Friday, July 10, 2020
Home विविध विषय भारत की बात 'भय से मुक्त रहें, क्योंकि भय सबसे बड़ा पाप है': कोरोना से जंग में...

‘भय से मुक्त रहें, क्योंकि भय सबसे बड़ा पाप है’: कोरोना से जंग में जरूरी है स्वामी विवेकानंद का ‘प्लेग मैनिफेस्टो’ पढ़ना

प्लेग के दौरान स्वामी विवेकनंद ने बांग्ला भाषा में तैयार इस 'प्लेग घोषणा पत्र' को हिंदी में छपवाकर वितरित कराया था। इसका उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागृत करना और रोगियों तक मदद पहुँचाना था। इस प्लेग मैनिफेस्टो में विवेकानंद ने कहा था- "भय से मुक्त रहें, क्योंकि भय सबसे बड़ा पाप है।"

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ऐसा शायद पहली बार हुआ है जब पूरा विश्व किसी संक्रामक महामारी की चपेट में आया है। हालाँकि, कई बड़े देश अलग-अलग समय पर अकाल, प्लेग जैसे बड़े संकटों से गुजर चुके हैं। आज जब दुनिया कोरोना वायरस से उपजी बीमारी का सामना कर रही है, ऐसे में स्वामी विवेकानंद के 1899 के प्लेग घोषणा पत्र का जिक्र ज़रूरी हो जाता है।

मार्च, 1899 में जब कलकत्ता में प्लेग फैला था, तब स्वामी विवेकानंद ने प्लेग पीड़ितों की सेवा के लिए रामकृष्ण मिशन की एक समिति बनाई थी। उनके नेतृत्व में इस समिति में एक प्लेग घोषणा पत्र तैयार किया गया, ताकि स्वयंसेवकों के साथ आम जनता भी इससे अच्छी तरह परिचित हो सके कि किसी आपदा या महामारी के दौरान किन बातों पर किस तरह का संयम बरतने की आवश्यकता होती है। स्वामी विवेकांनंद का यह घोषणा पात्र (मैनिफेस्टो) हमें मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक रूप से समस्याओं से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है।

स्वामी विवेकानंद द्वारा जारी प्लेग मेनीफेस्टो (घोषणा पत्र) का मूल-पाठ

कलकत्ता के भाइयों,

  1. यदि आप प्रसन्न हों तो हमें भी प्रसन्नता का अनुभव होता है, और आपके दुःख में दुःख का। इसलिए इन कठिन विपरीत दिनों में हम आपके कल्याण के लिए प्रयास कर रहे हैं एवं अविराम प्रार्थना कर रहे हैं, आपको रोग से बचाने का तथा महामारी के भय से बचाने का।
  2. इस गंभीर रोग से – जिससे डरकर उच्च व नीच दोनों वर्ग के लोग, धनी और निर्धन नगर छोड़ कर भाग रहे हैं यदि हम पीड़ित हो जाते हैं और आपकी सेवा करते हुए विनष्ट हो जाते हैं तब भी हम अपने आप को भाग्यशाली समझेंगे क्योंकि आप सभी भगवान का स्वरूप हो। वह जो मिथ्याभिमान, अंध विश्वास या अज्ञानता से अन्यथा समझता है भगवान को आहत करता है और भयंकर पाप करता है। इस विषय में न्यूनतम संदेह नहीं है।
  3. हम आप से प्रार्थना करते हैं – निराधार भय के कारण संत्रास न करें। भगवान पर भरोसा करें और शांतिपूर्वक समस्या के समाधान का रास्ता खोजने का प्रयास करें। अन्यथा उन्हीं का साथ दें जो वैसा कर रहे हैं।
  4. डर कैसा ? प्लेग फैलने के कारण जो आतंक लोगों के दिलों में प्रवेश कर गया है उसका वास्तविक आधार नहीं है। प्रभु की इच्छा से जिस तरह का भयानक प्लेग अन्य स्थानों पर हुआ है वैसा कलकत्ता में नहीं है। सरकारी अधिकारी भी विशेषकर हमारे लिए मददगार साबित हुए हैं। फिर डर कैसा ?
  5. आइए, हम भय को त्यागें और भगवान के अनंत स्नेह पर विश्वास रखते हुए कमर कसें और कर्मक्षेत्र में उतरें। आइए हम शुद्ध और स्वच्छ जीवन जिएं। उसकी कृपा से रोग और महामारी का डर हवा में उड़न छू हो जायेगा।
  6. (क) हमेशा अपना घर, परिसर, कमरे, कपड़े, बिस्तर और नाली आदि स्वच्छ रखें।
    (ख) बासी और खराब हुआ भोजन न खाएं, इसके बजाय ताजा और पौष्टिक भोजन लें। निर्बल शरीर अधिक रोग प्रवण होता है।
    (ग) हमेशा मन प्रसन्न रखें। हर एक को एक बार मरना है। कायर मृत्यु की टीस से बार बार भुगतते हैं, केवल अपने मन के भय के कारण।
    (घ) डर उनको कभी नहीं छोड़ता जो अनैतिक साधनों से अपनी जीविका कमाते हैं या दूसरों को क्षति पहुंचाते हैं। इसलिए जब हम मृत्यु के बड़े भय के सामने हैं, हमें सब तरह के कदाचार से बचना है।
    (ङ) महामारी की अवधि में हम क्रोध और लोभ से विरत रहें – यद्यपि आप गृहस्थ हों।
    (च) अफवाहों पर ध्यान न दें।
    (छ) अंग्रेज सरकार किसी को जबरन टीका नहीं लागाएगी। केवल उन्हीं को टीका लगेगा जो तैयार हैं।
    (ज) पीड़ित रोगियों के इलाज में हमारे अस्पताल में हमारी परिचर्या और निगरानी में सभी पंथों, जातियों और महिलाओं के शील (पर्दा) का आदर करते हुए कोई कोताही नहीं बरती जाएगी। धनिकों को भागने दीजिए! लेकिन हम गरीब हैं, हम गरीबों के दिल का दर्द समझते हैं। असहायों की सहायता ब्रह्मांड की मां स्वयं करती है। मां हमें विश्वास दिला रही है: डरो मत! डरो मत!

भगिनी निवेदिता और स्वामी विवेकानंद के अन्य मठवासी शिष्य ने कलकत्ता के लोगों की सेवा करने के लिए दिन रात मेहनत की। स्वामी विवेकानंद ने उनसे आग्रह किया – “भाई, यदि तुम्हारी सहायता के लिए कोई नहीं है, तो तुरंत बेलूर मठ में भगवान रामकृष्ण के सेवकों को सूचना भेजो। भौतिक रूप से जो संभव है ऐसी सहायता की कोई कमी नहीं होगी। माँ की कृपा से आर्थिक सहायता भी संभव होगी।”

प्लेग के दौरान स्वामी विवेकनंद ने बांग्ला भाषा में तैयार इस ‘प्लेग घोषणा पत्र’ को हिंदी में छपवाकर वितरित कराया था। इसका उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागृत करना और रोगियों तक मदद पहुँचाना था। इस प्लेग मैनिफेस्टो में विवेकानंद ने कहा था- “भय से मुक्त रहें, क्योंकि भय सबसे बड़ा पाप है।”

(स्रोत : पूर्ण साहित्य / खण्ड 9/ लेख: गद्य एवं कविताएं। प्रबुद्ध भारत खण्ड 111; 1 मई 2006)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ख़ास ख़बरें

एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे: STF की गाड़ी पलटने के बाद दुबे ने की थी पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश, देखें वीडियो

गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे ने घायल यूपी एसटीएफ के पुलिसकर्मियों की पिस्टल छीन कर भागने की कोशिश की। जवाबी फायरिंग में गोली लगने से बुरी तरह घायल विकास दुबे की मौत हो गई।

MLA कृष्णा पूनिया को जेड सिक्योरिटी: खाकी को दबाने का आरोप, अब 2 SI सहित 35 पुलिसकर्मी करेंगे सुरक्षा

राजस्थान के सबसे जांबाज पुलिसकर्मी विष्णुदत्त विश्नोई के सुसाइड को लेकर आरोपों में घिरीं कृष्णा पूनिया को गहलोत सरकार ने जेड सिक्योरिटी प्रदान की है।

गुजरात ने दिखाई आत्मनिर्भर भारत की राह: अजंता घड़ी वाला मोरबी चीनी टॉय मार्केट की लेगा जगह

मोरबी सेरेमिक टाइल्स का हब है। अब यहॉं की फर्मों ने बाजार में चीनी खिलौनों की जगह लेने का बीड़ा उठाया है।

जिस्म दो, मजदूरी लो: आज तक ने चित्रकूट की खदानों में यौन शोषण की रिपोर्ट के नाम पर किया गुमराह?

आज तक का दावा था कि चित्रकूट के खदानों में नाबालिग लड़कियों का यौन शोषण हो रहा है। 'पीड़िता' ने कहा है कि उसे सवाल ही समझ में नहीं आए थे।

सीएम की सुपारी लेने वाला श्रीप्रकाश शुक्ला, पुलिसकर्मियों को मारने वाला विकास दुबे: यूपी के क्रिमिनल कैसे-कैसे

विकास दुबे और श्रीप्रकाश शुक्ला दोनों ही अपराधियों में कई बातें एक जैसी हैं, दोनों के जीवन का शुरूआती जीवन हो या अंत, एनकाउंटर के अलावा ऐसी तमाम बातें हैं जब दोनों एक जैसे ही नज़र आते हैं।

प्रिय राजदीप, पप्पू का नाम सुना है, वो नेपाल भाग गया था, जानते हो उसके साथ क्या हुआ?

विकास दुबे पर कॉन्स्पिरेसी थ्योरी के सरताजों को पप्पू देव के बारे में जानना चाहिए, क्योंकि उनके सूत्र भी उनकी तरह का ही चश्मा पहनते हैं।

प्रचलित ख़बरें

क्या है सुकन्या देवी रेप केस जिसमें राहुल गाँधी थे आरोपित, कोर्ट ने कर दिया था खारिज

राजीव गाँधी फाउंडेशन पर जाँच को लेकर कल एक टीवी डिबेट में बीजेपी के संबित पात्रा और कॉन्ग्रेस के प्रवक्ता गौरव बल्लभ के बीच बहस आगे बढ़ते-बढ़ते एक पुराने रेप के मामले पर अटक गई जिसमें राहुल गाँधी को आरोपित बनाया गया था।

शोएब अख्तर के ओवर में काँपते थे सचिन, अफरीदी ने बिना रिकॉर्ड देखे किया दावा

सचिन ने ऐसे 19 मैच खेले, जिसमें शोएब पाकिस्तानी टीम का हिस्सा थे। इसमें सचिन ने 90.18 के स्ट्राइक और 45.47 की औसत से 864 रन बनाए।

‘गुप्त सूत्रों’ से विकास दुबे का एनकाउंटर: राजदीप खोजी पत्रकारों के सरदार, गैंग की 2 चेली का भी कमाल

विकास दुबे जब फरार था, तभी 'खोजी बुद्धिजीवी' अपने काम में जुट गए। ऐसे पत्रकारों में प्रमुख नाम थे राजदीप सरदेसाई, स्वाति चतुर्वेदी और...

रवीश कुमार जैसे गैर-मुस्लिम, चाहे वो कितना भी हमारे पक्ष में बोलें, नरक ही जाएँगे: जाकिर नाइक

बकौल ज़ाकिर नाइक, रवीश कुमार हों या 'मुस्लिमों का पक्ष लेने वाले' अन्य नॉन-मुस्लिम... उन सभी के लिए नरक की सज़ा की ही व्यवस्था है।

हमने कंगना को मौका नहीं दिया होता तो? पूजा भट्ट ने कहा- हमने उतनों को लॉन्च किया, जितनों को पूरी इंडस्ट्री ने नहीं की

पूजा भट्ट ने दावा किया कि वो एक ऐसे 'परिवार' से आती हैं, जिसने उतने प्रतिभाशाली अभिनेताओं, संगीतकारों और टेक्नीशियनों को लॉन्च किया है, जितनों को पूरी फिल्म इंडस्ट्री ने मिल कर भी नहीं किया होगा।

बेटों ने अपनाया ईसाई धर्म तो पिता ने संपत्ति से बेदखल कर थाने में दर्ज कराया मुकदमा, कहा- नहीं देंगे फूटी कौड़ी

पिता का आरोप है कि भूसुर गाँव के एक व्यक्ति द्वारा हमारे बटों को प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है। इसलिए हमने निर्णय लिया है कि यदि हमारे बेटे ने धर्म परिवर्तन किया तो उन्हें पैतृक संपत्ति से बेदखल कर दिया जाएगा।

एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे: STF की गाड़ी पलटने के बाद दुबे ने की थी पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश, देखें वीडियो

गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे ने घायल यूपी एसटीएफ के पुलिसकर्मियों की पिस्टल छीन कर भागने की कोशिश की। जवाबी फायरिंग में गोली लगने से बुरी तरह घायल विकास दुबे की मौत हो गई।

Covid-19: भारत में 24 घंटे में सामने आए 24879 नए मामले, अब तक 21129 की मौत

भारत में कोरोना संक्रमण के अब तक 7,67,296 मामले सामने आ चुके हैं। बीते 24 घंटे में 24,879 नए मामले सामने आए हैं और 487 लोगों की मौत हुई है।

MLA कृष्णा पूनिया को जेड सिक्योरिटी: खाकी को दबाने का आरोप, अब 2 SI सहित 35 पुलिसकर्मी करेंगे सुरक्षा

राजस्थान के सबसे जांबाज पुलिसकर्मी विष्णुदत्त विश्नोई के सुसाइड को लेकर आरोपों में घिरीं कृष्णा पूनिया को गहलोत सरकार ने जेड सिक्योरिटी प्रदान की है।

गुजरात ने दिखाई आत्मनिर्भर भारत की राह: अजंता घड़ी वाला मोरबी चीनी टॉय मार्केट की लेगा जगह

मोरबी सेरेमिक टाइल्स का हब है। अब यहॉं की फर्मों ने बाजार में चीनी खिलौनों की जगह लेने का बीड़ा उठाया है।

जिस्म दो, मजदूरी लो: आज तक ने चित्रकूट की खदानों में यौन शोषण की रिपोर्ट के नाम पर किया गुमराह?

आज तक का दावा था कि चित्रकूट के खदानों में नाबालिग लड़कियों का यौन शोषण हो रहा है। 'पीड़िता' ने कहा है कि उसे सवाल ही समझ में नहीं आए थे।

गैंगस्टर व‍िकास दुबे की पत्‍नी और बेटे को लखनऊ में एसटीएफ ने किया गिरफ्तार, नौकर को भी दौड़ाकर पकड़ा

गैंगस्टर विकास दुबे की आज सुबह उज्‍जैन में गिरफ़्तारी के बाद अब शाम को उसकी पत्‍नी और बेटे को भी एसटीएफ ने गिरफ्तार कर ल‍िया है।

पश्चिम बंगाल: भ्रष्टाचार पर ममता सरकार की पोल खोलने वाले पत्रकार शफीकुल इस्लाम समेत 3 गिरफ्तार

आरामबाग टीवी राज्य सरकार के निशाने पर पहले से था। क्योंकि, चैनल ने ममता बनर्जी सरकार द्वारा कई सभाओं को दिए डोनेशन पर सवाल उठाए थे।

कौन है मनोज यादव, सपा से क्या है रिश्ता: विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद उज्जैन से मिली यूपी नंबर वाली कार

विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद उज्जैन में यूपी नंबर की कार मिली जो मनोज यादव के नाम से रजिस्टर्ड है। उसका संबंध सपा से बताया जा रहा।

‘तेरी माँ रं*’: कैनी सेबेस्टियन की गालीबाजी पर फूटा गुस्सा, कॉमेडियन ने स्क्रीनशॉट को बताया फेक

कैनी सेबेस्टियन पर महिलाओं को लेकर अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने का आरोप है। हालॉंकि इससे जुड़े स्क्रीनशॉट को उसने फेक बताया है।

सीएम की सुपारी लेने वाला श्रीप्रकाश शुक्ला, पुलिसकर्मियों को मारने वाला विकास दुबे: यूपी के क्रिमिनल कैसे-कैसे

विकास दुबे और श्रीप्रकाश शुक्ला दोनों ही अपराधियों में कई बातें एक जैसी हैं, दोनों के जीवन का शुरूआती जीवन हो या अंत, एनकाउंटर के अलावा ऐसी तमाम बातें हैं जब दोनों एक जैसे ही नज़र आते हैं।

हमसे जुड़ें

237,080FansLike
63,334FollowersFollow
272,000SubscribersSubscribe