‘सम्राट अशोक ने रोबोटों से लड़ा था युद्ध, वैज्ञानिक सोच के मामले में हिन्दू ग्रंथ था विश्व-गुरु’

सम्राट अशोक ने रोबोट सैनिकों से युद्ध किया। इन्हें हराने के बाद इन पर काबू करना सीखा। इसके बाद वे अशोक के आज्ञाकारी हो गए। ये रोबोट बुद्ध के अवशेषों के रक्षक थे।

एड्रियेन मयोर प्राचीन विज्ञान की इतिहासकार हैं, दंतकथाओं में रुचि रखती हैं, और अमेरिका के प्रतिष्ठित स्टैनफोर्ड विश्विद्यालय में शोध छात्रा हैं। सन्डे टाइम्स अख़बार से बात करते हुए उन्होंने बताया कि कैसे हिन्दू मिथकों में सम्राट अशोक के रोबोटों से युद्ध करने का वर्णन है। अपनी ताज़ा कृति Gods and Robots: Myths, Machines, and Ancient Dreams of Technology में मयोर प्राचीन सभ्यताओं द्वारा भविष्य की तकनीक को कल्पित करने का विश्लेषण करती हैं।

प्रश्न: हिन्दूवादियों का ऐसा मानना है कि प्राचीन भारतीयों ने अंतरिक्षयान से लेकर मिसाइल व इन्टरनेट तक सब कुछ बना रखा था। अपने शोध में आप इसे कैसे देखती हैं?

मयोर: मेरे शोध का मूल विषय प्राचीन मानव में वैज्ञानिक प्रेरणा के उद्गम और प्रथम आभास का है। इस विषय में शोध करते-करते मैं मिथकों के बीच जा पहुंची, जहाँ मैंने पाया कि प्राचीन व्यक्तियों ने कृत्रिम जीवन, यंत्रमानव (रोबोट), मशीनें आदि बनाने के बारे में तब से सोचना शुरू कर दिया था जब वे तकनीकी रूप से इसे निष्पादित करने से कोसों दूर थे। रोबोटों और उन्नत मशीनों की मौखिक कहानियों को लिखित रूप में पहली बार 2700 साल पहले होमर (यूनान) के समय लाया गया था। ऐसी ही कहानियाँ रामायण, महाभारत, आदि में भी मिलतीं हैं- विश्वकर्मा और माया भी ऐसी ही चीजें बनाया करते थे। यूनानियों में यही चीज़ देवता हिफेस्टस और शिल्पकार डेडॉलस करते हैं।

इन कहानियों को मैं विश्व का प्रथम साइंस फिक्शन मानती हूँ। उन्नत तकनीक के प्राचीन सपने किसी एक सभ्यता की बपौती नहीं हैं। आप यूनानी, मिस्री, हिन्दू, इस्लामिक, इट्रस्केन, चीनी या किसी भी अन्य सांस्कृतिक मिथक को देखें जो कृत्रिम जीवन के बारे में है। उनमें यह कल्पना होती है कि यदि किसी व्यक्ति को दैवीय रचनात्मकता और शक्तियाँ मिल जाएँ तो क्या-क्या संभव है। पर उन मिथकों को समकालीन आधुनिक विज्ञान के विकास से सीधे नहीं जोड़ा जा सकता।

प्रश्न: आप कहती हैं कि भारतीय और यूनानी संस्कृतियाँ एक-दूसरे से तकनीकों की कल्पनाएँ उधार लेती हैं। कैसे?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

मयोर: भारतीय और यूनानी मतों का एक-दूसरे पर प्रभाव डालना लगभग ईसा से पाँच शताब्दी पूर्व प्रारंभ हुआ, और सिकंदर तथा पुरु के बीच की संधि के बाद यह और भी बढ़ गया। जैन ग्रंथों में लिखा है कि अजातशत्रु के अभियंताओं ने ऐसे रथों का अविष्कार किया, जिनमें घूमते चक्र थे। ऐसा माना जा सकता है कि उत्तरकाल के फारसी रथों में लगी हुई दरांतियाँ इसी से प्रेरित थीं। इसके अलावा मखदूनिया (Macedon) के राजा फिलिप-II के बहुत पहले से अजातशत्रु के पास गुलेल जैसे अस्त्र हुआ करते थे, जिनसे भारी चट्टानों को दुश्मन की सेनाओं पर फेंका जा सकता था।

भारतीय हमेशा से तेल के दिए जलाते आए हैं, जिससे यह संकेत मिलता है कि यूनानियों और रोमनों से बहुत पहले उन्हें मिट्टी के तेल की भी जानकारी रही होगी। यूनान के टियाना के घुमक्कड़ संत अपोलोडोरस ने स्वचालित नौकर और खुद से चलने वाले रथ भारतीय राजाओं के पास देखे। प्राचीन भारत प्राचीन यूरोप से हायड्रॉलिक्स और डिस्टिलेशन (hydraulics and distillation) की तकनीक में सदियों आगे था। तकनीक का आदान-प्रदान किस हद तक हुआ होगा, यह ठीक-ठीक पता नहीं लगाया जा सकता।

प्रश्न: और किन संस्कृतियों में उनके खुद के दिव्यास्त्र, रोबोट, और उड़ते रथ थे?

मयोर: उड़ते रथों और कृत्रिम हंसों, कृत्रिम नौकरों, विशाल रोबोटों, मशीनों जैसे मिथक महाभारत, रामायण, कथासरित्सागर, हरिवंश, और कई अन्य किताबों में मिलते हैं। मिस्री अभिलेखों और होमर की ओडिसी में ऐसे जहाजों का ज़िक्र है, जो अपना रास्ता खुद तलाश लेते थे। होमर के इलियड और चीनी ग्रंथों में मानव-मशीन मिश्रणों (android) और स्वचालित रोबोटों (automatons) का जिक्र है। और भी मिसालें दी जा सकतीं हैं।

प्रश्न: बुद्ध के अवशेषों के रक्षक एंड्राइड लड़ाकों की क्या कहानी है?

मयोर: इसकी सबसे विस्तृत कहानी लोकपनत्ती नामक बर्मी ग्रन्थ में है। कथा है कि गौतम बुद्ध की मृत्यु के पश्चात राजा अजातशत्रु ने उनके शव को एक स्तूप के नीचे गुप्त कमरे में छिपा दिया। उसकी रक्षा भूत वाहन यंत्र (spirit movement machines) कर रहे थे। यह रोबोट लड़ाके थे, जिनके पास तलवारें भी थीं- यह राजा अजातशत्रु के पास मौजूद तलवारों से लैस युद्ध वाहनों और मशीनों की याद दिलाते थे। यूनानी मिथकों में भी इंसानी और पशु रूप में automaton लड़ाकों का जिक्र है, जो महलों और खजानों के रक्षक थे, पर इस कहानी के ऐतिहासिक और तकनीकी विवरण इसे उनसे अलग करते हैं। कहानी के अनुसार इन रोबोटों को बनाने से संबंधित जो स्केच था, उसे गुप्त रूप से रोमा-विषया से पाटलिपुत्र मंगवाया गया था। रोमा-विषया यूनान से प्रभावित एक पाश्चात्य जगत था, और मंगवाने वाला यंत्रकर्ता एक रोबोट बनाने वाला कारीगर था, जो पाटलिपुत्र में जन्मा था।

यह automaton सैनिक बुद्ध के अवशेषों के तब तक रक्षक रहे, जब तक कि सम्राट अशोक को इस गुप्त कमरे के बारे में पता नहीं चल गया। अशोक ने इन सैनिकों से युद्ध किया और इन्हें हराने के बाद इन पर काबू करना सीखा, जिसके बाद वे अशोक के आज्ञाकारी हो गए। ऐतिहासिक रूप से हम यह जानते हैं कि अशोक ने बुद्ध के अवशेषों को तलाशा और पूरे देश में उन्हें बाँटा था।

प्रश्न: क्या किसी ने इन प्राचीन ग्रंथों में कल्पित automatons को बनाया था?

मयोर: ईसा से तीसरी शताब्दी पहले तक यूनान, अलेक्सांद्रिया (मिस्र), अरब, भारत और चीन के शिल्पकारों और अभियंताओं ने स्वचालित वस्तुएँ बनानी प्रारंभ कर दीं थीं। साथ ही वे उड़ते पक्षियों के प्रतिरूप, सजीवित मशीनें, और मिथकों में वर्णित automatons से मिलते-जुलते automatons भी बना रहे थे। कुछ सूक्ष्म थे तो कुछ काफी बड़े थे, कुछ काफी आसानी से बनने वाले थे तो कुछ काफी जटिल थे। उनके शक्ति-स्रोतों में स्प्रिंग, लीवर, पुली से लेकर वायु, ऊष्मा, पानी तक थे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

देखना न भूलें! एग्जिट पोल के सभी नतीजे

2019 लोक सभा चुनाव की सभी Exit Polls का लेखा जोखा पढ़िए हिंदी में

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ट्रोल प्रोपेगंडाबाज़ ध्रुव राठी

ध्रुव राठी के धैर्य का बाँध टूटा, बोले राहुल गाँधी ने 1 ही झूठ किया रिपीट, हमारा प्रोपेगैंडा पड़ा हल्का

जिस प्रकार से राहुल गाँधी लगातार मोदी सरकार को घोटालों में घिरा हुआ साबित करने के लिए झूठे डाक्यूमेंट्स और बयानों का सहारा लेते रहे, शायद ध्रुव राठी उन्हीं से अपनी निराशा व्यक्त कर रहे थे। ऐसे समय में उन्हें अपने झुंड के साथ रहना चाहिए।
इनका दुःख... सच में दुःखद...

एग्जिट पोल देख लिबरल गिरोह छोड़ रहा विष-फुंकार, गर्मी में निकल रहा झाग

जैसे-जैसे Exit Polls के नतीजे जारी हो रहे हैं, पत्रकारिता के समुदाय विशेष और फ़ेक-लिबरलों-अर्बन-नक्सलियों के सर पर ‘गर्मी चढ़नी’ शुरू हो गई है।
साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, कन्हैया, राहुल गाँधी, स्मृति ईरानी

भोपाल से प्रज्ञा की जीत, बेगूसराय से कन्हैया की हार और अमेठी में स्थिति संदिग्ध: एग्जिट पोल्स

'हिन्दू टेरर' के कलंक से कलंकित और कॉन्ग्रेस की तुष्टीकरण एवम् साम्प्रदायिक नीतियों का शिकार बनी साध्वी प्रज्ञा के भोपाल से प्रत्याशी बनने, कन्हैया का बेगूसराय से लड़ने और राहुल-स्मृति ईरानी की कड़ी टक्कर इस चुनाव की हेडलाइन बने।
रवीश कुमार

साला ये दुःख काहे खतम नहीं होता है बे!

जो लोग रवीश की पिछले पाँच साल की पत्रकारिता टीवी और सोशल मीडिया पर देख रहे हैं, वो भी यह बात आसानी से मान लेंगे कि रवीश जी को पत्रकारिता के कॉलेजों को सिलेबस में केस स्टडी के तौर पर पढ़ाया जाना चाहिए।
तपस्या करते हुए कुलपति

Exit Poll के रुझान देखकर मीडिया गिरोह ने जताई 5 साल के लिए गुफा में तपस्या करने की प्रबल इच्छा

अगले 5 साल गुफा में बिताने की चॉइस रखने वालों की अर्जी में एक नाम बेहद चौंकाने वाला था। यह नाम एक मशहूर व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी के कुलपति का था। अपने विवरण में इस कुलपति ने स्पष्ट किया है कि पिछले 5 साल वो दर्शकों से TV ना देखने की अपील करते करते थक चुके हैं और अब अगले 5 साल भी वही काम दोबारा नहीं कर पाएँगे।
स्वरा भास्कर

प्रचार के लिए ब्लाउज़ सिलवाई, 20 साड़ियाँ खरीदी, ताकि बड़े मुद्दों पर बात कर सकूँ: स्वरा भास्कर

स्वरा भास्कर ने स्वीकार करते हुए बताया कि उन्हें प्रचार के लिए बुलाया गया क्योंकि वो हीरोइन हैं और इस वजह से ही उन्हें एक इमेज बनाना आवश्यक था। इसी छवि को बनाने के लिए उन्होंने 20 साड़ियाँ खरीदीं और और कुछ जूलरी खरीदी ताकि ‘बड़े मुद्दों पर’ बात की जा सके।

वहाँ मोदी नहीं, सनातन आस्था अपनी रीढ़ सीधी कर रही है, इसीलिए कुछ को दिक्कत हो रही है

इंटेलेक्चु‌ल लेजिटिमेसी और फेसबुक पर प्रासंगिक बने रहने, ज्ञानी कहलाने और एक खास गिरोह के लोगो में स्वीकार्यता पाने के लिए आप भले ही मोदी की हर बात पर लेख लिखिए, लेकिन ध्यान रहे कुतर्कों, ठिठोलियों और मीम्स की उम्र छोटी होती है।
योगी आदित्यनाथ और ओमप्रकाश राजभर

‘गालीबाज’ ओमप्रकाश राजभर सहित 8 नेता तत्काल प्रभाव से बर्खास्त: एक्शन में CM योगी

ये वही राजभर हैं, जिन्होंने रैली में मंच से दी थी BJP नेताओं-कार्यकर्ताओं को माँ की गाली। ये वही हैं जो पहले अफसरों की सिफारिश न सुनने पर हंगामा करते हैं और बाद में अपने बेटों को पद दिलाने पर अड़ जाते हैं।
राहुल गाँधी

सरकार तो मोदी की ही बनेगी… कॉन्ग्रेस ने ऑफिशली मान ली अपनी हार

कॉन्ग्रेस ने 23 तारीख को चुनाव नतीजे आने तक का भी इंतजार करना जरूरी नहीं समझा। समझे भी कैसे! देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कॉन्ग्रेस भी उमर अबदुल्ला के ट्वीट से सहमत होकर...
नरेंद्र मोदी आध्यात्मिक दौरा

लंगोट पहन पेड़ से उलटा लटक पत्तियाँ क्यों नहीं चबा रहे PM मोदी? मीडिया गिरोह के ‘मन की बात’

पद की भी कुछ मर्यादाएँ होती हैं और कुछ चीजें व्यक्तिगत सोच पर निर्भर करती है, यही तो हिन्दू धर्म की विशेषता है। वरना, कल होकर यह भी पूछा जा सकता है कि जब तक मोदी ख़ुद को बेल्ट से पीटते हुए नहीं घूमेंगे, उनका आध्यात्मिक दौरा अधूरा रहेगा।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

40,759फैंसलाइक करें
7,817फॉलोवर्सफॉलो करें
63,313सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: