Saturday, January 16, 2021
Home विविध विषय भारत की बात दर्थवामा रेन्थलेई: मिजोरम के एक अज्ञात राष्ट्र नायक, जिन्होंने नेताजी के नेतृत्व में लड़ी...

दर्थवामा रेन्थलेई: मिजोरम के एक अज्ञात राष्ट्र नायक, जिन्होंने नेताजी के नेतृत्व में लड़ी थी आजादी की लड़ाई

दुर्भाग्य से ऐसे असंख्य स्वातंत्र्यवीर हैं जिन्हें स्वार्थवश इतिहासकारों ने भुला दिया है और आज की पीढ़ी उनके नाम तक नहीं जानती। मिजोरम के दर्थवामा रेन्थलेई भी एक ऐसे ही अज्ञात राष्ट्र नायक हैं जिन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व में गठित भारतीय राष्ट्रीय सेना (INA) के एक सेनानी के रूप में अंग्रेजों के विरुद्ध विदेशी धरती पर लड़ाई लड़ी थी।

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का स्वर्णिम गौरव पूर्ण अतीत सुविज्ञात ही है। यह उनके राष्ट्रभक्ति पूर्ण जोश एवं उत्साह का ही परिणाम है कि हम आजादी का आनंद ले रहे हैं और स्वतंत्रता के 7 दशकों बाद भी हम अपने राष्ट्र वीरों के बलिदान का गुणगान करते हैं।

दुर्भाग्य से ऐसे असंख्य स्वातंत्र्यवीर हैं जिन्हें स्वार्थवश इतिहासकारों ने भुला दिया है और आज की पीढ़ी उनके नाम तक नहीं जानती। मिजोरम के दर्थवामा रेन्थलेई (Darthawma Renthlei) भी एक ऐसे ही अज्ञात राष्ट्र नायक हैं जिन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व में गठित भारतीय राष्ट्रीय सेना (INA) के एक सेनानी के रूप में अंग्रेजों के विरुद्ध विदेशी धरती पर लड़ाई लड़ी थी।

हम राष्ट्र के प्रति उनके प्रयासों व बलिदानों को कभी नहीं भूल सकते। आज संपूर्ण राष्ट्र प्रेम पूर्वक उनका स्मरण करता है और इस वयोवृद्ध स्वतंत्रता सेनानी का 100वाँ जन्म दिवस मना रहा है। इनका देशभक्ति पूर्ण जोश एवं पराक्रम हम सब की प्रेरणा का प्रकाश स्तंभ है। इस अवसर पर हम उनके जीवन एवं राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्राम में उनके महान योगदान पर दृष्टि डालेंगे ।

श्री दर्थवामा का जन्म 15 मई 1921 को दक्षिण मिजोरम (लुंगलेई से 5 मील) में पुखपुई गाँव में हुआ था। वे अपने माता-पिता छिंग लिइया रेन्थलेई (पिता) और नुबुन्गी (माँ) की पाँच संतति में से दूसरी संतान थे। उन्होंने बैप्टिस्ट मिशन द्वारा संचालित सर्कोन मिडिल स्कूल में 7वीं कक्षा तक शिक्षा प्राप्त की। शिक्षा के प्रति उत्कंठ इच्छा शक्ति होते हुए भी अपने माता पिता की अत्यधिक कमजोर आर्थिक स्थिति तथा मिजोरम में उच्च विद्यालय न होने के कारण वे अपनी शिक्षा जारी नहीं रख सके।

सामाजिक रूप से सक्रिय, ऊर्जावान, शस्त्र कला में सहज निपुण तथा कुछ बड़ा करने को जुझारू किशोर दर्थवामा द्वितीय विश्वयुद्ध के समय 20 वर्ष के थे। उन दिनों पश्चिमी यूरोप में चलने वाला विश्व युद्ध ही मुख्य चर्चा का विषय होता था।

हर शाम युद्ध की वर्तमान स्थिति का प्रसारण होता था। श्री दर्थवामा और उनके मित्र युद्ध की नवीनतम सूचनाओं का व्यग्रता से प्रतीक्षा करते थे और सूचना प्राप्त होने पर सूक्ष्मता से अवलोकन कर आपस में चर्चा करते थे।

भारत ने ब्रिटिश उपनिवेश होने के कारण अंग्रेजों का समर्थन किया। यहाँ तक कि मिजोरम के प्रत्येक चर्च में जन प्रार्थना सभाओं में ब्रिटिश की द्वितीय विश्व युद्ध में जीत की प्रार्थना की जाती थी। अत: एक प्रकार से मिजोरम में ईसाई मिशनरी के प्रभाव से युवा इस युद्ध में ब्रिटिश की जीत के लिए सेना में जाना चाहता था।

दर्थवामा ने भी निश्चय किया कि यदि शिक्षा ग्रहण करने का अवसर नहीं मिला तो मिज़ो यूथ (Mizo Youth) द्वारा द्वितीय विश्वयुद्ध में ब्रिटिश सेना में भर्ती के लिए बुलाए जाने पर, सेना में भर्ती हो जाएँगे।

1940 में लुंगलेई में जैसे ही ब्रिटिश सेना में नवीन भर्ती की खबर फैली, दर्थवामा ने सेना में भर्ती होने की तीव्र इच्छा जताई। एक भर्ती अधिकारी लुंगलेई पहुँचा और उसने 8 अन्य युवाओं के साथ दर्थवामा का नाम भी सूची में लिख लिया ।

इन सब युवाओं को सेना के चिकित्सीय पुलिस में उपचार सिपाही के रूप में भर्ती किया गया तथा आइजोल में शारीरिक परीक्षण एवं चिकित्सीय जाँच के उपरान्त अग्रिम प्रशिक्षण हेतु लखनऊ भेजा गया।

लखनऊ में पुन: परीक्षण के उपरान्त 27 नवम्बर, 1940 को आधिकारिक रूप से भारतीय- ब्रिटिश सेना में शामिल कर लिया गया। यहाँ इनका सैनिक तथा चिकित्सीय सहायक के रूप में प्रशिक्षण पूर्ण हुआ ।

प्रशिक्षण के उपरान्त अगस्त, 1941 को मलेशिया के पेनांग भेजा गया। उसी समय जापान ने ब्रिटिश सेना पर हवाई आक्रमण से गोलाबारी शुरू कर दी। अंग्रेजों ने अधिकांश लड़ाकू विमान को यूरोपीय मोर्चे पर लगा रखा था अत: पेनांग में ब्रिटिश सेना के पास जापान से हवाई-युद्ध के लिए अपेक्षाकृत कम संसाधन थे। ब्रिटिश सेना को यहाँ से पीछे हटना पड़ा और पेनांग कुआलालम्पुर से पूरे रास्ते लड़ते हुए सिंगापुर में प्रवेश किया।

जापानी सेना ने सिंगापुर के ब्रिटिश मुख्य कार्यालय को भी ध्वस्त कर दिया। अंततः इस भीषण युद्ध के एक सप्ताह बाद, ब्रिटेन ने 15 फरवरी, 1942 को सिंगापुर जापान को सौंप दिया और यहाँ युद्ध कर रही भारतीय-ब्रिटिश सेना को भी आत्मसमर्पण करना पड़ा। परिणामत: लगभग 45000 भारतीय सैनिक जापानी सेना द्वारा सिंगापुर में युद्ध-बंदी बना लिए गए ।

इसी समय नेताजी सुभाष चन्द्र जी ने जापानी सरकार के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसमें जापान ने नेता जी का साथ देना का आश्वासन दिया तथा सिंगापुर में सभी भारतीय युद्ध-बंदियों को स्वतन्त्र करा लिया। तत्पश्चात सभी भारतीय सैनिकों से कैम्प में नेता जी ने भेंट की और राष्ट्र के लिए आह्वान किया।

नेता जी के इस संबोधन से प्रेरित होकर दर्थवामा अंग्रेजों से भारत की स्वतंत्रता हेतु दृढ़ संकल्पित होकर जून 1942 में आजाद हिन्द फ़ौज (INA) में सहर्ष शामिल हुए। उन्होंने फिर से यहाँ विभिन्न हथियारों का उपयोग करना सीखा और लक्ष्य शूटिंग का अभ्यास किया।

यहीं से दर्थवामा की भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के लिए यात्रा प्रारम्भ होती है। वे 3 साल तक सिंगापुर में रहे। इस बीच, श्री दर्थवामा ने कौलामपुर प्रशिक्षण केंद्र में भी भर्ती के लिए प्रशिक्षण दिया था। उन्होंने अंग्रेजी कमांडिंग ऑर्डर को त्याग दिया और हिंदी कमांडिंग शब्दों को अपनाया ।

जापानी सेना के साथ INA एक छत्र के रूप में अंग्रेजों के विरुद्ध बर्मा (वर्तमान म्यामांर) में युद्ध हेतु पूर्ण तैयारी तथा जोश के साथ वेग से आगे बढ़ रही थी तथा कुछ ही दिनों में बर्मा को अपने अधीन कर लिया। सेना ने U-GO ऑपरेशन शुरू किया तथा आगे बढ़ते हुए इम्फाल, कोहिमा पहुँची। यहाँ अंग्रजो से सामना हुआ।

यूरोपीय पक्ष में युद्ध थोड़ा थम गया था अत: बहुत सारे युद्ध विमानों को अंग्रेजी सेना ने INA से युद्ध में लगा दिए। दुर्भाग्यवश INA को पीछे हटना पड़ा और बर्मा में इरावदी नदी के यान-आंग-यांग किनारे पर रात्री 12 बजे भीषण युद्ध हुआ।

इसी जगह युद्ध में दर्थवामा को कोहनी पर गोली लगी। उन्हें प्राथमिक चिकित्सा इकाई में ले जाया गया और फिर वह पूरी रात फिर से लड़ने के लिए युद्ध के मोर्चे पर वापस आ गए। परन्तु यहाँ हुए भीषण युद्ध-विध्वंस तथा जापान में परमाणु बम के आक्रमण के कारण सेना के पास आत्मसमर्पण करने के अलावा कोई चारा नहीं था। INA के सभी सैनिकों के साथ दर्थवामा को भी बंदी बना लिया गया।

2 मास के उपरान्त ब्रिटिश सरकार के विरुद्ध युद्ध करने के अभियोग में कोलकाता में उन पर मुकद्दमा चलाया गया। अनेक मुकद्दमों तथा दोषारोपण से पीड़ित होने पर भी दर्थवामा ने अपने देश के सम्मान की रक्षा करते हुए एक वर्ष वहीं जेल में बिताया। इसके बाद उन्हें लखनऊ में स्थानांतरित कर दिया गया और वहाँ हवालात में कठोर निरीक्षण में रखा गया। ब्रिटिश सरकार ने उनके सम्पूर्ण जीवन तथा उनकी प्रत्येक गतिविधियों का विवरण एकत्रित किया और उनको दोषी सिद्ध कर दिया। इस दोषारोपण के परिणामस्वरूप उनके जेल में मिलने वाले भत्ते इत्यादि सब रोक दिए गए।

भारतीय प्रशासकों ने विविध प्रयासों से यह सिद्ध किया कि दर्थवामा कोई साजिशकर्ता नहीं हैं, बल्कि वे भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ रहे थे। वे हिंसा से लड़े और उन्होंने हथियारों से लड़ाई लड़ी अत: वे राजनीतिक कैदी हैं। अंततः उनको सशर्त जनवरी, 1946 में एक मुक्ति पत्र के साथ रिहा कर दिया गया। अब उनका ब्रिटिश शासनाधीन भारत में सरकार के अधीनस्थ कोई भी प्रशिक्षण, रोजगार तथा सेवा करना प्रतिबंधित हो गया था तथा वे गैर-सरकारी गतिविधियाँ करने पर भी अधिकारियों की सतत निगरानी में थे।

अंततः जब देश स्वतंत्रता हुआ तब भी नरम-दल ने देश के प्रति उनकी सेवाओं को स्वीकार नहीं किया। जब श्रीमती इंदिरा गाँधी प्रधानमंत्री बनीं, तो उनके सामने ये प्रस्ताव रखा गया। श्री दर्थवामा को तब दिल्ली में गृह विभाग में अपने स्वतंत्रता संग्राम का विवरण प्रस्तुत करने के लिए बुलाया गया था।

उनके बयानों को भी डी. सी. बैजल ने प्रमाणित किया। दिल्ली के गृह विभाग ने उनके बयानों का लखनऊ में बनाए गए दस्तावेजों से जाँच की और यह साबित किया कि उनके सभी कथन सही हैं। तत्कालीन भारत सरकार ने तब उन्हें “भारत के स्वतंत्रता संग्राम” सेनानी के रूप में स्वीकार किया। इस प्रकार अनेक प्रयत्नों के उपरान्त उनको वह पहचान मिली, जिसके वे सच्चे अधिकारी थे।

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अपना अद्भुत योगदान देने के लिए 15 अगस्त, 1972 को ‘ताम्रपत्र’ राष्ट्रीय पुरुस्कार से उनको सम्मानित किया गया तथा मिजोरम सरकार ने योद्धा-शॉल (TAWLPOH PUAN) प्रदान किया गया। गतवर्ष ही 21 जुलाई को, 99 वर्ष की उत्तम आयु में मिजोरम के लुंगलेई में पंचतत्व में विलीन हो गए। उनकी वीरता, पराक्रम एवं राष्ट्रीय स्वतंत्रता के प्रति अप्रतीम योगदान भारत को मजबूत एवं अखंड राष्ट्र हेतु सदैव प्रत्येक भारतीय के लिए प्रेरणादायक रहेगा। ऐसे राष्ट्र-प्रेमी के प्रति राष्ट्र कृतज्ञ है और उनको नमन करता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

डॉ. सोनिया अनसूया
Studied Sanskrit Grammar & Ved from traditional gurukul (Gurukul Chotipura). Assistant professor, Sanskrit Department, Hindu College, DU. Researcher, Centre for North East Studies.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

अजीत भारती छोड़ रहे हैं ऑपइंडिया, ऑक्सफोर्ड से आया बुलावा | Ajeet Bharti roasts Nidhi Razdan

आज जब श्री भारती जी के पास यह खबर आई कि उन्हें ऑक्सफोर्ड से प्रोफेसरी का बुलावा आया है तो उन्होंने भारी हृदय से सीईओ को त्यागपत्र सौंप दिया।

श्री अजीत भारती जी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने असोसिएट प्रोफेसर नियुक्त किया, ऑपइंडिया से विदाई तय

श्री अजीत भारती को उनके मित्र अलख सुंदरम् ने बताया कि गोरों की जमीन पर जाते ही मुँह पर मुल्तानी मिट्टी लगा कर घूमें ताकि ऑक्सफोर्ड में उन्हें ब्राउन समझ कर कोई दुष्टता न कर दे।

NDTV की निधि ने खरीद लिया था हार्वर्ड का टीशर्ट, लोगों को भेज रही थी बरनॉल… लेकिन ‘शिट हैपेन्स’ हो गया!

पोटेंशियल हार्वर्ड एसोसिएट प्रोफेसर निधि राजदान ने कहा कि प्रोफेसर के तौर पर ज्वाइन करने की बातें हार्वर्ड नहीं बल्कि 'व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी' से जारी की गईं थीं।

बिलाल ने ‘आश्रम’ वेब सीरीज देखकर जंगल में की युवती की हत्या, धड़ से सिर अलग कर 2 KM दूर गाड़ा

पुलिस का कहना है कि 'आश्रम' वेब सीरीज के पहले भाग की थीम की तरह ही ओरमाँझी में बिलाल ने इस हत्या को भी अंजाम दिया और लाश को ठिकाने लगाया।

जिसने सुशांत के लिए लिखा- नखरे दिखाने वाला, उसने करण जौहर की मेहरबानी के बाद छोड़ी ‘पत्रकारिता’

करण जौहर ने राजीव मसंद को अपने नए वेंचर का सीओओ बनाया है। मसंद ने लेखों के जरिए सुशांत की छवि धूमिल करने की कोशिश की थी।

प्रचलित ख़बरें

दुकान में घुस कर मोहम्मद आदिल, दाउद, मेहरबान अली ने हिंदू महिला को लाठी, बेल्ट, हंटर से पीटा: देखें Video

वीडियो में देख सकते हैं कि आरोपित युवक महिला को घेर कर पहले उसके कपड़े खींचते हैं, उसके साथ लाठी-डंडों, बेल्ट और हंटरों से मारपीट करते है।

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

MBBS छात्रा पूजा भारती की हत्या, हाथ-पाँव बाँध फेंका डैम में: झारखंड सरकार के खिलाफ गुस्सा

हजारीबाग मेडिकल कालेज की छात्रा पूजा भारती पूर्वे के हाथ-पैर बाँध कर उसे जिंदा ही डैम में फेंक दिया गया। पूजा की लाश पतरातू डैम से बरामद हुई।

चोटी गुहल कनिया रहिए गेल: NDTV में रहीं निधि राजदान को हार्वर्ड ने कभी नहीं बुलाया, बताई ठगे जाने की व्यथा

वह महामारी के कारण सब चीजों को नजर अंदाज करती रहीं लेकिन हाल ही में उन्हें इन चीजों को लेकर शक गहराया और उन्होंने यूनिवर्सिटी के शीर्ष प्रशासन से संपर्क किया तो...

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

‘बेकार आवाज वाली लता ने लोगों के करियर बर्बाद किए’: लिबरलों की दुलारी ‘कावेरी’ को नेटिजन्स ने लताड़ा

एक ट्विटर यूजर ने कहा कि लता मंगेशकर की आवाज 'ओवर रेटेड' है और उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में लोगों के करियर बर्बाद किए।

दिल्ली दंगों के आरोपितों को बचाने वाले महमूद प्राचा को दिल्ली पुलिस ने किया एक्सपोज़, प्रशांत भूषण के आरोपों का भी दिया जवाब

प्रशांत भूषण द्वारा दिल्ली पुलिस की छापेमारी पर सवाल खड़े किए जाने के बाद पुलिस ने बिन्दुवार तरीके से हर प्रश्न का जवाब दिया है। भूषण ने यह सवाल ISIS पोस्टर बॉय के वकील महमूद प्राचा के विरुद्ध की गई पुलिस की रेड पर खड़े किए थे।

‘BJP वैक्सीन नहीं, नपुंसक बनाने की दवा के बाद अब जानलेवा टीका’: कोविड-19 को लेकर सपा की घटिया राजनीति जारी

अपने मास्टर अखिलेश यादव की तरह सपा नेता आईपी सिंह ने बर्ड फ्लू के बाद अब कोविड-19 वैक्सीन को लेकर एक विवादित बयान दिया है।

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

राम मंदिर के लिए इकबाल अंसारी भी करेंगे निधि समर्पण, कहा- यह श्रद्धा का सवाल है, इससे पुण्य मिलता है

बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी भी भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए समर्पण निधि देंगे। श्रीराम जन्मभूमि समर्पण निधि अभियान पर इकबाल अंसारी ने कहा कि बात राम मंदिर की है।

केंद्र सरकार ने पंजाब से सबसे ज्यादा कपास और धान खरीदने का बनाया रिकॉर्ड: आंदोलन में शामिल ‘किसानों’ ने भी जताई खुशी

किसानों के विरोध प्रदर्शन में शामिल हो चुके गोल्टा ने सरकार के फैसले पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि समय पर एमएसपी रेट के अनुसार हुई बिक्री से उन्हें काफी मदद मिली है।

13 साल के नाबालिग का जबरन लिंग परिवर्तन करवाकर होता रहा बलात्कार, स्टेशन पर मँगवाई गई भीख: केस दर्ज

शुभम का लिंग परिवर्तन करवाने के बाद आरोपितों ने मिलकर उसका सामूहिक बलात्कार किया और पैसे के बदले दूसरे लोगों से भी उसका बलात्कार करवाया।
00:06:17

अजीत भारती छोड़ रहे हैं ऑपइंडिया, ऑक्सफोर्ड से आया बुलावा | Ajeet Bharti roasts Nidhi Razdan

आज जब श्री भारती जी के पास यह खबर आई कि उन्हें ऑक्सफोर्ड से प्रोफेसरी का बुलावा आया है तो उन्होंने भारी हृदय से सीईओ को त्यागपत्र सौंप दिया।

कॉन्ग्रेस नेता ने दिया ममता बनर्जी को विलय का सुझाव, कहा- BJP को हराने का नहीं है कोई दूसरा विकल्प

कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने टीएमसी पर निशाना साधते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आगामी चुनावों में अकेली बीजेपी के खिलाफ नहीं लड़ सकती हैं।

श्री अजीत भारती जी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने असोसिएट प्रोफेसर नियुक्त किया, ऑपइंडिया से विदाई तय

श्री अजीत भारती को उनके मित्र अलख सुंदरम् ने बताया कि गोरों की जमीन पर जाते ही मुँह पर मुल्तानी मिट्टी लगा कर घूमें ताकि ऑक्सफोर्ड में उन्हें ब्राउन समझ कर कोई दुष्टता न कर दे।

मलेशिया ने कर्ज न चुका पाने पर जब्त किया पाकिस्तान का विमान: यात्री और चालक दल दोनों को बेइज्‍जत करके उतारा

मलेशिया ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखाते हुए PIA (पाकिस्‍तान इंटरनेशनल एयरलाइन्‍स) के एक बोईंग 777 यात्री विमान को जब्त कर लिया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
380,000SubscribersSubscribe