Tuesday, November 30, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनजिसने सुशांत के लिए लिखा- नखरे दिखाने वाला, उसने करण जौहर की मेहरबानी के...

जिसने सुशांत के लिए लिखा- नखरे दिखाने वाला, उसने करण जौहर की मेहरबानी के बाद छोड़ी ‘पत्रकारिता’

करण जौहर ने अपना नया वेंचर बंटी सजदेह की कॉर्नरस्टोन स्पोर्ट और मैनेजमेंट के साथ शुरू किया था। ये वही फर्म है जिसमें सुशांत सिंह राजपूत की प्रबंधक दिशा सालियान मैनेजर बनने से पहले काम करती थीं।

अपने लेखों के जरिए सुशांत सिंह राजपूत की छवि धूमिल करने वाले फिल्म आलोचक राजीव मसंद ने ‘पत्रकारिता’ को अलविदा कह दिया है। उन्होंने करण जौहर के धर्मा प्रोडक्शन के नए वेंचर को बतौर चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (COO) ज्वाइन किया है। इस बात की जानकारी पत्रकार सौम्यादित्य ने ट्विटर पर दी है।

मीडिया रिपोर्ट्स में भी यह बताया गया है कि पत्रकार राजीव मसंद अब धर्मा कॉर्नरस्टोन को अगले हफ्ते से ज्वाइन करने वाले हैं। वह वहाँ COO (चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर) के तौर पर ज्वाइन करेंगे। करण और अन्य शीर्ष अधिकारियों को लगता है कि इस पद के लिए राजीव बिलकुल सही व्यक्ति हैं और वह नई प्रतिभाओं की खोज में मदद करेंगे।

बता दें कि 15 दिसंबर 2020 को ही करण जौहर ने अपना नया वेंचर बंटी सजदेह की कॉर्नरस्टोन स्पोर्ट और मैनेजमेंट के साथ शुरू किया था। ये वही फर्म है जिसमें सुशांत सिंह राजपूत की प्रबंधक दिशा सालियान मैनेजर बनने से पहले काम करती थीं। 

कहा जा रहा है कि दिशा इसी फर्म के जरिए सुशांत के संपर्क में आईं थीं। इसके बाद जब जून 2020 में सुशांत और दिशा सालियान दोनों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई तो सितंबर 2020 में सीबीआई ने इस कंपनी के सीईओ बंटी सजदेह को समन भेजा। ये समन सुशांत के फ्लैट में रहने वाले सिद्धार्थ पिठानी से पूछताछ के बाद बंटी को भेजा गया था, उसी ने अपने पहले बयान में यह नाम लिया था। 

सुशांत की मृत्यु के बाद मुंबई पुलिस ने राजीव मसंद को भी पूछताछ के लिए समन भेजा गया था, जिसके चलते बांद्रा थाने में उनसे पूछताछ भी हुई। इसके अलावा कंगना रनौत ने भी मूवी माफिया पर बात करते हुए राजीव मसंद का नाम लेकर कहा था कि सुशांत सिंह राजपूत मामले में राजीव से पड़ताल होनी चाहिए।

गौरतलब है कि सुशांत के जाने के बाद कई लोगों ने बॉलीवुड के गिरोह को लेकर अपना गुस्सा व्यक्त किया था। इस बीच यह बात सामने आई कि एक्टर को बदनाम करने के लिए किसी के इशारे पर निगेटिव आर्टिकल लिखे जाते थे। इन लेखों में सुशांत की छवि बिगाड़ने का प्रयास हुआ। राजीव मसंद उन्हीं लोगों में से एक थे जिन्होंने टैलेंटेड एक्टर के लिए ‘skirt-chaser’, ‘overpaid outsider’ जैसे शब्दों का प्रयोग किया। साथ ही उन्हें नखरे दिखाने वाला एक्टर भी कहा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe