Tuesday, May 18, 2021
Home विविध विषय भारत की बात भगत सिंह को उनके दादाजी ने जनेऊ संस्कार के समय ही दान कर दिया...

भगत सिंह को उनके दादाजी ने जनेऊ संस्कार के समय ही दान कर दिया था… वो ऐलान, जिसे ‘शहीद’ ने जिंदगी भर निभाया

"उम्मीद है आप मुझे माफ़ कर देंगे। मैं उस समय की उनकी (दादाजी की) प्रतिज्ञा पूरी कर रहा हूँ। आपको याद होगा कि जब मैं बहुत छोटा था, तो बापू जी (दादाजी) ने मेरे जनेऊ संस्कार के समय ऐलान किया था कि मुझे दान कर दिया गया है ताकि..."

क्रांतिकारी शब्द का अपना स्वभाव होता है। इस शब्द के न तो आगे कुछ और न ही पीछे, जो है बस है। इस बात की सबसे शानदार नज़ीर हैं भगत सिंह और शायद इसलिए इस नाम के जितनी गाढ़ी लकीर किसी दूसरे नाम की नहीं। ऐसे नाम खोजने पर भी नज़र नहीं आते, जो फाँसी के तख़्त पर चढ़ने के पहले मुस्कराते हों। जिनके लिए ज़मीन, घर, परिवार और अपना पिंड छोड़ने के लिए इतनी वजह ही काफी थी कि देश उनकी ओर उम्मीद भरी निगाहों से एक टक निहार रहा था।

23 मार्च 1931 को जब भगत की फाँसी का वक्त आया, तब जितने भी लोग उन्हें देख पाए, सब के सब हैरान थे। भरे हुए गाल, कसा हुआ शरीर और वजन बढ़ा हुआ था। लोग कारावास में रह कर निराश होते थे लेकिन उनके साथ ठीक विपरीत हुआ। भगत सिंह इस बात से उत्साहित थे कि उन्हें देश के लिए शहीद होने के मौक़ा मिल रहा है।

फाँसी के वक्त मौके पर तमाम फिरंगी अधिकारी मौजूद थे, कुछ यूरोप के तो कुछ ब्रिटिश। भगत सिंह ने उन सभी की तरफ देख कर मुस्कराते हुए कहा, “मिस्टर मजिस्ट्रेट, आप बेहद भाग्यशाली हैं कि आपको यह देखने के लिए मिल रहा है। भारत के क्रांतिकारी किस तरह अपने आदर्शों के लिए फाँसी पर भी झूल जाते हैं।”    

भगत सिंह की ज़िंदगी में बेहद कम उम्र के दौरान ही बहुत कुछ तय हो गया था और सब कुछ स्वतः हुआ। भगत सिंह उस वक्त सिर्फ 8 साल के थे, जब उनके सामने नौजवान क्रांतिकारी ‘करतार सिंह सराभा’ फाँसी के तख़्त पर चढ़ गए।

चेहरे पर न कोई शिकन और न कोई परवाह, मुल्क की बात थी तो फाँसी से कैसा भय! आखिर ऐसी मृत्यु सामान्य भी नहीं है, लोग इस सूरत की मौतों को ‘शहीद’ पुकारते हैं। भगत सिंह अपनी जवानी में जो बने, उसके लिए इस घटना का नज़ारा बहुत था। भगत सिंह ने समझने में देरी नहीं कि ‘जो होना है, उसके लिए जवानी ही है और जवानी कब ढल जाए, इसका कोई अनुमान नहीं।’

भगत सिंह 15-16 साल के थे। नेशनल कॉलेज लाहौर से पढ़ाई कर रहे थे। उनकी हिन्दी, पंजाबी और उर्दू तीनों भाषाओं पर बराबर पकड़ थी। उन दिनों कम उम्र में विवाह का चलन था। लिहाज़ा उनके पिता चाहते थे कि भगत सिंह विवाह कर लें लेकिन भगत सिंह ने टाल दिया। दबाव बढ़ा तब भगत सिंह ने अपने पिता को चिट्ठी लिख कर घर छोड़ दिया। वह अपनी चिट्ठी में लिखते हैं, 

“पूज्य पिता जी,
नमस्ते!
मेरी ज़िंदगी भारत की आज़ादी के महान संकल्प के लिए दान कर दी गई है। इसलिए मेरी ज़िंदगी में आराम और सांसारिक सुखों का कोई आकर्षण नहीं है। आपको याद होगा कि जब मैं बहुत छोटा था, तो बापू जी (दादाजी) ने मेरे जनेऊ संस्कार के समय ऐलान किया था कि मुझे वतन की सेवा के लिए वक़्फ़ (दान) कर दिया गया है। लिहाज़ा मैं उस समय की उनकी प्रतिज्ञा पूरी कर रहा हूँ। उम्मीद है आप मुझे माफ़ कर देंगे।
आपका ताबेदार
भगतसिंह

यह जानकारी आज तक सीमित है कि भगत सिंह घर छोड़ कर सीधे कानपुर पहुँचे, गणेश शंकर विद्यार्थी के पास। गणेश शंकर विद्यार्थी के लिए हैरान कर देने वाली बात यह थी कि एक लड़का जिसके जवान होने में वक्त है, उसकी कलम में इतनी धार आई कैसे?

भगत सिंह बहुत कम समय में गणेश शंकर के प्रिय बन गए थे। सबसे मज़े की बात यह है कि भगत सिंह के लेख उनके नाम से छपते भी नहीं थे। उनके सारे लेख ‘बलवंत सिंह’, विद्रोही या अन्य छद्म नामों से प्रकाशित होते थे।

16 मई 1925 को कोलकाता से प्रकाशित होने वाले साप्ताहिक ‘मतवाला’ में उनका एक लेख प्रकाशित हुआ – भगत सिंह के नाम से नहीं ‘बलवंत सिंह’ के नाम से। उस अद्भुत लेख का एक हिस्सा कुछ इस प्रकार है: 

“अगर रक़्त की भेंट चाहिए तो सिवा युवक के कौन देगा? अगर तुम बलिदान चाहते हो तो तुम्हें युवक की ओर देखना होगा। प्रत्येक जाति के भाग्य विधाता युवक ही होते हैं। …सच्चा देशभक्त युवक बिना झिझक मौत का आलिंगन करता है, संगीनों के सामने छाती खोलकर डट जाता है, तोप के मुँह पर बैठकर मुस्कुराता है, बेड़ियों की झनकार पर राष्ट्रीय गान गाता है और फाँसी के तख्ते पर हँसते-हँसते चढ़ जाता है। अमेरिकी युवा पैट्रिक हेनरी ने कहा था – जेल की दीवारों के बाहर ज़िंदगी बड़ी महँगी है।”

“पर, जेल की काल कोठरियों की ज़िंदगी और भी महँगी है क्योंकि वहाँ यह स्वतंत्रता संग्राम के मूल्य रूप में चुकाई जाती है। ऐ भारतीय युवक! तू क्यों गफ़लत की नींद में पड़ा बेखबर सो रहा है। उठ! अब अधिक मत सो। सोना हो तो अनंत निद्रा की गोद में जाकर सो रह… धिक्कार है तेरी निर्जीवता पर। तेरे पूर्वज भी नतमस्तक हैं इस नपुंसत्व पर। यदि अब भी तेरे किसी अंग में कुछ हया बाकी हो तो उठ कर माता के दूध की लाज रख, उसके उद्धार का बीड़ा उठा, उसके आंँसुओं की एक-एक बूंद की सौगंध ले, उसका बेड़ा पार कर और मुक्त कंठ से बोल- वंदे मातरम!”

इस लेख का हर शब्द इस बात का जीवंत प्रमाण है कि बहुतों ने बहुत कुछ लिखा लेकिन इतनी कम उम्र में ऐसा कुछ किसी ने नहीं लिखा। जनता को इस बात की भनक तक नहीं थी कि बलवंत सिंह हैं कौन? खुद गणेश शंकर विद्यार्थी तक नहीं जानते थे कि शब्दों की इतनी गाढ़ी लकीर भगत सिंह की खींची हुई है।

भगत सिंह के एक नहीं बल्कि अनेक ऐसे लेख हैं, जो खुद में आज़ादी के सबसे कीमती दस्तावेज़ हैं। पंजाबी पत्रिका ‘किरती’ में भी उनके कई लेख छपे, जिसके चर्चा पूरे मुल्क में हुई। यहाँ वह विद्रोही नाम से लिखते थे। 

जनवरी 1928 में उनका एक लेख ‘किरती’ में प्रकाशित हुआ, जिसमें उन्होंने काकोरी कांड के क्रांतिकारियों को अपने शब्दों से श्रद्धांजलि दी। भगत सिंह लिखते हैं, हम लोग आह भरकर समझ लेते हैं कि हमारा फ़र्ज पूरा हो गया। हमें आग नहीं लगती। हम तड़प नहीं उठते। हम इतने मुर्दा हो गए हैं। आज वे भूख हड़ताल कर रहे हैं। तड़प रहे हैं। हम चुपचाप तमाशा देख रहे हैं। ईश्वर उन्हें बल और शक्ति दे कि वे वीरता से अपने दिन पूरे करें और उन वीरों के बलिदान रंग लाएँ।” 

‘किरती’ में ही भगत सिंह ने बलिदान देने वाले सेनानियों पर आधारित एक श्रृंखला लिखी थी, जिसका शीर्षक था ‘आज़ादी की भेंट शहादतें’। इसमें वह मदन लाल ढिंगरा के लिए लिखते हैं, “फाँसी के तख़्ते पर खड़े मदन से पूछा जाता है- कुछ कहना चाहते हो? उत्तर मिलता है- वन्दे मातरम! माँ! भारत माँ तुम्हें नमस्कार और वह वीर फाँसी पर लटक गया। उसकी लाश जेल में ही दफ़ना दी गई। हम हिन्दुस्तानियों को दाह क्रिया तक नहीं करने दी गई। धन्य था वो वीर। धन्य है उसकी याद। मुर्दा देश के इस अनमोल हीरे को बार-बार प्रणाम।” 

भगत सिंह के लेखों में दो बातें हमेशा नज़र आती थीं। पहला कि नई पीढ़ी के लिए क्रांति शब्द के क्या मायने हैं और दूसरा असल क्रांतिकारियों की तासीर होती क्या है? भगत सिंह का मानना था कि कि देश के लिए मिटने वालों में एक बात समान होती है – ‘वह साधू होते हैं।’ ऐसे साधू जिसे संसार का कोई मोह नहीं है, सिवाय एक चीज़ ‘देश’ के। हालाँकि साधुओं में भी परमात्मा का मोह होता है, ठीक वैसे ही शहीद होने वालों को मुल्क का मोह होता है, मुल्क की मिट्टी और आवाम का मोह होता है। 

8 अप्रैल 1929 को दिल्ली असेम्बली में भगत सिंह द्वारा फेंके गए बम में एक कागज़ का टुकड़ा लगा हुआ था। उसमें जितनी बातें लिखी थीं, वह भगत सिंह के मूल स्वभाव और व्यक्तित्व को समझने के लिए पर्याप्त हैं। भगत सिंह ने कागज़ के टुकड़े में लिखा था कि ‘इंसान मारे जा सकते हैं लेकिन विचार नहीं।’ उनका कहना था कि वह चाहते हैं कि लोगों में इस बात का भरोसा बना रहे कि व्यक्ति मिट सकता है पर उसका व्यक्तित्व नहीं। 

किसी कवि ने शायद इसलिए ही लिखा है, “कुछ नहीं रह जाता है बस लिखा पढ़ा रह जाता है।”

क्रांतिकारियों की किताब के पन्ने ऐसे ही होते हैं। उनमें क्रांति की स्याही बराबर नज़र आती है। उनकी किताबों के पन्ने पलटने पर जितनी तस्वीरें नज़र आती हैं, उनका रंग लाल ही होता है, सुर्ख लाल। आखिर क्रांति और शहादत जैसे कालजयी शब्द सभी के भाग्य में होते भी नहीं, जिनके भाग्य में है, उनकी हस्ती अमर है।

भगत सिंह ने देश को जितना कुछ दिया उसका मोल न तो शब्दों में और न ही जज़्बातों में, न ही बातों में और न ही विचारों में। देश और दुनिया में जो बातें हर सीमाओं से बाहर होती हैं, भगत सिंह की बात उसमें से ही है।   

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

क्यों पड़ा Cyclone का नाम Tauktae, क्यों तबाही मचाने आते हैं, जमीन पर क्यों नहीं बनते? जानिए चक्रवातों से जुड़ा सबकुछ

वर्तमान में अरब सागर से उठने वाले चक्रवाती तूफान Tauktae का नाम म्याँमार द्वारा दिया गया है। Tauktae, गेको छिपकली का बर्मीज नाम है। यह छिपकली बहुत तेज आवाज करती है।

क्या CM योगी आदित्यनाथ को ग्रामीणों ने गाँव में घुसने से रोका? कॉन्ग्रेस नेताओं, वामपंथी पत्रकारों के फर्जी दावे का फैक्ट चेक

मेरठ पुलिस ने सोशल मीडिया पर किए गए भ्रामक दावों का खंडन किया। उन्होंने कहा, “आपने सोशल मीडिया पर जो पोस्ट किया है वह निराधार और भ्रामक है। यह फेक न्यूज फैलाने के दायरे में आता है।"

मेवात के आसिफ की हत्या में सांप्रदायिक एंगल नहीं, पुरानी राजनीतिक दुश्मनी: हरियाणा पुलिस

आसिफ की मृत्यु की रिपोर्ट आने के तुरंत बाद, कुछ मीडिया हाउसों ने दावा किया कि उसे मारे जाने से पहले 'जय श्री राम' बोलने के लिए मजबूर किया गया था, जिसकी वजह से घटना ने सांप्रदायिक मोड़ ले लिया।

नारदा केस में विशेष CBI कोर्ट ने ममता बनर्जी के चारों मंत्रियों को दी जमानत, TMC कार्यकर्ताओं ने किया केंद्रीय बलों पर पथराव

नारदा स्टिंग मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने सोमवार (17 मई 2021) की शाम को ममता बनर्जी के चारों नेताओं को जमानत दे दी।

IDF हवाई हमले में जिहादी कमांडर अबू हरबीद का सफाया, अमेरिका ने इजरायल को दी $735 मिलियन के हथियार

इजरायली रक्षा बलों ने सोमवार को इस्लामिक जिहाद के एक आतंकी कमांडर का सफाया कर दिया है। प्रारंभिक रिपोर्टों से पता चलता है कि हुसाम अबू हरबीद उत्तरी गाजा में अपने घर में इजरायली हवाई हमले में मारा गया।

बंगाल की उबड़-खाबड़ डगर: नारदा में TMC पर कसा फंदा तो CBI से ममता ने दिखाई पुरानी रार

बंगाल की राजनीति कौन सी करवट लेगी, यह समय तय करेगा। फिलहाल ममता बनर्जी और उनकी सरकार के लिए रास्ते सीधे नहीं दिखते।

प्रचलित ख़बरें

पैगंबर मोहम्मद की दी दुहाई, माँगा 10 मिनट का समय: अल जजीरा न्यूज चैनल बिल्डिंग के मालिक को अनसुना कर इजरायल ने की बमबारी

इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि बिल्डिंग का मालिक इजरायल के अधिकारी से 10 मिनट का वक्त माँगता है। वो कहता है कि चार लोग बिल्डिंग के अंदर कैमरा और बाकी उपकरण लेने के लिए अंदर गए हैं, कृपया तब तक रुक जाएँ।

जैश की साजिश, टारगेट महंत नरसिंहानंद: भगवा कपड़ा और पूजा सामग्री के साथ जहाँगीर गिरफ्तार, साधु बन मंदिर में घुसता

कश्मीर के रहने वाले जान मोहम्मद डार उर्फ़ जहाँगीर को साधु के वेश में मंदिर में घुस कर महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती की हत्या करनी थी।

ईद में तिरंगा बिछाया, उसके ऊपर खाना खाया: असम में 6 गिरफ्तार, रेजिना परवीन सुल्ताना के घर हो रही थी दावत

असम पुलिस ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि अभयपुरी के टेंगनामारी गाँव की रेजिना परवीन सुल्ताना के घर में डाइनिंग टेबल पर भारतीय ध्वज...

बड़े युद्ध की तैयारी में चीन! ताइवान से चल रहे तनाव के बीच सामने आया युद्धाभ्यास का वीडियो

वीडियो में चीन का 40,000 टन वजनी युद्धपोत ‘टाइप 075’ देखा गया जो एक साथ 30 हेलिकॉप्टर और 1,000 सैनिकों को ले जाने की क्षमता रखता है।

ईद में नंगा नाच: 42 सदस्यीय डांस ग्रुप की लड़कियों को नंगा नचाया, 800 की भीड़ ने खंजर-कुल्हाड़ी से धमकाया

जब 42-सदस्यीय ग्रुप वहाँ पहुँचा तो वहाँ ईद के सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसा कोई माहौल नहीं था। जब उन्होंने कुद्दुस अली से इस बारे में बात की तो वह उन्हें एक संदेहास्पद स्थान पर ले गया जो हर तरफ से लोहे की चादरों से घिरा हुआ था। यहाँ 700-800 लोग लड़कियों को घेर कर खंजर से...

ईद पर 1 पुलिस वाले को जलाया जिंदा, 46 को किया घायल: 24 घंटे के भीतर 30 कट्टरपंथी मुस्लिमों को फाँसी

ईद के दिन मुस्लिम कट्टरपंथियों ने 1 पुलिसकर्मी के साथ मारपीट की, उन्हें जिंदा जला दिया। त्वरित कार्रवाई करते हुए 30 को मौत की सजा।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,379FansLike
95,608FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe