Wednesday, July 6, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजनकोहली और प्रियंका एक पोस्ट के लेते हैं इतने पैसे, 'किसानों' के समर्थन में...

कोहली और प्रियंका एक पोस्ट के लेते हैं इतने पैसे, ‘किसानों’ के समर्थन में ट्वीट करने पर रिहाना को 4.5 करोड़ रुपए?

किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट करके विवादों में आने वाली रिहाना एक प्रमोशनल पोस्ट के लिए 4.5 करोड़ रुपए लेती हैं।

हॉपर इंस्टाग्राम रिच-लिस्ट 2021 जारी हुई है, जिसमें बताया गया है कि प्रियंका चोपड़ा जोनस इंस्टाग्राम पर प्रत्येक प्रमोशनल पोस्ट के लिए 3 करोड़ रुपए लेती हैं। अमेरिका में बस चुकी बॉलीवुड अभिनेत्री इस साल इंस्टाग्राम की इस रिच-लिस्ट में 27वें स्थान पर हैं।

हर साल जारी होने वाली इस सूची में प्रियंका चोपड़ा पिछले साल 19वें स्थान पर काबिज थीं। महान फुटबॉल खिलाड़ी क्रिस्टियानो रोनाल्डो इस सूची में पहले स्थान पर हैं, जो इंस्टाग्राम पर एक प्रमोशनल पोस्ट के लिए 11 करोड़ रुपए की फीस लेते हैं। 

प्रियंका चोपड़ा के अलावा विराट कोहली ही एकमात्र भारतीय हैं, जो इस सूची में शामिल हैं। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली एक प्रमोशनल पोस्ट के लिए 5 करोड़ रुपए की फीस लेते हैं। कोहली इस सूची में 19वें स्थान पर हैं।

अर्जेन्टीना के फुटबॉल खिलाड़ी लियोनेल मेसी 8.7 करोड़ रुपए की फीस के साथ 7वें स्थान पर हैं। हॉपर इंस्टाग्राम रिच-लिस्ट में शामिल अन्य सेलिब्रिटी हैं, ड्वेन ‘द रॉक’ जॉनसन (2nd), एरियाना ग्रैन्ड (3rd), काईली जेनर (4th), सेलेना गोम्ज (5th) और किम कारदाशियाँ (6th)। इसके अलावा, इस लिस्ट में बियॉन्से (8th), जस्टिन बीबर (9th) और बार्सिलोना के फुटबॉल खिलाड़ी नेमार (16th) भी शामिल हैं।  

हाल ही में किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट करके विवादों में आने वाली रिहाना भी इस सूची में शामिल हैं। रिहाना ने ट्वीट किया था, ‘हम इसके बारे में बात क्यों नहीं करते हैं’। यह संभावना भी जताई गई थी कि रिहान ने पैसों के लिए यह ट्वीट किया था। इस सूची के अनुसार, रिहाना एक प्रमोशनल पोस्ट के लिए 4.5 करोड़ रुपए लेती हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अभिव्यक्ति की आज़ादी सिर्फ हिन्दू देवी-देवताओं के लिए क्यों?’: सत्ता जाने के बाद उद्धव गुट को याद आया हिंदुत्व, प्रियंका चतुर्वेदी ने सँभाली कमान

फिल्म 'काली' के पोस्टर में देवी को धूम्रपान करते हुए दिखाया गया है। जिस पर विरोध जताते हुए शिवसेना ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हिंदू देवताओं के लिए ही क्यों?

‘किसी और मजहब पर ऐसी फिल्म क्यों नहीं बनती?’: माँ काली का अपमान करने वालों पर MP में होगी कार्रवाई, बोले नरोत्तम मिश्रा –...

"आखिर हमारे देवी देवताओं पर ही फिल्म क्यों बनाई जाती है? किसी और धर्म के देवी-देवताओं पर फिल्म बनाने की हिम्मत क्यों नहीं हो पाती है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,883FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe