Saturday, April 13, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'भूखमरी वाले देश में राम मंदिर 10 साल बाद नहीं बन सकता?': अक्षय पर...

‘भूखमरी वाले देश में राम मंदिर 10 साल बाद नहीं बन सकता?’: अक्षय पर पिल पड़े लिबरल्स

कइयों ने उनसे 'किसान आंदोलन' पर बोलने के लिए दबाव बनाया। एक ने उन्हें 'अवसरवादी' बताते हुए पूछा कि गिलहरी कैसे कुछ बोल सकती है? बलविंदर सिंह नामक यूजर ने लिखा कि मंदिर से केवल पुजारी को रोटी मिलती है। वहीं कुछ ने 'कनाडियन' कह कर उन्हें चिढ़ाने की कोशिश की।

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ने अयोध्या में बन रहे राम मंदिर के लिए लोगों से वैसे ही दान करने की अपील की, जैसे रामसेतु बनाने के दौरान वानरों और गिलहरी ने किया था। कुछ लोगों को ये बात नागवार गुजरी और वो सेकुलरिज्म का चोला ओढ़ कर चले आए। आनंद कोयारी नाम के यूजर ने उन्हें अस्पतालों और स्कूलों के लिए चंदा इकट्ठाइकठ्ठा करने की सलाह दे दी और दावा किया कि कोरोना काल में एक भी मंदिर काम नहीं आया।

जबकि लॉकडाउन के दौरान गरीबों की देखभाल में देश ही नहीं, दुनिया भर के मंदिर आगे रहे और उन्होंने लोगों में सिर्फ जागरूकता ही नहीं फैलाई, वरन सरकारों को दान में भी बड़ी रकम दी। वहीं हरप्रीत सिंह नामक ‘किसान आंदोलन’ समर्थक ने लिखा कि अगर कोई शैक्षिक संस्थान बन रहा होता तो वो सोचता, राम मंदिर के लिए वो कभी दान नहीं देगा। राहुल शुक्ल नामक यूजर ने दावा कर डाला कि जब लॉकडाउन में सबके खाने के लाले पड़े हैं और इसने सबकी बाट लगा दी है, तब अक्षय ऐसी अपील कर गलत कर रहे हैं।

कुमार यादवेंद्र नामक यूजर ने लिखा, “इस कनाडाई नागरिक के झाँसे में नही आना। देश के दलितों-पिछड़ों-आदिवासियों-गरीबों-मजदूरों-किसानों को अपने बच्चों के लिए शिक्षा का बंदोबस्त करना चाहिए। एक-एक पैसा अपने बच्चों के बेहतर भविष्य पर खर्च करना शिक्षा जरूरी हैं। बाक़ी सब काम पीछे, शिक्षा हो आगे। इनका बेटा तो अभिनेता बनेगा। और आपका?” एक अन्य यूजर तो पैसों का ही हिसाब माँगने लगा।

अमित चौधरी नामक यूजर ने लिखा, “अब से पहले भी 1400 करोड़ रुपए इकट्ठे किए जा चुके हैं लेकिन आज तक उन पैसों का अता-पता भी नहीं है। इस देश में भूखमरी है, गरीब जनता है। उनके बारे में ध्यान देना जरूरी है। मंदिर तो आज नहीं तो कल 10 साल या 5 साल बाद फिर से बन जाएगा, लेकिन जो लोग भूख से मर रहे हैं उनका क्या?” परमवीर सिंह नामक यूजर ने उन्हें किसानों को दान देने की सलाह दे डाली।

बता दें कि बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता अक्षय कुमार ने अयोध्या में निर्माणाधीन भव्य राम मंदिर के लिए डोनेशन की अपील की है। ‘खिलाड़ी’ नाम से विख्यात अभिनेता ने लिखा कि अयोध्या में हमारे भगवान श्रीराम के मंदिर का निर्माण शरू होना बहुत ख़ुशी की बात है और अब हमारी योगदान की बारी है। अक्षय ने बड़ी जानकारी दी कि उन्होंने इसके लिए अपना योगदान दे दिया है और उम्मीद जताई और लोग इससे जुड़ेंगे। उन्होंने इस दौरान एक रोचक कहानी का भी जिक्र किया, जो उन्होंने अपनी बेटी को सुनाई थी।

कुछ लोगों ने कहा कि भगवान को दान की ज़रूरत नहीं है, वहीं कुछ ने भूखे को भोजन देने की बातें कही। वहीं कइयों ने उनसे ‘किसान आंदोलन’ पर बोलने के लिए दबाव बनाया। एक ने उन्हें ‘अवसरवादी’ बताते हुए पूछा कि गिलहरी कैसे कुछ बोल सकती है? बलविंदर सिंह नामक यूजर ने लिखा कि मंदिर से केवल पुजारी को रोटी मिलती है। वहीं कुछ ने ‘कनाडियन’ कह कर उन्हें चिढ़ाने की कोशिश की।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘राष्ट्रपति आदिवासी हैं, इसलिए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में नहीं बुलाया’: लोकसभा चुनाव 2024 में राहुल गाँधी ने फिर किया झूठा दावा

राष्ट्रपति मुर्मू को राम मंदिर ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए औपचारिक रूप से आमंत्रित किया गया था।

‘शबरी के घर आए राम’: दलित महिला ने ‘टीवी के राम’ अरुण गोविल की उतारी आरती, वाल्मीकि बस्ती में मेरठ के BJP प्रत्याशी का...

भाजपा के मेरठ लोकसभा सीट से उम्मीदवार और अभिनेता अरुण गोविल जब शनिवार को एक दलित के घर पहुँचे तो उनकी आरती उतारी गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe