Monday, September 27, 2021
Homeविविध विषयअन्यIPL-13 का टाइटल स्पॉन्सर बन सकती है बाबा रामदेव की पतंजलि, Vivo के निकाले...

IPL-13 का टाइटल स्पॉन्सर बन सकती है बाबा रामदेव की पतंजलि, Vivo के निकाले जाने के बाद आगे आई कंपनी

ब्रांड रणनीतिकार हरीश बिजूर ने कहा कि अगर कम्पनी ऐसा करने में कामयाब होती है तो इससे IPL से ज्यादा उसका ही फायदा है। भारत में चीन-विरोधी सोच के बीच राष्ट्रवादी भावनाएँ...

बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद भी अब IPL के टाइटल स्पॉन्सर की दौर में शामिल हो गई है। बता दें कि हाल ही में BCCI ने IPL की स्पॉन्सरशिप के लिए Vivo से करार ख़त्म कर दिया था क्योंकि भारत-चीन तनाव के बीच चाइनीज कंपनियों के बहिष्कार की बात चल रही थी और लोगों ने इसके लिए क्रिकेट बोर्ड का जबरदस्त विरोध किया था। अब बाबा रामदेव की पतंजलि इसमें कूद पड़ी है।

पतंजलि के प्रवक्ता तिजारावाला ने ‘इकोनॉमिक टाइम्स’ से कहा कि वो लोग इस बार IPL की टाइटल स्पॉन्सरशिप के लिए विचार कर रहे हैं क्योंकि पतंजलि को वैश्विक मंच पर ले जा कर मार्केटिंग करने का ये एक अच्छा मौक़ा हो सकता है। साथ ही कम्पनी इस सम्बन्ध में जल्द ही BCCI के साथ चर्चा भी करने वाली है। विशेषज्ञों का कहना है कि चीनी कंपनियों के मुकाबले पतंजलि में कोई बहुत बड़ा निवेश नहीं है और MNC जैसा स्टार पावर नहीं है।

ऐसे में चाइनीज कंपनियों के बहिष्कार के बीच राष्ट्रवादी सोच वाली स्वदेशी कम्पनी का आगे आना लोगों को पसंद आ सकता है। ब्रांड रणनीतिकार हरीश बिजूर ने कहा कि अगर कम्पनी ऐसा करने में कामयाब होती है तो इससे IPL से ज्यादा उसका ही फायदा है। भारत में चीन-विरोधी सोच के बीच राष्ट्रवादी भावनाएँ शबाब पर हैं और ऐसे में उसका आगे आना एक कारगर रणनीति हो सकती है।

हालाँकि, इस दौर में कई अन्य कम्पनियाँ भी शामिल हैं। Vivo के निकाले जाने के बाद BCCI के साथ करार की दौर में जिओ, अमेजन, टाटा समूह, अडानी ग्रुप, ड्रीम 11 और Byjus भी इस दौर में शामिल हैं। पिछले 2 सालों में बिस्किट और नूडल्स के बाजार में पतंजलि पिछड़ गई क्योंकि इसके प्रोडक्ट्स की गुणवत्ता समान नहीं रही है और इसे तगड़ा कम्पटीशन भी मिला है। हाल ही में इसने कोरोना के लिए इम्युनिटी बूस्टर भी लॉन्च किया है।

ज्ञात हो कि Vivo ने 2017 में BCCI के साथ 2199 करोड़ रुपए का करार किया था, जो 5 साल के लिए हुआ था। चाइनीज प्रोडक्ट्स का बहिष्कार किए जाने के लिए लगातार अभियान चला रहे स्वदेशी जागरण मंच ने तो यहाँ तक कहा था कि अगर BCCI इस निर्णय को वापस नहीं लेता है तो लोगों को IPL का ही बॉयकॉट करना चाहिए। संस्था ने इसे देश की वर्तमान भावनाओं के विपरीत बताया था।

 IPL-13 कब आयोजन 19 सितंबर से लेकर 10 नवंबर तक किया जाना है। शाम में होने वाले मैच 7:30 PM से शुरू होगा। 10 नवंबर को फाइनल मैच होगा। सोशल डिस्टेंसिंग को देखते हुए दो मैचों के बीच पर्याप्त गैप भी दिया गया है। मैच में दर्शकों की उपस्थिति के विषय में UAE से बातचीत के बाद अंतिम निर्णय लिया जाएगा। सभी फ्रेंचाइजियों को वीजा की प्रक्रिया शुरू करने की सलाह दे दी गई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

‘टोटी चोर’ के बाद मार्केट में AC ‘चोर’, कन्हैया ‘क्रांति’ कुमार का कॉन्ग्रेसी अवतार

एक 'आंगनबाड़ी सेविका' का बेटा वातानुकूलित सुख ले! इससे अच्छे दिन क्या हो सकते हैं भला। लेकिन सुख लेने के चक्कर में कन्हैया कुमार ने AC ही उखाड़ लिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,737FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe