Monday, November 29, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजन'पूरा देश आपके और आर्यन के साथ': वो चिट्ठी जो राहुल गाँधी ने लिखी,...

‘पूरा देश आपके और आर्यन के साथ’: वो चिट्ठी जो राहुल गाँधी ने लिखी, जब जेल में था शाहरुख खान का बेटा

“कोई भी बच्चा इस तरह का व्यवहार को डिजर्व नहीं करता है। मैंने लोगों के लिए आपके द्वारा किए गए अच्छे कामों को देखा है।"

क्रूज ड्रग्‍स मामले में आर्यन खान की गिरफ्तारी के दौरान बॉलीवुड स्‍टार शाहरुख खान को काफी लोगों का समर्थन मिला। इसमें फिल्‍म जगत से लेकर बड़े राजनेता भी शामिल हैं। अब यह बात सामने आई है कि आर्यन खान को लेकर बीते दिनों कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गाँधी ने भी शाहरुख खान को चिट्ठी लिखी थी। रिपोर्ट के अनुसार पत्र में राहुल ने शाहरुख को लिखा था कि पूरा देश उनके और आर्यन के साथ है। राहुल गाँधी ने लिखा था, “देश आपके साथ है।”

बता दें कि आर्यन खान के मुंबई के आर्थर रोड जेल भेजे जाने के छह दिन बाद 14 अक्‍टूबर को राहुल गाँधी ने शाहरुख खान को यह खत लिखा था। उस समय कोर्ट ने आर्यन को जमानत देने से इनकार कर दिया था। राहुल गाँधी ने शाहरुख और गौरी को लिखा था कि सच को ज्यादा दिनों तक बंधक नहीं रखा जा सकता है। राहुल ने पत्र में लिखा कि ऐसी स्थिति में किसी प्रियजन को देखना आसान नहीं है। 

उन्होंने लिखा, “कोई भी बच्चा इस तरह का व्यवहार को डिजर्व नहीं करता है। मैंने लोगों के लिए आपके द्वारा किए गए अच्छे कामों को देखा है। मुझे यकीन है कि उनका आशीर्वाद और सद्भावना आपके साथ रहेगी। मैं जानता हूँ कि आप दयालु हैं और आपने समुदाय में सद्भावना पैदा की है। इसलिए मुझे आपके परिवार के लिए व्यापक समर्थन दिखाई दे रहा है।” उन्होंने यह भी कामना की थी कि परिवार जल्द ही साथ हो।

इस पत्र के बारे में कॉन्ग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है कि अगर ऐसा कोई पत्र लिखा गया है तो वह सार्वजनिक नहीं किया जा सकता है क्योंकि यह राहुल गाँधी और शाहरुख खान के बीच का व्यक्तिगत मसला है।

बता दें कि 2 अक्टूबर को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने क्रूज पर छापा मारा था। इस मामले में संदिग्ध के तौर पर आर्यन खान, उनके दोस्त अरबाज और मुनमुन को पकड़ा गया था, जिसके बाद कोर्ट ने दो बार आर्यन खान की जमानत याचिका खारिज की थी। 28 अक्टूबर को आर्यन खान को हाई कोर्ट से जमानत मिली थी। 30 अक्टूबर को वे जेल से बाहर आए थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe