, “फिल्म में एक पागल को आर्मी में भर्ती कर लिया गया, जबकि इंडियन आर्मी में पागलों को भर्ती नहीं किया जाता है। ‘लाल सिंह चड्ढा’ में आमिर मोहम्मद नाम के एक पाकिस्तानी को बचाता है। यही दोनों बाद में फिल्म में आगे चलकर चड्डी-बनियान का बिजनेस करते हैं। वहीं करीना कपूर खान फिल्म में स्ट्रगलिंग एक्ट्रेस का किरदार निभा रही हैं और उनके साथ फिल्म में वही होता है जो बॉलीवुड में असलियत में नए कलाकारों के साथ किया जाता है।” इसके अलावा उन्होंने साउथ की एक्ट्रेस समांथा रूथ प्रभु को आमिर खान को थैंक्स कहने को कहा, जो उन्होंने नागा चैतन्य से उनका तलाक करवा दिया।

बता दें कि बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान की फिल्म ‘लाल सिंह चड्ढा’ 11 अगस्त 2022 को सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। फिल्म को कई क्रिटिक ने सिरे से नकार दिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -