Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयअन्यनाम, फोन नंबर, ईमेल... Dark Web पर बिक रहा: लिंक्डइन का 70 करोड़ यूजर्स...

नाम, फोन नंबर, ईमेल… Dark Web पर बिक रहा: लिंक्डइन का 70 करोड़ यूजर्स का डाटा लीक होने से इनकार

इससे पहले इसी साल अप्रैल में लिंक्डइन के 500 मिलियन यूजर्स का डेटा लीक होने की खबर आई थी। इसमें यूजर्स के मोबाइल नंबर, नाम, पता, आईडी और ई-मेल एड्रेस से लेकर सोशल मीडिया अकाउंट तक की जानकारी थी।

पेशेवर नेटवर्किंग वेबसाइट लिंक्डइन (LinkedIn) के करीब 700 मिलियन यानी 70 करोड़ यूजर्स का डेटा हैकर्स ने कथित तौर पर लीक कर दिया है। डार्क वेब स्पेस में यह डाटा बिक्री के लिए उपलब्ध है। यह डाटा लिंक्डइन के सारे यूजर्स का करीब 92 फीसदी है। हालाँकि, लिंक्डइन ने इससे इनकार किया है। डाटा लीक करने वाले हैकरों के बारे में भी अभी तक कुछ भी नहीं पता चल सका है।

लीक हुए डेटा में यूजर्स के नाम, फोन नंबर, मेल आईडी, संस्थान सहित कई महत्वपूर्ण जानकारियाँ हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, लिंक्डइन यूजर्स का डाटा लीक हुआ है। हैकर्स ने इसे डार्क वेब स्पेस में बेचने के लिए डाल दिया है। इसमें से एक मिलियन डाटा को हैकर्स ने डार्क वेब के पब्लिक डोमेन में डाला है।

रेड फोरम ने कंपनी के प्रवक्ता के हवाले से कहा, “हम मामले की जाँच कर रहे हैं और हमारी शुरुआती जाँच में पता चला है कि डेटासेट में लिंक्डइन (LinkedIn) से स्क्रैप की गई जानकारी के साथ-साथ दूसरे सोर्सेज से भी जानकारियों को लिया गया है। यह लिंक्डइन का डेटा लीक नहीं था और हमारी जाँच से पता चला है कि लिंक्डइन (LinkedIn) के किसी भी मेंबर का डेटा लीक नहीं हुआ है। हम यह सुनिश्चित करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं कि हमारे सदस्यों की गोपनीयता सुरक्षित रहे।”

कंपनी ने अपनी वेबसाइट पर पोस्ट किए गए एक नोट में कहा, “हमारी टीमों ने कथित लिंक्डइन डेटा के एक सेट की जाँच की है, जिसे बिक्री के लिए पोस्ट किया गया है। हम स्पष्ट करना चाहते हैं कि यह डेटा लीक नहीं है।”

इससे पहले इसी साल अप्रैल में लिंक्डइन (LinkedIn) के 500 मिलियन यूजर्स का डेटा लीक होने की खबर आई थी। इसमें यूजर्स के मोबाइल नंबर, नाम, पता, आईडी और ई-मेल एड्रेस से लेकर सोशल मीडिया अकाउंट तक की जानकारी थी। इसे भी हैकर्स ने डार्क वेब पर सेल के लिए डाल दिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -