Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'मैंने खुद देखा.. उनके हाथ-पाँव बाँध दिए गए थे': अभिनेत्री ने पिता की मौत...

‘मैंने खुद देखा.. उनके हाथ-पाँव बाँध दिए गए थे’: अभिनेत्री ने पिता की मौत के बाद ‘जयपुर गोल्डन हॉस्पिटल’ को भेजा लीगल नोटिस

"एक डॉक्टर ने बताया कि मेरे पिता की स्थिति में सुधार हो रहा है। इसके कुछ ही देर बाद उसने बताया कि मेरे पिता को कार्डियक अरेस्ट आया है और वो लोग उन्हें बचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। मेरी मिन्नतों के बावजूद मुझे उन्हें देखने नहीं दिया गया।"

डेढ़ दर्जन से भी अधिक भोजपुरी फिल्मों में कार्य कर चुकीं अभिनेत्री संभावना सेठ ने अपने पिता की मौत को लेकर दिल्ली के ‘जयपुर गोल्डन हॉस्पिटल’ पर ‘मेडिकल हत्या‘ के आरोप लगाए थे। उनके पिता अपने अंतिम दिनों में यहीं भर्ती थे। उन्होंने अब अस्पताल को लीगल नोटिस भेजा है। संभावना सेठ ने 2008 में आए ‘बिग बॉस 2’ से सुर्खियाँ बटोरी थीं। वो शो में 48 दिनों तक रही थीं। बाद में वो ‘बिग बॉस 8 (2014-15)’ में भी नजर आई थीं।

संभावना सेठ ने अस्पताल पर मेडिकल सेवाओं में खामी, लापरवाही और सही देखभाल में कमी के साथ-साथ संपर्क करने पर जवाब न देने के भी आरोप लगाए हैं। उन्होंने बताया कि उनके पिता अप्रैल 30, 2021 को उक्त अस्पताल में भर्ती कराए गए थे। तब कोविड पाज़िटिव हुए उन्हें 4 दिन हुए थे। वहाँ मेडिकल कर्मचारियों ने ब्लड टेस्ट करने के बाद कुछ दिनों में ठीक हो जाने का आश्वासन दिया। संभावना सेठ का कहना है कि परिवार ये सोच कर निश्चिंत था कि वो कुशल व सुरक्षित हाथों में हैं।

उन्होंने बड़ा खुलासा करते हुए बताया, “अगले ही दिन जब मेरे भाई पिता को देखने गया तो वो ये देख कर स्तब्ध कर गया कि उनके हाथ को बाँध कर रखा गया था। उसने तुरंत हाथ खोले और इस संबंध में जाँच-पड़ताल की। कर्मचारियों ने बताया कि वो सेलाइन सप्लाई को हत्या दे रहे थे, इसीलिए ऐसा किया गया था। 7 मई को मेरे भाई ने डरी हुई आवाज में कॉल कर के बताया कि उनका सैचुरैशन लेवल 90-95 था, लेकिन उन्हें फिर भी ऑक्सिजन सपोर्ट पर रखा गया है।”

संभावना सेठ ने कहा कि उन्हें ये सब सुन कर लगा कि कुछ न कुछ गड़बड़ है और वो अगले ही दिन दिल्ली पहुँचीं। बकौल संभावना, उन्होंने खुद देखा कि उनके पिता के हाथ-पाँव बाँधे गए थे। बताया गया कि वो आक्सिजन सप्लाई न हटाने पाए, इसीलिए ऐसा किया गया। अभिनेत्री का कहना है कि उनके पिता को अटेन्ड करने के लिए कोई कर्मचारी भी नहीं था। उन्होंने वीडियो शूट किया लेकिन आरोप है कि कर्मचारियों ने धक्का-मुक्की कर के उसे डिलीट करवा दिया।

40 वर्षीय अभिनेत्री ने बताया, “काफी कोशिश के बाद भी मैं सीनियर डॉक्टर से नहीं मिल सकी। फिर एक डॉक्टर ने बताया कि मेरे पिता की स्थिति में सुधार हो रहा है। इसके कुछ ही देर बाद उसने बताया कि मेरे पिता को कार्डियक अरेस्ट आया है और वो लोग उन्हें बचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। मेरी मिन्नतों के बावजूद मुझे उन्हें देखने नहीं दिया गया। फिर बताया गया कि उनकी मौत हो गई है। मुझे लगा उन्हें पहले से पता था कि वो मर चुके हैं।”

संभावना सेठ ने इंस्टाग्राम पर अपने पिता को किया याद

संभावना सेठ ने कहा कि वो समझती हैं कि मेडिकल कर्मचारी इस महामारी में काफी काम कर रहे हैं और उनका सम्मान करती हैं, क्योंकि कई बार उन्हें नज़रअंदाज़ किया जाता है। लेकिन, साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि उन्हें दिल्ली के ‘जयपुर गोल्डन हॉस्पिटल’ में बुरा अनुभव मिला है। उन्होंने बताया कि उनके पास उनके पिता की मौत को लेकर कुछ सवाल हैं, इसीलिए लीगल नोटिस भेजा गया है। अस्पताल प्रशासन ने इस पर अभी तक कोई बयान नहीं दिया है।

संभावना सेठ ’36 चाइना टाउन’ (2006) में हिमेश रेशमिया के गाने ‘आ आ आशिकी में तेरी’ से चर्चा में आई थीं। उन्होंने पिछले साल इस फिल्म के 14 वर्ष पूरे होने पर निर्देशक अब्बास-मस्तान को धन्यवाद दिया था। भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री के कई बड़े अभिनेताओं के साथ काम कर चुकीं संभावना सेठ ने बॉलीवुड में भी कई आइटम नंबर्स किए हैं। साथ ही उन्होंने कई डांस रियलिटी शो में भी हिस्सा लिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -