कॉमेडी के नाम पर स्वरा भास्कर की फूहड़ता: 4 साल के बच्चे को कहा- चू**या, कमीना…

स्वरा अपने शुरुआती विज्ञापन शूट के बारे में बता रही थी, जोकि एक साबुन के बारे में था। इस दौरान वो बताती हैं कि वो इस बात से काफ़ी आश्चर्यचकित रह गई थीं जब एक चार साल के बाल कलाकार ने उन्हें ‘ऑन्टी’ कहकर संबोधित किया।

टेलीविज़न पर दिखाए जाने वाले कॉमेडी शो का मक़सद आपको हँसाना होता है। रोज़मर्रा के जीवन में लोग कभी-कभी कुछ हँसी के ठहाके लगाने के लिए कॉमेडी शो को देखने के लिए अपना टीवी ऑन कर देते हैं। इस तरह के कार्यक्रमों में इस बात का ख़ासतौर पर ध्यान रखा जाता है कि हँसी के ठहाकों के लिए कहीं ऐसे शब्दों का इस्तेमाल न हो जाए जिससे किसी की भावनाएँ आहत हो जाएँ। लेकिन, अभिनेत्री स्वरा भास्कर को इस बात से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता। इसलिए वो कहीं भी कुछ भी बोल बैठती हैं। 

ऐसा ही एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वो एक चार साल के बाल कलाकार का ज़िक्र करती नज़र आईं। इस दौरान उन्होंने उस बाल कलाकार को चू ** या और कमीना कहा। उन्होंने यह टिप्पणी यूट्यूब पर अबीश मैथ्यू के कॉमेडी शो ‘Son of Abish’ के हालिया एपिसोड में की।

इस एपिसोड में स्वरा अपने शुरुआती विज्ञापन शूट के बारे में बता रही थी, जोकि एक साबुन से संबंधित था। इस दौरान वो बताती हैं कि वो इस बात से काफ़ी आश्चर्यचकित रह गई थीं जब एक चार साल के बाल कलाकार ने उन्हें ‘ऑन्टी’ कहकर संबोधित किया। स्वरा ने इस घटना का ज़िक्र करते हुए उस बाल कलाकार को ‘चू ** या’ कहा। भले ही दर्शकों को स्वरा की इस बात पर हँसी आ गई हो, लेकिन बच्चों के सन्दर्भ में कही गई यह बात बेहद अपमानजनित है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

कॉमेडी शो में वह उस विज्ञापन के बारे में अधिक बात करती हैं, जहाँ वो बाल कलाकार बाथरुम जाने के लिए पूछ रहा था और कोई उस बच्चे की मदद नहीं कर रहा था। इस पर स्वरा को उस बच्चे पर दया आ गई। इस बात को बताते हुए स्वरा ने बच्चे को कमीना कहकर संबोधित किया। 

स्वरा भास्कर ने जिस अंदाज़ में यह सब बातें कही उस अंदाज़ को भले ही दर्शकों ने पसंद किया हो, लेकिन एक बाल कलाकार को इस तरह से संबोधित करके स्वरा ने अपने अभद्र व्यवहार का ही प्रमाण दिया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शाहीन बाग़, शरजील इमाम
वे जितने ज्यादा जोर से 'इंकलाब ज़िंदाबाद' बोलेंगे, वामपंथी मीडिया उतना ही ज्यादा द्रवित होगा। कोई रवीश कुमार टीवी स्टूडियो में बैठ कर कहेगा- "क्या तिरंगा हाथ में लेकर राष्ट्रगान गाने वाले और संविधान का पाठ करने वाले देश के टुकड़े-टुकड़े गैंग के सदस्य हो सकते हैं? नहीं न।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,546फैंसलाइक करें
36,423फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: