Saturday, April 17, 2021
Home विविध विषय भारत की बात '...तो गाँधी बन जाओगे' - लाला लाजपत राय के अंग्रेज हत्यारे को मारने की...

‘…तो गाँधी बन जाओगे’ – लाला लाजपत राय के अंग्रेज हत्यारे को मारने की प्लानिंग में क्यों और किसने लिया गाँधी का नाम?

"यदि तुम्हारा निशाना सही नहीं लगा तो तुम गाँधी बन जाओगे।" - इस तंज पर भगत सिंह ने जवाब दिया कि जब सेनापति काबिल है, तो फ़ौज भी संगठित रहेगी।

भगत सिंह और उनके क्रन्तिकारी साथियों राजगुरु और सुखदेव ने मिल कर अंग्रेज अधिकारी सांडर्स को मौत के घाट उतारा था। ये हम सभी जानते हैं कि भारत माँ के बलिदानी सपूतों ने वयोवृद्ध स्वतंत्रता सेनानी और विचारक लाला लाजपत राय के साथ हुई क्रूरता और उनकी हत्या का बदला लेने के लिए ऐसा किया था। यहाँ हम इस पूरे प्रकरण के कुछ अनछुए पहलुओं पर बात करते हुए सिलसिलेवार तरीके से घटनाओं को देखेंगे।

वो अक्टूबर 1928 का अंतिम सप्ताह था, जब साइमन कमीशन लाहौर आने वाला था। अंग्रेजों ने इस आयोग को भारत इसीलिए भेजा था, ताकि वो जनता के आक्रोश को देखते हुए स्थितियों का अध्ययन करे और जनता को शांत करने की कोई तरकीब निकाले। लेकिन उसके आते ही लाहौर बंद कर दिया गया और नौजवानों की टोली ने साइमन कमीशन के रास्ते घेर लिए। स्कॉट उस समय लाहौर का एसपी था और स्टेशन से लेकर सड़कों तक क्रांतिकारियों की फ़ौज देख कर उसे कुछ नहीं सूझ रहा था।

लाला लाजपत राय खुद बाहर प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व कर रहे थे और कई नौजवान उनके साथ थे। एक तो उनके पीछे छाता ताने भी चल रहा था। बस सब किसी न किसी तरह मातृभूमि के काम आना चाहते थे। भगत सिंह अंग्रेजों की पकड़ से दूर थे, ऐसे में स्कॉट डरा हुआ था कि कमीशन के लोगों को एक खरोंच भी आई तो कइयों की नौकरी जाएगी। एक तरफ पंजाब के सर्वमान्य नेता लालाजी, दूसरी तरफ चतुर-चालाक भगत सिंह।

साइमन कमीशन के पहुँचते ही स्टेशन को घेर लिया गया और ‘साइमन गो बैक’ के नारे लगने लगे। काले झंडे चारों तरफ लहराने लगे। पुलिसकर्मियों के लाख प्रयास के बावजूद क्रन्तिकारी नहीं हटे। लाला लाजपत राय के चारों तरफ घेरा बना हुआ था, जिसमें सुखदेव भी शामिल थे। उसके बाद नौजवानों का एक और व्यूह था, जो उनकी सुरक्षा में लगा था। डिप्टी एसपी सांडर्स ने अंत में लाठीचार्ज का निर्णय लिया और ऊपर से भी उसे ऐसा ही आदेश मिला।

उसने बेरहमी से लाठीचार्ज शुरू करवा दिया। कई प्रदर्शनकारी खून से लथपथ हो गए। लेकिन, प्रदर्शनकारियों का हुजूम रुका नहीं और बढ़ता रहा। क्रूर सांडर्स खुद हाथों में लाठी लेकर निहत्थे लोगों को अपना निशाना बना रहा था। कहते हैं, लाला लाजपत राय के पीछे छाता लेकर खड़े युवक को और उस छात्र पर ऐसी लाठी मारी कि वो टूट ही गया। लालाजी को घेर कर जो युवक खड़े थे, अंग्रेजों ने उन्हें एक-एक कर पीटना शुरू कर दिया।

उनके पास मुकाबला करने के लिए कुछ भी नहीं था। वो खाली हाथों से मुकाबला कर रहे थे और पंजाब के वयोवृद्ध नेता को बचाने की कोशिश भी कर रहे थे, जो प्रदेश में ही नहीं बल्कि पूरे देश की जनता के लिए प्रेरणा थे। सांडर्स ने तभी एक लाठी जोर से लालाजी के कंधे पर मारी, जिससे वहाँ की हड्डी टूट गई। इस पर भी उसका दिल नहीं भरा तो उसने उनके सीने पर भी लाठी से एक जोरदार वार किया।

भयानक दर्द से कराह रहे लाला लाजपत राय का खड़ा होना भी मुश्किल था और उन्हें भी लग गया था कि सांडर्स उन्हें ज़िंदा नहीं छोड़ेगा, इसीलिए उन्होंने युवकों की भी सुरक्षा का ख्याल करते हुए पीछे हटने का विचार किया। पूरे लाहौर में दुकानें बंद थीं। एक अंग्रेजपरस्त राय बहादुर ने अपनी दुकान खुली रखी थी और लठैतों से देशभक्तों को पिटवाना चाहा, लेकिन युवकों ने उन गुंडों को मार-मार कर भगा दिया।

घायल होने के बावजूद लाला लाजपत राय प्राथमिक उपचार के बाद शाम को एक सभा में बोलने गए। वो ओजस्वी वक्ता थे और उनसे लोगों को हिम्मत मिलती थी। उन्होंने वहीं पर घोषणा की कि उन्हें जो चोटें आई हैं, वो भारत में ब्रिटिश राज के ताबूत की आखिरी कीलें साबित होंगी। उन्होंने ये बात अंग्रेजी में कही थी, जिसे सुन कर एक अंग्रेज पुलिसकर्मी ने उनका मजाक भी बनाया। उम्र के इस मोड़ पर इतनी बड़ी शख्सियत का लाठी खाना भारत माँ की अस्मिता पर चोट थी।

चोट के घाव और इस सदमे, दोनों से ही वो उबर न सके। इलाज के दौरान ही अस्पताल में उनकी मृत्यु हो गई। ये खबर सुनते ही सारे अंग्रेज अपने-अपने घरों और दफ्तरों की सुरक्षा बढ़ा कर दुबक गए, सड़क से सारे अंग्रेजों को हटा दिया गया। घर-घर से लोग लालाजी के घर की ओर चल पड़े और पूरे पंजाब में लोगों ने शोक मनाया। उनके घर से 4 मील दूर रावी नदी के तट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया, जिसमें डेढ़ लाख लोग उपस्थित रहे।

भगवतीचरण और यशपाल ने रात भर चिता की रक्षा की, क्योंकि उन्हें डर था कि अंग्रेज लालाजी की चिता का अपमान कर सकते हैं। क्रान्तिकारी हिन्दू रीति-रिवाज से अस्थियों को चुन कर विसर्जित करना चाहते थे। कड़ी ठण्ड में भी उन्होंने पहरा दिया। लोग अपने पुराने महाराजा रणजीत सिंह को याद करने लगे थे, जिनके दरबार में अंग्रेज तक हाजिरी लगाते थे। चितरंजन दास की पत्नी बासंती देव ने एक शोक सभा में ऐलान कर दिया कि कोई युवक अंग्रेजों के इस क्रूर कृत्य का बदला लेगा।

भगत सिंह, राजगुरु या सुखदेव? आखिर कौन होगा वो, लोगों में यही चर्चा थी। लालाजी की मृत्यु के बाद के एक प्रसंग का उल्लेख जौनपुर के महान लेखक प्रोफेसर बच्चन सिंह ने किया है, जो वाराणसी के ‘नगरी प्रचारिणी पत्रिका’ के लगभग एक दशक तक अवैतनिक संपादक रहे थे। दर्जनों पुस्तकें लिख चुके बच्चन सिंह ने लिखा है कि लालाजी की मौत के दिन ही क्रांतिकारियों ने अंग्रेजों से बदला लेने की शपथ ले ली थी।

उनके लिखे प्रसंग के अनुसार, उस दिन चंद्रशेखर आज़ाद और भगत सिंह अन्य साथियों के साथ बन्दूक से अपने निशाने का अभ्यास कर रहे थे। जहाँ आजाद का निशाना हमेशा की तरह अचूक था, बाकियों के एकाध इधर-उधर हो जाते थे। चंद्रशेखर आजाद ने उम्र में खुद से छोटे भगत सिंह से कहा, “यदि तुम्हारा निशाना सही नहीं लगा तो तुम गाँधी बन जाओगे।” भगत सिंह ने जवाब दिया कि सेनापति काबिल हो तो फ़ौज संगठित रहती है, एक भी व्यक्ति टस से मस नहीं होता।

चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि भगत सिंह एक बहादुर क्रन्तिकारी होने के साथ-साथ एक विचारशील विद्वान भी हैं, इसीलिए उनसे पार पाना मुश्किल है। आज़ाद ने भगत सिंह को निरंतर अभ्यास की महत्ता समझाते हुए कहा कि एक भी निशाना चूकने का अर्थ है कि व्यक्ति अपने जीवन से हाथ धो सकता है। भगत सिंह ने उन्हें भरोसा दिलाया कि निरंतर अभ्यास के बल पर वो हवा में उड़ते हुए तिनके को भी धराशायी कर देंगे।

लालाजी की मृत्यु के 3 सप्ताह बाद क्रांतिकारियों की बैठक हुई, जिसमें लाठीचार्ज का आदेश देने वाले स्कॉट को ठिकाने लगाने की योजना बनी, पर उसके लिए जरूरत थी धन की। क्रांतिकारियों ने बैंक पर डाका डालने का निर्णय लिया। हालाँकि, ये योजना विफल हो गई। अब क्रन्तिकारी इस पर विचार करने में लगे थे कि स्कॉट को निशाना बनाया जाए, सांडर्स को, या दोनों को। दोनों अलग-अलग समय पर गाड़ियों से दफ्तर आते थे, इसीलिए उनका मत था कि दोनों को नहीं मार सकते।

ऊपर से एक की हत्या के बाद हो सकता है कि सुरक्षा व्यवस्था खासी कड़ी हो जाए और उन्हें लाहौर छोड़ कर भागना पड़े, इसीलिए दूसरे की हत्या का शायद मौका ही नहीं आए। चंद्रशेखर आजाद ने निर्णय लिया कि सांडर्स को ही ठोका जाएगा, क्योंकि सीधे तौर पर लालाजी की हत्या के लिए वही जिम्मेदार है। गोपाल और राजगुरु को पुलिस की एक-एक गतिवधि का आकलन कर रिपोर्ट देने को कहा गया। राजगुरु और भगत सिंह को उस पर गोली चलाने के लिए चुना गया।

अंततः राजगुरु और गोपाल ने अपनी रिपोर्ट सौंपी और दिसंबर 17, 1928 को सांडर्स की हत्या का दिन चुना गया। वो दोपहर के बाद का समय था और हल्की-हल्की धूप निकली हुई थी। डीएवी कॉलेज में शीतकालीन अवकाश हो चुका था। सड़क पर सन्नाटा जरूर पसरा हुआ था, लेकिन उस पार पुलिस थी। जयदेव साइकल से पहुँचे और उसे खड़ी कर के ठीक करने लगे। आजाद और भगत सिंह भी साइकल से आए और छात्रावास में ही अपनी साइकलें लगा दीं। राजगुरु को साइकल चलाना नहीं आता था।

वो पैदल ही वहाँ पहुँचे। राजगुरु और भगत सिंह कॉलेज के बाहर बातें करने लगे। चंद्रशेखर आजाद अपनी माउजर लिए छिप कर खड़े थे। बाकियों से जरा भी चूक हुई तो उनकी पिस्तौल तैयार थी, जिससे अंग्रेज खौफ खाते थे। वो 1000 गज दूर तक निशाना लगा कर ठोकने की क्षमता रखते थे। उसमें उन्होंने 10 गोलियाँ भर रखी थीं, साथ ही कई अपने साथ भी लेकर आए थे। 4:20 में सांडर्स बाहर निकला और अपनी लाल बाइक पर सवार हुआ। राजगुरु ने जय गोपाल के इशारे पर सीधे गोली मारी, जो सांडर्स के सर में लगी।

वो वहीं धड़ाम हो गया। इसके बाद दौड़ कर राजगुरु और भगत सिंह उसके समीप पहुँचे और धड़ाधड़ 5 गोलियाँ उसके सीने में उतार दीं। बाद में क्रांतिकारियों ने पोस्टर्स चिपका कर बताया कि किस तरह देश के एक बहुत बड़े नेता को एक मामूली अंग्रेज पुलिस अधिकारी ने मार डाला और हमारी अस्मिता को खरोंचा। लोगों के मन में क्या भावनाएँ थीं, समझा जा सकता था। भगत सिंह का मानना था कि गाँधीजी ने चौरीचौरा कांड के बाद असहयोग आंदोलन वापस लेकर देश की पीठ में छुरा घोंपा है, इसीलिए लोगों की साहसहीनता को खत्म करने के लिए ये ज़रूरी था। इस तरह लाला लाजपत राय के हत्यारे सांडर्स को मार कर ये तीनों ही क्रन्तिकारी अमर हो गए।

बता दें कि पंजाब के मोंगा जिले में 28 जनवरी 1865 को उर्दू के अध्यापक के घर में जन्मे लाला लाजपत राय बचपन से ही बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। एक ही जीवन में उन्होंने विचारक, बैंकर, लेखक और स्वतंत्रता सेनानी की भूमिकाओं को बखूबी निभाया था। पिता के तबादले के साथ हिसार पहुँचे लाला लाजपत राय ने शुरुआत के दिनों में वकालत भी की। स्वामी दयानंद सरस्वती के साथ जुड़ कर उन्होंने पंजाब में आर्य समाज को स्थापित करने में बड़ी भूमिका निभाई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी की अपील पर कुंभ का विधिवत समापन, स्वामी अवधेशानंद ने की घोषणा, कहा- जनता की जीवन रक्षा हमारी पहली प्राथमिकता

पीएम मोदी ने आज ही स्वामी अवधेशानंद गिरी से बात करते हुए अनुरोध किया था कि कुंभ मेला कोविड-19 महामारी के मद्देनजर अब केवल प्रतीकात्मक होना चाहिए।

TMC ने माना ममता की लाशों की रैली वाला ऑडियो असली, अवैध कॉल रिकॉर्डिंग पर बीजेपी के खिलाफ कार्रवाई की माँग

टीएमसी नेता के साथ ममता की बातचीत को पार्टी ने स्वीकार किया है कि रिकॉर्डिंग असली है। इस मामले में टीएमसी ने पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखकर भाजपा पर गैरकानूनी तरीके से कॉल रिकॉर्ड करने का आरोप लगाया है।

Pak की मायरा, भारत का हिन्दू लड़का, US में प्यार… ‘इस्लाम कबूल करो’ पर लड़की ने दिखाया ठेंगा: पक्का लव जिहाद?

अंततः फारुकी ने वही कहा जो उसे कहना था - शादी करने के लिए लड़के को अपना धर्म बदलना होगा और इस्लाम अपनाना होगा।

’47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार सिर्फ मेरे क्षेत्र में’- पूर्व कॉन्ग्रेसी नेता और वर्तमान MLA ने कबूली केरल की दुर्दशा

केरल के पुंजर से विधायक पीसी जॉर्ज ने कहा कि अकेले उनके निर्वाचन क्षेत्र में 47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार हुईं हैं।

रात में काम, सिर्फ पुरुष करें अप्लाई: महिलाओं को नौकरी के लिए केरल हाईकोर्ट का विज्ञापन के उलट फैसला

केरल हाईकोर्ट ने कहा कि अगर कोई महिला योग्य है तो उसे कार्य की प्रकृति के आधार पर रोजगार के अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता।

बंगाल: बूथ पर ही BJP पोलिंग एजेंट की मौत, TMC गुंडों ने ‘भाजपा को वोट क्यों’ कह शर्ट पकड़ धक्का दिया

उत्तर 24 परगना के कमरहटी विधानसभा क्षेत्र में भाजपा पोलिंग एजेंट की मतदान केंद्र के अंदर ही मौत हो गई। कमरहटी में...

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

सोशल मीडिया पर नागा साधुओं का मजाक उड़ाने पर फँसी सिमी ग्रेवाल, यूजर्स ने उनकी बिकनी फोटो शेयर कर दिया जवाब

सिमी ग्रेवाल नागा साधुओं की फोटो शेयर करने के बाद से यूजर्स के निशाने पर आ गई हैं। उन्होंने कुंभ मेले में स्नान करने गए नागा साधुओं का...

जहाँ इस्लाम का जन्म हुआ, उस सऊदी अरब में पढ़ाया जा रहा है रामायण-महाभारत

इस्लामिक राष्ट्र सऊदी अरब ने बदलते वैश्विक परिदृश्य के बीच खुद को उसमें ढालना शुरू कर दिया है। मुस्लिम देश ने शैक्षणिक क्षेत्र में...

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

कोरोना का इस्तेमाल कर के राम मंदिर पर साधा निशाना: AAP की IT सेल वाली ने करवा ली अपने ही नेता केजरीवाल की बेइज्जती

जनवरी 2019 में दिल्ली के मस्ज़िदों के इमामों के वेतन को ₹10,000 से बढ़ा कर ₹18,000 करने का ऐलान किया गया था। मस्जिदों में अज़ान पढ़ने वाले मुअज़्ज़िनों के वेतन में भी बढ़ोतरी कर इसे ₹9,000 से ₹16,000 कर दिया गया था।

‘उस किताब का नाम ले सकते हो जो असल में वायरस है’: जानें कैसे कॉन्ग्रेस के ‘वैक्सीन’ मीम्स ने किया उसका ही छीछालेदर

कर्नाटक कॉन्ग्रेस के ट्विटर हैंडल से कुछ ट्वीट किए गए। इसमें एक तरफ वायरस और दूसरी तरफ वैक्सीन दिखा कर पार्टी ने अपनी हिंदूविरोधी, भाजपा विरोधी, आरएसएस विरोधी मानसिकता का खूब प्रदर्शन किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,227FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe