Monday, August 2, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनशायद बहनों की दवा से बिगड़ी सुशांत सिंह की मानसिक हालत: मुंबई पुलिस का...

शायद बहनों की दवा से बिगड़ी सुशांत सिंह की मानसिक हालत: मुंबई पुलिस का HC में दावा

पुलिस ने अदालत में दायर किए गए हलफनामे में कहा कि डॉक्टरों द्वारा बिना जाँच के किसी भी तरह का पदार्थ या दवा देना सुशांत सिंह की मौत के केस में सभंवत: एक कारण हो सकता है।

मुंबई पुलिस ने बॉम्बे हाईकोर्ट में सोमवार (अक्टूबर 02, 2020) को एक शपथ पत्र दायर किया है। इस शपथ पत्र में मुंबई पुलिस ने दिवंगत बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह की बहनों प्रियंका और मीतू सिंह द्वारा दायर याचिका को खारिज करने का अनुरोध किया। मुंबई पुलिस ने अदालत को बताया कि आखिर क्यों उन्होंने रिया चक्रवर्ती द्वारा एफआईआर दर्ज की थी।

जानकारी के मुताबिक, सोमवार (नवंबर 2, 2020) को दर्ज मुंबई पुलिस द्वारा शपथ पत्र में अदालत को बताया गया कि उन्होंने सुशांत सिंह राजपूत मामले में रिया चक्रवर्ती द्वारा दायर एफआईआर दर्ज करवाना उनका कर्तव्य था। मुंबई पुलिस ने ये भी आशंका जताई कि शायद सुशांत सिंह राजपूत की बहन प्रियंका सिंह और मीतू सिंह की ओर से सुशांत को दवाइयाँ दी गई थी। इसके बाद ही एक्टर की मानसिक हालत बिगड़ी हो।

दरअसल सुशांत की बहनों ने कथित धोखाधड़ी और फर्जी डॉक्टर की प्रिस्किप्शन वाली शिकायत को रद्द करने की माँग की थी। इस एफआईआर को रिया चक्रवर्ती द्वारा दर्ज किया गया था। रिया ने आरोप लगाया था कि सुशांत की बहनों ने दिल्ली के आरएमएल अस्पताल के एक डॉक्टर की मदद से बिना जाँच के दवाइयाँ दी। इसके बाद ही सुशांत की मानसिक हालत बिगड़ी थी। पुलिस ने अदालत में दायर किए गए हलफनामे में ये भी कहा कि डॉक्टरों द्वारा बिना जाँच के किसी भी तरह का पदार्थ या दवा देना सुशांत सिंह की मौत के केस में सभंवत: एक कारण हो सकता है।

बांद्रा पुलिस ने रिया चक्रवर्ती की शिकायत के बाद सुशांत की बहनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। ये सूचना मुहैया करवाने वाला और अपराध का खुलासा करने वाली जानकारी थी, इसकी इसकी जाँच की जरूरत है। इसलिए मुंबई पुलिस प्राथमिकी दर्ज करने के लिए बाध्य थी।

बांद्रा पुलिस के वरिष्ठ निरीक्षक निखिल कापसे द्वारा दायर हलफनामे में कहा गया है कि सुशांत सिंह राजपूत की बहनों के खिलाफ एफआईआर दायर कर पुलिस सीबीआइ द्वारा की जा रही जाँच को ‘प्रभावित करने या पटरी से उतारने का प्रयास नहीं कर रही है।’ हलफनामे में इन आरोपों से भी इनकार किया गया है कि पुलिस याचिकाकर्ताओं या किसी मृतक व्यक्ति की प्रतिष्ठा को ठेस पहुँचाने की कोशिश कर रही है। 

हलफनामे में कहा गया है कि सुशांत की बहन प्रियंका एवं मीतू के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने वाली रिया चक्रवर्ती द्वारा उपलब्‍ध जानकारी के आधार पर दर्ज की गई थी, जिसमें अपराध होने का खुलासा हुआ था। इस हलफनामे में दावा किया गया कि शिकायतकर्ता अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के अनुसार, याचिकाकर्ता ने दिल्ली के एक डॉक्टर की मदद से फर्जी मेडिकल पर्चा भेजा जिसमें राजपूत को घबराहट दूर करने वाली दवाइयाँ देने की बात की गई थी।

बता दें कि हाल में ही सुशांत की बहन ने कोर्ट से ये अपील की थी कि इस एफआईआर को रद्द किया जाए। सुशांत की बहनें इन आरोपों को बेबुनियाद बता चुकी हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe