Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयअन्यइंटरनेट से भी फास्ट आरोग्य सेतु: जहाँ पहुँचने में टेलीफोन को 75 साल लगे,...

इंटरनेट से भी फास्ट आरोग्य सेतु: जहाँ पहुँचने में टेलीफोन को 75 साल लगे, वहॉं 13 दिन में पहुँचा

इस ऐप का इस्तेमाल एंड्रॉयड और आईफोन दोनों तरह के स्‍मार्टफोन में किया जा सकता है। इस ऐप के जरिए आसपास मौजूद कोरोना पॉजिटिव लोगों के बारे में पता लगाने में मदद मिलती है।।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड करने की सलाह दी थी, उसे मात्र 13 दिन में 50 मिलियन लोगों ने डॉउनलोड कर एक नया रिकॉर्ड कायम किया है। कुछ तकनीक से निर्मित चीजें ऐसी होती हैं जिन्हें समाज के हर तबके के बीच पहुँचने में लंबा समय लग जाता है। कई बार लोग उन चीजों का उपयोग करते भी हैं और कई बार नहीं भी। लेकिन आज जब दुनिया विकल्पों के बीच घिरी हुई है, उस समय किसी एक चीज को समाज द्वारा इतने तेजी से स्वीकारना उसकी उपयोगिता का बखान स्वंय करता है। कोरोना के मद्देनजर कुछ ऐसा ही कमाल आरोग्य सेतु ऐप ने कर दिखाया है।

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने इस संबंध में जानकारी दी है। उन्होंने कोरोना से लड़ने के लिए तैयार की गई इस ऐप की सफलता को बताते हुए लिखा, “टेलीफोन को 75 साल लगे 50 मिलियन यूजर्स तक पहुँचने में। रेडियो को 38 साल, टेलीविजन को 13 साल , इंटरनेट को 4 साल , फेसबुक को 19 महीने, पॉकेमॉन गो को 19 दिन लगे। लेकिन कोरोना से लड़ने के लिए तैयार की गई ऐप को सिर्फ़ 13 दिनों में 50 मिलियन यूजर मिल गए हैं। यह वैश्विक स्तर पर किसी ऐप के लिए सबसे तेज है। भारत की प्रतिबद्धता को सलाम! “

उल्लेखनीय है कि भारत सरकार द्वारा लॉंच किए गए इस ऐप को डाउनलोड करने की सलाह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने संबोधन में दी थी। यह ऐप न केवल आपको कोरोना के बारे में सभी जानकारी उपलब्ध कराता है, बल्कि कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे और जोखिम का आकलन करने में भी मदद करता है। इसका इस्तेमाल एंड्रॉयड और आईफोन दोनों तरह के स्‍मार्टफोन में किया जा सकता है। इस ऐप के जरिए आसपास मौजूद कोरोना पॉजिटिव लोगों के बारे में पता लगाने में मदद मिलती है।।

बता दें, इस ऐप की खासियत है कि इसे 11 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध कराया गया है। यानी देशव्यापी समस्या से लड़ने के लिए सरकार ने इस ऐप से भाषा की समस्या को दूर कर दिया है। इस ऐप के लिए ब्लूटूथ और जीपीएस डेटा की जरूरत पड़ती है। बिना नंबर रजिस्टर किए ये काम नहीं करता। इसके अलावा ये आपको स्वयंसेवक  बनने का मौका देता है। यदि आप इस महामारी में वॉलिंटियर की तरह काम करने की इच्छा रखते हैं तो आपके पास खुद को इसमें नामांकित करने का विकल्प है। इस ऐप में रंगों के माध्यम से आपको सुझाव दिया जाता है और बताया जाता है कि आप सुरक्षित या नहीं। इसमें सेल्फ असेसमेंट टेस्ट होता है। साथ ही चैट विंडो के जरिए सेहत और लक्षण से जुड़े सवालों से उन्हें आँका जाता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

डोनाल्ड ट्रंप को मारी गई गोली, अमेरिकी मीडिया बता रहा ‘भीड़ की आवाज’ और ‘पॉपिंग साउंड’: फेसबुक पर भी वामपंथी षड्यंत्र हावी

डोनाल्ड ट्रंप की हत्या के प्रयास की पूरी दुनिया के नेताओं ने निंदा की, तो अमेरिकी मीडिया ने इस घटना को कमतर आँकने की कोशिश की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -