Wednesday, December 1, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजन'गाँधी के भीख के कटोरे में मिली आज़ादी, जा कर रो अब': कंगना का...

‘गाँधी के भीख के कटोरे में मिली आज़ादी, जा कर रो अब’: कंगना का वरुण को जवाब, ‘2014 में असली आज़ादी’ बयान पर बवाल

स्वरा भास्कर ने कंगना रनौत के बयान पर ताली बजाने वालों को 'इडियट्स' करार दिया। इस कार्यक्रम में कंगना रनौत ने अंग्रेजों की क्रूरता का जिक्र करते हुए जलियाँवाला बाग़ नरसंहार और बंगाल के अकाल की भी बात की थी।

हाल ही में पद्मश्री से सम्मानित की गई बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत अपने बयानों के कारण फिर विवादों में आ गई हैं। कंगना रनौत पर आरोप है कि उन्होंने एक कार्यक्रम में कहा था कि 1947 में जो आज़ादी मिली वो भीख थी, देश को असली स्वतंत्रता तो 2014 में मिली। इस पर पीलीभीत से भाजपा सांसद वरुण गाँधी भड़क उठे। कंगना रनौत ने 2014 में नरेंद्र मोदी के सत्ता संभालने की ओर इशारा करते हुए ये बात कही थी। AAP ने उन पर भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के बलिदानियों के अपमान का आरोप लगाया है।

वरुण गाँधी ने उनके बयान पर निशाना साधते हुए कहा, “कभी महात्मा गाँधी जी के त्याग और तपस्या का अपमान, कभी उनके हत्यारे का सम्मान, और अब शहीद मंगल पांडेय से लेकर रानी लक्ष्मीबाई, भगत सिंह, चंद्रशेखर आज़ाद, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और लाखों स्वतंत्रता सेनानियों की कुर्बानियों का तिरस्कार। इस सोच को मैं पागलपन कहूँ या फिर देशद्रोह?” साथ ही उन्होंने कंगना रनौत का वो वीडियो भी शेयर किया, जिसमें उन्होंने कहा कि वो आज़ादी नहीं थी, आज़ादी 2014 में मिली है।

कंगना रनौत ने भी वरुण गाँधी पर इंस्टाग्राम के जरिए पलटवार किया है। बॉलीवुड अभिनेत्री ने कहा कि उन्होंने स्पष्ट रूप से जिक्र किया था कि 1857 का युद्ध भारत का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम था जिसे दबा दिया गया, जिसके बाद अंग्रेजों और अत्याचार और क्रूरता की घटनाओं को अंजाम देना और तेज़ कर दिया। कंगना रनौत ने तंज कसते हुए कहा, “प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के लगभग एक सदी बाद हमें गाँधी के भीख के कटोरे में रख कर आज़ादी मिली। जा और रो अब।”

वरुण गाँधी को कंगना रनौत का जवाब

वहीं अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने कंगना रनौत के बयान पर ताली बजाने वालों को ‘इडियट्स’ करार दिया। इस कार्यक्रम में कंगना रनौत ने अंग्रेजों की क्रूरता का जिक्र करते हुए जलियाँवाला बाग़ नरसंहार और बंगाल के अकाल की भी बात की थी। उन्होंने कहा था कि यहूदियों के साथ और भी बुरा हुआ, जो हमें नहीं बताया गया। साथ ही उन्होंने बताया था कि कैसे अंग्रेज भारतीयों के पीछे पड़ गए थे और उन्हें मरने के लिए छोड़ दिया था। हाल ही में कंगना रनौत अंडमान के सेल्युलर जेल में भी गई थीं, जहाँ वीर सावरकर को कालापानी की क़ैद दी गई थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe