Monday, July 26, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनसुशांत के भूत को समन भेजो, सारे जवाब मिल जाएँगे: लाइव टीवी पर नासिर...

सुशांत के भूत को समन भेजो, सारे जवाब मिल जाएँगे: लाइव टीवी पर नासिर अब्दुल्ला के बेतुके बोल

आज तक पर हो रही एक परिचर्चा दौरान नासिर अब्दुल्ला ने यह हैरान करने वाला बयान दिया। उन्होंने कहा कि वह ऐसे कई लोगों को जानते हैं जो सुशांत सिंह की आत्मा को समन भेज सकते हैं। लिहाज़ा एनसीबी को प्रयास करना चाहिए कि वह सुशांत सिंह की आत्मा को समन भेजें और उससे ही ड्रग्स मामले और मौत से जुड़े सवालों के जवाब पूछें।

शनिवार (26 सितंबर 2020) को लाइव टेलीविज़न पर एक अजीबोगरीब बात हुई। बॉलीवुड अभिनेता नासिर अब्दुल्ला ने सुशांत सिंह राजपूत मामले में एक विचित्र माँग कर दी। उन्होंने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या से जुड़े कई सवाल हैं, एनसीबी उन सवालों का जवाब जानने के लिए सुशांत सिंह के भूत को समन भेज सकती है। 

आज तक पर हो रही एक परिचर्चा दौरान नासिर अब्दुल्ला ने यह हैरान करने वाला बयान दिया। उन्होंने कहा कि वह ऐसे कई लोगों को जानते हैं जो सुशांत सिंह की आत्मा को समन भेज सकते हैं। लिहाज़ा एनसीबी को प्रयास करना चाहिए कि वह सुशांत सिंह की आत्मा को समन भेजें और उससे ही ड्रग्स मामले और मौत से जुड़े सवालों के जवाब पूछें।

नासिर अब्दुल्ला ने कहा, “हम एक ऐसे इंसान की बात कर रहे हैं जो मर चुका है। हम फिर भी सुशांत सिंह से संपर्क कर सकते हैं। मुंबई में ऐसे कई लोग हैं जो सुशांत सिंह राजपूत की आत्मा को जगा सकते हैं और उससे बात कर सकते हैं।” विज्ञान को सिरे से खारिज करने वाले इस तर्क को सुन कर परिचर्चा में भाग लेने वाले अन्य जानकार दंग रह गए। परिचर्चा की संचालक अंजना ओम कश्यप भी नासिर अब्दुल्ला के इस बयान से हैरान हो गईं। नासिर अब्दुल्ला भी यह बात कह कर रुके नहीं, बल्कि उन्होंने ऐसा जल्द से जल्द करने की बात पर ज़ोर भी दिया। 

किसी के लिए भी यह समझना मुश्किल होता कि नासिर व्यंग्यात्मक बनने की कोशिश कर रहे थे या बनावटी। परिचर्चा जैसे-जैसे आगे बढ़ी एक बात और स्पष्ट हो गई कि नासिर इस तरह के दावे पूरी गंभीरता से कर रहे थे। गौरतलब है कि नासिर उन लोगों की सूची में भी शामिल हैं जो ड्रग्स मामले में आरोपित लोगों का लगातार बचाव कर रहे हैं। 

यह पहला मौक़ा नहीं है जब नासिर अब्दुल्ला ने इस तरह का बेतुका बयान देकर खुद का मज़ाक बनवाया है। आज तक चैनल पर एक चर्चा में उन्होंने शिव सैनिकों के उत्पात का समर्थन किया था। नासिर अब्दुल्ला ने अनाधिकारिक प्रवक्ता की तरह बर्ताव ही नहीं किया, बल्कि यह भी कहा कि शिवसेना महिलाओं का सम्मान करती है। 

नासिर ने कहा था, “मैं शिव सैनिकों द्वारा किए जाने वाले उपद्रव को बाल ठाकरे के समय से देख रहा हूँ। मेरा कहना सिर्फ इतना है कि शिव सैनिक महिलाओं का सम्मान करते हैं। कंगना रनौत महिला हैं, इसलिए शिव सैनिकों ने उनके साथ हिंसा नहीं की, हिंसा की जगह उन्होंने बुलडोजर का इस्तेमाल किया।”   

कुल मिला कर नासिर ऐसा कहना चाह रहे थे कि शिव सैनिकों ने कंगना के साथ मारपीट करने की बजाय उनका दफ्तर तोड़ कर उन पर एहसान किया। यह परिचर्चा कुल दो मुद्दों पर आधारित थी। पहला बीएमसी द्वारा कंगना के दफ्तर में की गई तोड़ -फोड़ और उद्धव ठाकरे से जुड़ा कार्टून साझा करने पर शिव सैनिकों द्वारा पूर्व नौसेना अधिकारी के साथ की गई मारपीट। 

उल्लेखनीय है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जाँच शुरू होने के बाद बॉलीवुड और ड्रग्स का संबंध सामने आया है। जाँच में कई दिग्गज बॉलीवुड कलाकारों, प्रोड्यूसर और फिल्म निर्माताओं का नाम सामने आ चुका है। इसमें से कई लोगों को एनसीबी समन भी भेज चुकी है। प्रवर्तन निदेशालय ने सुशांत सिंह मामले की जाँच के दौरान बॉलीवुड के ड्रग्स कनेक्शन का खुलासा किया, जिसके बाद एनसीबी ने जाँच शुरू की थी। 

एनसीबी इस मामले में कई पहलुओं पर जाँच कर रही है, जिसमें ड्रग्स का सेवन, लेन-देन और ड्रग्स उपलब्ध कराना मुख्य है। एनसीबी आज बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण से ड्रग्स मामले में पूछताछ कर रही है। इसी तरह एनसीबी ने रकुल प्रीत सिंह, श्रद्धा कपूर और सारा अली खान को भी ड्रग्स मामले में समन भेजा था। अभी तक एनसीबी फैशन डिज़ाइनर सिमोन खंबाटा और सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व मैनेजर श्रुति मोदी का बयान दर्ज कर चुकी है।      

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,341FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe