Saturday, June 22, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनकाली, बदसूरत... सुहाना खान ने झेला गोरे-काले का भेद, पापा शाहरुख हैं Fair &...

काली, बदसूरत… सुहाना खान ने झेला गोरे-काले का भेद, पापा शाहरुख हैं Fair & Handsome के ब्रांड एम्बेसडर

"मैं 5"3 और ब्राउन रंग की हूँ और मैं इसको लेकर काफी खुश हूँ। और आपको भी होना चाहिए। हम अलग-अलग रंगों में आते हैं, लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप..."

बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान की बेटी सुहाना खान ने मंगलवार (सितंबर 29, 2020) को एक तस्वीर साझा करते हुए इंस्टाग्राम पर दावा किया कि उन्हें उनकी भूरी त्वचा के कारण बदसूरत कहा गया था।

उन्होंने लिखा कि एक ओर जहाँ इस समय कई चीजें चल रही हैं। उनमें से पहली चीज जो सुधारने की आवश्यकता है वो यह कि किसी को भी उसकी त्वचा के रंग को लेकर परेशान नहीं किया जाना चाहिए।

सुहाना ने बताया कि जब वह 12 साल की थीं, तो उन्हें युवाओं द्वारा कहा गया कि वह अपनी स्किन टोन की वजह से बदसूरत हैं। वह आगे लिखती हैं कि इस तथ्य के अलावा कि वह असल में युवा थे। दुख की बात यह है कि वह भारतीय थे, जो हम सभी को ऑटोमेटिकली ब्राउन बनाता है।

स्टार किड सुहाना लिखती हैं कि केवल भूरी त्वचा के कारण अपने लोगों से नफरत करना सिर्फ INSECURITY के अलावा कुछ नहीं है। उनकी मानें तो किसी को भी सोशल मीडिया द्वारा तैयार किए गए सौंदर्य मानकों का पालन नहीं करना चाहिए। वह 5″3 हाइट के साथ भूरी हैं और इसे लेकर वह बहुत खुश हैं।

पूरा पोस्ट:

इस समय कई चीजें चल रही हैं और यह ऐसा मुद्दा है, जिसको सही करना बहुत जरूरी है। यह सिर्फ मेरे बारे में नहीं है, यह उन सब लड़के और लड़कियों के बारे में हैं, जो बिना किसी बात के हीन भावना से ग्रस्त होते हुए बड़े हुए हैं। यहाँ मेरी अपियरेंस को लेकर कुछ टिप्पणियाँ की गई हैं। जब मैं 12 साल की थी, तो मुझे य़ुवाओं ने कहा कि मैं अपनी स्किन टोन की वजह से बदसूरत हूँ, इस तथ्य के अलावा कि वह असल में युवा थे। दुख की बात यह है कि हम सभी भारतीय हैं और जो हम सभी को ऑटोमेटिकली ब्राउन बनाता है। हाँ हम अलग-अलग रंगों में आते हैं, लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप मेलेनिन से खुद को दूर करने की कितनी कोशिश करते हैं, आप बस यह नहीं कर सकते। अपने ही लोंगो से नफरत करने का मतलब है कि आप असुरक्षित हैं। मुझे खेद है कि अगर सोशल मीडिया, भारतीय मैचमेकिंग या यहाँ तक ​​कि आपके स्वयं के परिवारों ने भी आपको आश्वस्त किया है, कि यदि आप 5″7 और साफ रंग के नहीं हैं, तो आप सुंदर नहीं हैं। मुझे आशा है कि यह जानने में आपकी मदद करेगा कि मैं 5″3 और ब्राउन रंग की हूँ और मैं इसको लेकर काफी खुश हूँ। और आपको भी होना चाहिए।

यहाँ बता दें कि सुहाना ने यह पोस्ट उन्हें सोशल मीडिया पर मिल रही टिप्पणियों के जवाब में लिखा है जहाँ उन्हें काली और बदसूरत कहा गया था। दिलचस्प बात यह है कि सुहाना बॉलीवुड के किंग खान की बेटी हैं और शाहरूख खान एक फेयरनेस क्रीम ‘fair and handsome’ के एम्बेसडर हैं जिसे आदमियों के लिए बनाया गया है और जो अपने विज्ञापनों में पुरुषों को गोरी त्वचा के सपने दिखाती है।

सुहाना ने फिल्म की पढ़ाई लंदन में की हैं और अपनी आगे की पढ़ाई वह न्यू यॉर्क में कर रही हैं। हाल में उन्होंने अपने एक्टिंग का डेब्यू एक शॉर्ट फिल्म से किया था। उसका नाम The Grey Part of Blue था और उसे निर्देशित Theodore Gimeno ने किया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -