Wednesday, December 7, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजनऋचा चड्ढा ने भारतीय सेना के अपमान पर माँगी माफी, थू-थू होने के बाद...

ऋचा चड्ढा ने भारतीय सेना के अपमान पर माँगी माफी, थू-थू होने के बाद नाना के पैर में लगी गोली का दिया वास्ता

बता दें कि जून 2020 में गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों की चीनी फौजियों के साथ झड़प हुई थी, जिसमें 20 भारतीय सैनिक बलिदान हो गए थे। घंटों चली झड़प में बड़ी संख्या में चीनी सैनिक भी मारे गए थे। हालाँकि, चीन ने आधिकारिक तौर पर अपने मृत सैनिकों की सही संख्या का खुलासा कभी नहीं किया।

बॉलीवुड अभिनेत्री ऋचा चड्ढा (Bollywood Actress Richa Chadha) अपनी एक्टिंग से ज्यादा बयानों की वजह से चर्चा में रहती हैं। इस बार उन्होंने भारतीय सेना पर आपत्तिजनक ट्वीट करके तूफान खड़ा कर दिया है। उनके बयान की हर तरफ आलोचना हो रही है और उनके खिलाफ मामला दर्ज करने की माँग की जा रही है। हालाँकि, अभिनेत्री ने ट्वीट डिलीट कर माफी माँग ली है।

दरअसल, भारतीय सेना के उत्तरी कमान के कमांडिंग-इन-चीफ उपेन्द्र द्विवेदी ने एक बयान में कहा था कि अगर सरकार आदेश जारी करती है तो सेना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) को वापस लेने के लिए तैयार है। इस बयान को ‘बाबा बनारस’ नाम के ट्विटर हैंडल से शेयर किया गया था।

इसी ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए ऋचा ने बुधवार (23 नवंबर 2022) को भारतीय सेना का मजाक उड़ाया और ताना मारते हुए कहा कि गलवान हाय (Galwan says hi) बोल रहा है। हालाँकि, अब माफी माँगते हुए ऋचा ने ट्वीट डिलीट कर दिया है, लेकिन हम उस ट्वीट का स्क्रीनशॉट अपने पाठकों के साथ साझा कर रहे हैं।

ऋचा चड्ढा द्वारा किए गए ट्वीट का स्क्रीनशॉट

अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से माफी माँगते हुए ऋचा ने कहा कि यह अनजाने में हुआ था। उन्होंने कहा कि यह उनके लिए एक भावनात्मक मुद्दा है। उन्होंने कहा, “मेरी मंशा कभी भी किसी को अपमानित करने की नहीं थी। मुझे मेरे कहे तीन शब्दों के कारण विवाद में घसीटा गया। जाने-अनजाने में मेरे द्वारा कहे गए शब्दों से अगर मेरे फौजी भाइयों की भावनाएँ आहत हुई हों तो मैं माफी माँगती हूँ।”

उन्होंने आगे कहा, “मैं यह भी कहना चाहती हूँ कि फौज में मेरे नानाजी लेफ्टिनेंट कर्नल रहे हैं और 1960 के दशक में उनके पैर में गोली लगी थी। मेरे मामाजी ParaTrooper थे। देशभक्ति मेरे खून में है। देश को बचाने के दौरान जब एक बेटा शहीद हो जाता है तो परिवार बुरी तरह प्रभावित होता है। अगर कोई फौजी घायल होता है तो भी कैसा प्रभाव पड़ता है, यह मैं अच्छी तरह जानती हूँ। मेरे लिए भी यह एक भावनात्मक मुद्दा है।”

भाजपा नेता मनजिंदर सिंह ने ऋचा चड्ढा के ट्वीट को ‘आपत्तिजनक’ और ‘अपमानित’ करने वाला बताया। मनजिंदर सिंह ने इसे तुरंत डिलीट करने की माँग की थी। इसके साथ ही एक वीडियो शेयर कर उन्होंने ऋचा चड्ढा को ‘थर्ड ग्रेड एक्ट्रेस’ बताते हुए मुंबई पुलिस से उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की माँग की।

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के वकील विनीत जिंदल ने विवादित ट्वीट के चलते उनकी गिरफ्तारी की माँग की थी।

उल्लेखनीय है कि जून 2020 में गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों की चीनी फौजियों के साथ झड़प हुई थी, जिसमें 20 भारतीय सैनिक बलिदान हो गए थे। घंटों चली झड़प में बड़ी संख्या में चीनी सैनिक भी मारे गए थे। हालाँकि, चीन ने आधिकारिक तौर पर अपने मृत सैनिकों की सही संख्या का खुलासा कभी नहीं किया।

गलवान संघर्ष के बाद दोनों देशों के बीच लद्दाख में एक तनावपूर्ण युद्धविराम हुआ था। हालाँकि, दोनों देशों ने क्षेत्र में LAC के पास अपनी तरफ करीब 60,000 सैनिक और उन्नत हथियार तैनात कर दिए थे। तब से आज तक चीन के साथ संबंधों में कड़वाहट घुली हुई है।

ऋचा चड्ढा को उस घटना का मजाक उड़ाते देखना बेहद हास्यास्पद है। उन्हें संभवतः यह भी मालूम नहीं होगा कि भारतीय सैनिकों ने बिना किसी हथियार के चीनी सेना से बहादुरी से लड़ाई लड़ी और उन्हें पीछे धकेलने में कामयाबी हासिल की।

बता दें कि अभिनेत्री ऋचा चड्ढा पिछले महीने यानी अक्टूबर 2022 में ही अभिनेता अली फजल से लखनऊ में निकाह किया था। अली फजल ने सोशल मीडिया पर अपनी निकाह की तस्वीरें साझा करते हुए शायरी पोस्ट की थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आमदनी से 3 गुना ज़्यादा है MCD का खर्च, कैसे चलेगी AAP की रेवड़ी वाली राजनीति? केंद्र सरकार से भी मिलता है पैसा, टैक्स...

एमसीडी आम आदमी पार्टी के लिए काँटो भरा ताज है। इसके आय और व्यय के बीच का जो अंतर है, उसे पाटना आम आदमी पार्टी के लिए आसान नहीं होगा।

काशी तमिल संगमम: जीवंत परंपराओं को आत्मसात करने की विशेषता ही भारतीय सांस्कृतिक संपूर्णता का आधार

प्रथम तमिल संगम मदुरै में हुआ था जो पाण्ड्य राजाओं की राजधानी थी और उस समय अगस्त्य, शिव, मुरुगवेल आदि विद्वानों ने इसमें हिस्सा लिया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
237,221FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe