Saturday, May 18, 2024
Homeविविध विषयअन्य'118 की स्ट्राइक से रन बना कर चाहते हो कि तालियाँ बजे: विराट कोहली...

‘118 की स्ट्राइक से रन बना कर चाहते हो कि तालियाँ बजे: विराट कोहली के साथ-साथ स्टार स्पोर्ट्स पर भी नाराज़ हुए सुनील गावस्कर, कहा – हमें नीचा दिखाया जा रहा

गावस्कर ने न केवल विराट की आलोचना की, बल्कि टेलीविजन पर ओपनर बल्लेबाज के उस बयान को 'दर्जन बार' दिखाने के लिए ब्रॉडकास्टर स्टार स्पोर्ट्स पर भी कटाक्ष किया।

भारतीय क्रिकेट के महानतम खिलाड़ियों में शुमार सुनील गावस्कर ने फिर से विराट कोहली पर निशाना साधा है। उन्होंने विराट कोहली के स्ट्राइक रेट पर फिर से गंभीर सवाल उठाए हैं। उन्होंने गुजरात टाइटंस और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के बीच मैच के दौरान कहा कि अगर कोई 118 की स्ट्राइक रेट से रन बनाता है और 14वें-15वें ओवर में बिना मैच बचाए आउट हो जाता है, इसके बावजूद वो चाहता है कि लोग तारीफ करे, तो फिर ये अलग बात है। दरअसल, विराट कोहली ने इस आईपीएल जमकर रन बनाए हैं, लेकिन उनकी धीमी बल्लेबाजी की वजह से कई करीबी मैचों में आरसीबी को हार झेलनी पड़ी थी।

दरअसल, अपनी धीमी बल्लेबाजी पर निशाने पर आए विराट कोहली ने गुजरात टाइटंस और आरसीबी के मैच में अच्छी बल्लेबाजी की थी। उन्होंने 44 गेंदों पर 70 रन बनाए थे। इसके बाद उनसे पूछा गया था कि वो धीमे स्ट्राइक रेट और स्पिनरों के सामने दिक्कत को लेकर उठ रहे सवालों पर क्या सोचते हैं। इसके जवाब में विराट कोहली ने कहा था कि वो मैदान से बाहर हो रही बातों पर ध्यान नहीं देते। मेरा मानना है कि आज की बैटिंग से सारे सवालों के जवाब मिल गए होंगे।

उन्होंने अपनी बुराई करने वाले कमेंटेटरों पर निशाना साधा था, जिसे बार-बार टीवी पर दिखाया जा रहा था। इस बात से सुनील गावस्कर नाराज हो गए। उन्होंने स्टार स्पोर्ट्स चैनल की भी आलोचना की थी कि एक खिलाड़ी के बयान को बार-बार दिखाकर कमेंटेटरों को नीचा दिखाया जा रहा है। इसी दौरान उन्होंने विराट कोहली पर और भी तीखे हमले बोले।

गावस्कर ने न केवल विराट की आलोचना की, बल्कि टेलीविजन पर ओपनर बल्लेबाज के उस बयान को ‘दर्जन बार’ दिखाने के लिए ब्रॉडकास्टर स्टार स्पोर्ट्स पर भी कटाक्ष किया। उन्होंने कहा, “अगर आपका स्ट्राइक रेट 118 है, आप आते हैं और पहली गेंद का सामना करते हैं, और फिर आप 14वें या 15वें ओवर में आउट हो जाते हैं और आपका स्ट्राइक रेट 118 है। इसके बावजूद अगर आप इसके लिए तालियाँ चाहते हैं, तो यह थोड़ा अलग है।”

गावस्कर ने आगे कहा, “लेकिन स्टार स्पोर्ट्स के लिए यह दिखाना कि कोई व्यक्ति अपने ही कमेंटेटरों को नीचा दिखा रहा है, मुझे यकीन नहीं है कि यह बहुत अच्छी बात है। इसलिए मुझे लगता है कि स्टार स्पोर्ट्स को यह समझने की जरूरत है कि उन्होंने इसे कई बार दिखाया है, हर किसी को संदेश मिल गया है।”

गावस्कर ने कोहली की बातों पर जवाब में कहा, “कमेंटेटरों ने सवाल तब उठाया, जब स्ट्राइक रेट 118 का था। मैं दूसरे कमेंटेटरों के बारे में नहीं जानता कि उन्होंने क्या कहा, लेकिन अगर आप 14-15वें ओवर में आउट होते हैं और तालियाँ चालते हैं, तो ये बिल्कुल अलग बात है।” उन्होंनेकहा कि हम जो देखते हैं, वही बोलते हैं। जरूरी नहीं कि हम किसी को पसंद या नापसंद करें तभी बोलें। हम तो तथ्यों पर बात कर रहे हैं।

बता दें कि आईपीएल 2024 में विराट कोहली ने सर्वाधिक 542 रन बनाए हैं और वो ऑरेंज कैप होल्डर हैं लेकिन ESPN क्रिकेटइंफो के इंपैक्ट प्वॉइंट्स के मुताबिक, उनके 542 रन महज 475 रनों के बराबर हैं। ऐसा कम स्ट्राइक रेट की वजह से भी हो सकता है। वहीं, सीएसके के कप्तान ऋतुराज गायकवाड़ ने 509 रन ही बनाए हैं, लेकिन इंपैक्ट प्वॉइंट के हिसाब से ये रन 505 रनों के बराबर हैं। वहीं, ट्रेविस हेड ने 396 रन ही बनाए हैं, लेकिन ये रन 480 रनों के बराबर हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वाति मालीवाल बन गई INDI गठबंधन में गले की फाँस? राहुल गाँधी की रैली के लिए केजरीवाल को नहीं भेजा गया न्योता, प्रियंका कह...

दिल्ली में आयोजित होने वाली राहुल गाँधी की रैली में शामिल होने के लिए AAP प्रमुख अरविंद केजरीवाल को न्योता नहीं दिया गया है।

‘अनुच्छेद 370 को हमने कब्रिस्तान में गाड़ दिया, इसे वापस नहीं लाया जा सकता’: PM मोदी बोले- अलगाववाद को खाद-पानी देने वाली कॉन्ग्रेस ने...

पीएम मोदी ने कहा, "आजादी के बाद गाँधी जी की सलाह पर अगर कॉन्ग्रेस को भंग कर दिया गया होता, तो आज भारत कम से कम पाँच दशक आगे होता।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -