Monday, April 6, 2020
होम विविध विषय अन्य ...उस मुगल 'बादशाह' की कब्र खोजेगा ASI, जिसने किया था गीता और 52 उपनिषदों...

…उस मुगल ‘बादशाह’ की कब्र खोजेगा ASI, जिसने किया था गीता और 52 उपनिषदों का अनुवाद

दारा शिकोह को एक "उदार मुस्लिम" के रूप में जाना जाता है, जिन्होंने हिंदू और इस्लामी परंपराओं के बीच समानताएँ खोजने की कोशिश की। उन्होंने भागवत गीता के साथ-साथ 52 उपनिषदों का अनुवाद फारसी में किया था।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

इतिहास के पन्नों में कई राज दफन हैं। इनमें कुछ मौखिक तो कुछ लिखित हैं, जिन्हें बाद में शब्दों की शक्ल दी गई। अब इन्हीं शब्दों की परतों को खोलने का कार्य भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) करने जा रहा है, जिसमें उन्हें हुमायूँ मकबरे के भीतर दाराशिकोह की कब्र को खोजने का उत्तरदायित्व दिया गया है।

लिखित इतिहास के अनुसार दाराशिकोह की कब्र हुमायूँ मकबरे के भीतर है। ASI के सामने सबसे बड़ी परेशानी यहाँ दाराशिकोह की कब्र को खोजने की है क्योंकि अधिकतर कब्रों पर नाम नहीं लिखे हुए हैं। हुमायूँ मकबरे के पूरे परिसर में करीब 140 कब्रें हैं, जिनमें कुछ कब्रों पर नाम है तो ज्यादातर कब्र बेनाम हैं।

संस्कृति व पर्यटन मंत्रालय के आदेश पर ASI द्वारा 7 सदस्यीय टीम गठित की गई है, जो 3 महीने के भीतर दाराशिकोह की कब्र को ढूँढकर अपनी रिपोर्ट पेश करेगी। इस टीम का नेतृत्व टीजे अलोन करेंगे, जो ASI में स्मारक निदेशक हैं। इस टीम में वरिष्ठ पुरातत्वविद् आरएस बिष्ट, सईद जमाल हसन, केएन दीक्षित, बीआर मणि, केके मुहम्मद, सतीश चंद्र और बीएम पांडे शामिल हैं। इसके लिए तीन महीने का समय दिया गया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

वहीं इस बारे में पूछे जाने पर संस्कृति व पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल ने कहा, “निष्कर्षों तक पहुँचने के लिए तीन महीने के समय को बढ़ाया भी जा सकता है। क्योंकि इसे ढूँढने में उस समय की वास्तुकला से लेकर लिखित इतिहास व अन्य जानकारियों को ध्यान में रखना होगा। पैनल उस समय के लिखित इतिहास, साक्ष्य या फिर कोई अन्य जानकारी, जिसे सबूत के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है, का उपयोग करके निष्कर्ष पर पहुँचेगा।”

बता दें कि दाराशिकोह, शाहजहाँ व मुमताज के बड़े बेटे एवं औरंगजेब के बड़े भाई थे। कई भाषाओं के विद्वान दाराशिकोह को मारकर 1659 में औरंगजेब गद्दी पर बैठा था। दारा शिकोह को एक “उदार मुस्लिम” के रूप में जाना जाता है, जिन्होंने हिंदू और इस्लामी परंपराओं के बीच समानताएँ खोजने की कोशिश की। उन्होंने भागवत गीता के साथ-साथ 52 उपनिषदों का अनुवाद फारसी में किया था।

पैनल में शामिल पुरातत्वविदों में से एक, केके मुहम्मद ने दारा शिकोह को उस समय के सबसे महान मुक्त विचारकों में से एक बताया। उन्होंने कहा कि दारा शिकोह ने उपनिषदों के महत्व को समझा और उसका अनुवाद किया। उपनिषद उस समय केवल कुछ उच्च जाति के हिंदुओं के लिए जाना जाता था। दारा शिकोह के उस फारसी अनुवाद ने आज के बहुत से मुक्त विचारकों को प्रेरित किया, जिसमें संयुक्त राज्य अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा भी शामिल हैं।

वहीं कुछ इतिहासकारों का कहना है कि अगर औरंगजेब की जगह दारा शिकोह मुगल सिंहासन पर बैठता तो इससे सांप्रदायिक हिंसा में खोए हजारों लोगों की जान बच सकती थी। अविक चंदा अपनी किताब- ‘दारा शिकोह, द मैन हू वुड बी किंग’ में लिखते हैं, “दारा शुकोह औरंगज़ेब का धुर विरोधी था। वह काफी सामंजस्यवादी, गर्मजोशी और उदार था, लेकिन इसके साथ ही वह लड़ाई के क्षेत्र में एक उदासीन प्रशासक होने के साथ ही अप्रभावी भी था।”

बता दें कि हाल ही में दिल्ली के एक सम्मेलन में वक्ताओं ने दारा शिकोह को ‘असली हिंदुस्तानी’ कहा था। इसमें RSS के पदाधिकारी भी शामिल थे। पिछले साल अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में दारा शिकोह के नाम पर एक रिसर्च चेयर स्थापित की गई।

दिल्ली विश्वविद्यालय में मध्ययुगीन इतिहास के प्रोफेसर सुनील कुमार ने दारा शिकोह के कब्र की खोज पर सवाल उठाते हुए कहा, “जब भी आप आधुनिक राजनीतिक उद्देश्यों के लिए अतीत का उपयोग करते हैं, तो आप हमेशा इसे ट्विस्ट कर देंगे क्योंकि अतीत आधुनिकता में उपयुक्त नहीं बैठ सकता। आप इसे अपने वर्तमान इरादों के लिए इसमें जोड़-तोड़ करते हैं। अगर औरंगजेब की जगह वह शहंशाह होता, तो क्या अलग भारत होता? ये धारणाएँ मुगल इतिहास की मिसप्लेस्ड अंडरस्टैंडिंग की वजह से आ रही हैं। उन्हें एक अच्छा मुस्लिम बनाया गया है लेकिन उनकी कब्र की खोज क्यों हो रही है?”

शाहजहाँनामा के अनुसार, औरंगजेब ने दारा शिकोह को पराजित करने के बाद, उन्हें जंजीरों में बाँधकर दिल्ली लाया गया था। उनका सिर काट दिया गया और आगरा किले में भेज दिया गया, जबकि उनके धड़ को हुमायूँ के मकबरे के परिसर में दफना दिया गया।

केके मुहम्मद ने कहा, “कोई नहीं जानता कि वास्तव में दारा शिकोह को कहाँ दफनाया गया था। हम सभी जानते हैं कि यह हुमायूँ के मकबरे के परिसर में एक छोटी सी कब्र है। अधिकांश लोग वहाँ एक विशेष छोटी सी कब्र की ओर इशारा करते हैं। इटालियन यात्री निकोलो मनुची ने ट्रेवल्स ऑफ मनुसी में उस दिन का एक ग्राफिक विवरण दिया है, जो कि इसके प्रत्यक्षदर्शी हैं। यही इस थेसिस का आधार है।”

पैनल के सदस्य बीआर मणि ने कहा, “परिसर में मौजूद कब्रों में से एक पारंपरिक रूप से दारा शिकोह का कहा जाता है। यह हुमायूँ के मकबरे परिसर के पश्चिमी तरफ स्थित है। हम इस बारे में पीढ़ियों से क्षेत्र में रहने वाले लोगों के साथ-साथ वरिष्ठ ASI अधिकारियों से सुनते आ रहे हैं, लेकिन फिर भी कोई सबूत नहीं है।”

AMU के प्रोफेसर शिरीन मूसवी ने कहा, “1857 तक परिवार के सभी सदस्यों को उसी परिसर में दफनाया गया था। इतिहासकार जदुनाथ सरकार, सभी अधिकारियों के साथ-साथ यूरोपियन और फारसी भी इसी तरफ इशारा करते हैं कि दारा शिकोह को हुमायूँ के मकबरे में दफन किया गया था।”

ASI की सबसे बड़ी समस्या यह है कि परिसर की अधिकांश कब्रों का कोई नाम नहीं है। ASI के एक पूर्व निदेशक और पैनल के सदस्य हसन ने कहा, “शाहजहाँनामा में मुहम्मद सालेह कम्बोह ने दारा शिकोह के अंतिम दिनों के बारे में कम से कम दो पेजों में लिखा है कि कैसे उनकी बेरहमी से हत्या की गई थी और फिर परिसर में कहीं दफना दिया गया था।”

केके मुहम्मद ने कहा कि निश्चितता के साथ तो नहीं कहा जा सकता है, मगर संभावना जरूर है। वहीं प्रोफेसर मूसवी को डर है कि कहीं यह खोज कभी खत्म न होने वाला न हो जाए, क्योंकि किसी ने भी कब्र की जगह का उल्लेख नहीं किया है। वहाँ पर कोई भी कब्र चिह्नित या अंकित नहीं है। दारा शिकोह की कब्र को पहचानने का कोई तरीका नहीं है।

इतिहास में गुम हैं मुगलों को 17 बार हराने वाले अहोम योद्धा: देश भूल गया ब्रह्मपुत्र के इन बेटों को

‘मुगलों ने हिंदुस्तान को लूटा ही नहीं, माल बाहर भी भेजा, ये रहा सबूत’

छत्रपति शिवाजी की बहू महारानी ताराबाई की समाधी का बुरा हाल, मुगलों के ख़िलाफ़ राष्ट्रहित में लड़ी थीं

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ताज़ा ख़बरें

वो 20 खबरें जो ‘नौ बजे नौ मिनट’ के बाद लिब्रान्डू-वामपंथी मीडिया फैला सकती है

सोशल मीडिया समेत ऑपइंडिया के भी कुछ सुझाव हैं कि आने वाले समय में 'नौ बजे नौ मिनट' के नाम पर कैसी दर्द भरी कहानियाँ आ सकती हैं। हमने ये सुझाव वामपंथियों की कम होती क्रिएटिविटी के कारण उन पर तरस खाकर दिए हैं।

4.1 दिन में ही दोगुनी हो गई कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या, तबलीगी जमात नहीं होता तो लगते 7.1 दिन

कल से आज तक 472 नए मामले सामने आए हैं, जिससे देश में कोरोना संक्रमित कुल मामलों की संख्या अब 3374 तक पहुँच चुकी है। अग्रवाल ने यह भी बताया कि अब तक देश के 274 जिलों से कोरोना संक्रमण के केसेस आ चुके हैं। जबकि भारत में अब तक कोरोना के कारण मरने वालों की संख्या 79 हो चुकी है, जिसमें से 11 शनिवार और रविवार को मिलाकर हुई हैं।

तबलीगी कारनामे की लीपापोती में जुटा ध्रुव राठी और गैंग, फैलाया 8 फैक्ट चेक (फर्जी) का प्रोपेगेंडा

जब 50 करोड़ हिन्दुओं को कोरोना से खत्म करने की दुआ करता मौलवी गिरफ्तार होता है, या फिर TikTok पर युवक इसे अल्लाह का कहर बताते नजर आते हैं, तो लोगों की जिज्ञासा एक बार के लिए मुस्लिम समुदाय पर सवाल खड़े जरूर कर देती है। ऑल्ट न्यूज़ जैसे फैक्ट चेकर्स के कंधे पर बंदूक रखकर दक्षिणपंथियों के दावों को खारिज करने का दावा करने वाला ध्रुव राठी यहाँ पर एक बार फिर सस्ती लोकप्रियता जुगाड़ते व्यक्ति से ज्यादा कुछ भी नजर नहीं आते।

राहुल-थरूर को ठेंगा दिखा इस कॉन्ग्रेसी नेता ने कर दिया PM मोदी का समर्थन, MP कॉन्ग्रेस में एक और फूट!

ग्वालियर से कॉन्ग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने प्रधानमंत्री मोदी के रात नौ बजे नौ मिनट पर 'दिया जलाने' की मुहिम का समर्थन करने का एलान कर दिया। ट्विटर पर पूर्व प्रधानंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कविता "आओ फिर से दिया जलाएँ" के जरिए उन्होंने कहा कि यही एकता प्रदर्शित करने का समय है और...

AIMIM के नहीं हैं 5 सांसद, इसके लिए मोदी जिम्मेदार: मीटिंग का बुलावा न मिलने पर ओवैसी ने बताया अपमान

ओवैसी के ये सारे आरोप महज राजनीति से ही प्रेरित नजर आते हैं क्योंकि प्रधामंत्री कार्यालय की तरफ से इस संदर्भ में जो प्रेस रिलीज जारी की गई है, उसमें यह स्पष्ट तौर पर रेखांकित है कि प्रधामंत्री इस विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होने वाली मीटिंग में सिर्फ उन्हीं राजनीतिक दलों के फ्लोर लीडर्स से बात करेंगे, जिनके सदस्यों की संख्या दोनों सदनों में मिलाकर कम से कम 5 है।

सरकार जान से मार देगी, नहीं लेंगे दवा-सूई: जमातियों का हॉस्पिटल में हँगामा, DM ने मुस्लिम डॉक्टर को बुलाकर समझाया

26 तबलीगी जमात के सदस्यों को दरियापुर से लाकर सोला के सिविल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करवाया गया था। जब मेडिकल टीम ने उनकी जाँच करने की कोशिश की, तो उन्होंने जाँच करवाने से मना करते हुए हँगामा खड़ा कर दिया। इनका आरोप था कि सरकार इन्हें जान से मारने की कोशिश कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

फलों पर थूकने वाले शेरू मियाँ पर FIR पर बेटी ने कहा- अब्बू नोट गिनने की आदत के कारण ऐसा करते हैं

फल बेचने वाले शेरू मियाँ का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा था, जिसमें वो फलों पर थूक लगाते हुए देखे जा रहे थे। इसके बाद पुलिस ने उन पर कार्रवाई कर गिरफ्तार कर लिया, जबकि उनकी बेटी फिजा का कुछ और ही कहना है।

वैष्णो देवी गए 145 को हुआ कोरोना: पत्रकार अली ने फैलाया झूठ, कमलेश तिवारी की हत्या का मनाया था जश्न

कई लोग मीडिया पर आरोप लगा रहे थे कि जब किसी हिन्दू धार्मिक स्थल में श्रद्धालु होते हैं तो उन्हें 'फँसा हुआ' बताया जाता है जबकि मस्जिद के मामले में 'छिपा हुआ' कहा जाता है। इसके बाद फेक न्यूज़ का दौर शुरू हुआ, जिसे अली सोहराब जैसों ने हज़ारों तक फैलाया।

नर्सों के सामने नंगे हुए जमाती: वायर की आरफा खानम का दिल है कि मानता नहीं

आरफा की मानें तो नर्सें झूठ बोल रही हैं और प्रोपेगेंडा में शामिल हैं। तबलीगी जमात वाले नीच हरकत कर ही नहीं सकते, क्योंकि वे नि:स्वार्थ भाव से मजहब की सेवा कर रहे हैं। इसके लिए दुनियादारी, यहॉं तक कि अपने परिवार से भी दूर रहते हैं।

मधुबनी, कैमूर, सिवान में सामूहिक नमाज: मस्जिद के बाहर लाठी लेकर औरतें दे रही थी पहरा

अंधाराठाढ़ी प्रखंड के हरना गॉंव में सामूहिक रूप से नमाज अदा की गई। यहॉं से तबलीगी जमात के 11 सदस्य क्वारंटाइन में भेजे गए हैं। बताया जाता है कि वे भी नमाज में शामिल थे। पुरुष जब भीतर नमाज अदा कर रहे थे दर्जनों औरतें लाठी और मिर्च पाउडर लेकर बाहर खड़ी थीं।

जो लाइट्स ऑफ करेगा, उनके दरवाजे पर चॉक से निशान बनेगा: TMC अपनाएगी हिटलर वाला तरीका

पीएम मोदी ने लोगों से 5 अप्रैल की रात नौ बजे नौ मिनट के लिए घर की सभी लाइटें बंद कर दीया, मोमबत्ती या टॉर्च जलाने की अपील कर रखी है। टीएमसी से जुड़े प्रसून भौमिक ने अपने फेसबुक पोस्ट में दावा किया है कि जो ऐसा करेंगे उनके घरों के दरवाजे पर निशान लगा कर चिह्नित किया जाएगा।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

172,802FansLike
53,692FollowersFollow
213,000SubscribersSubscribe
Advertisements