Tuesday, May 21, 2024
Homeविविध विषयअन्यशेन वार्न के थाईलैंड वाले कमरे के फर्श और तौलियों पर ‘खून के धब्बे’,...

शेन वार्न के थाईलैंड वाले कमरे के फर्श और तौलियों पर ‘खून के धब्बे’, मौत के आधिकारिक कारण पर पुलिस अब भी चुप

"कमरे में अच्छी-खासी मात्रा में खून पाया गया था। जब सीपीआर शुरू किया गया था, मृतक को तरल खाँसी आई थी और खून बह रहा था।" - स्थानीय पुलिस कमांडर ने यह तो बता दिया लेकिन मौत के आधिकारिक कारण पर अभी चुप हैं।

शेन वार्न अब हमारे बीच नहीं रहे। थाईलैंड के एक प्राइवेट विला में उनका निधन (4 मार्च 2022) हुआ। अब वहीं की पुलिस से खबर आई है कि जिस कमरे में शेन वार्न थे, वहाँ के फर्श और तौलियों पर ‘खून के धब्बे’ मिले थे।

थाईलैंड पुलिस के अनुसार शेन वार्न को अस्पताल ले जाने के बाद उनके कमरे में खून देखा गया। पुलिस ने स्पष्ट किया है कि विला में जो खून पाया गया, वो वार्न की जान बचाने के लिए दिए जा रहे सीपीआर (CPR: Cardiopulmonary Resuscitation) के कारण आया था।

थाईलैंड के जिस कोह सामुई स्थित प्राइवेट विला में शेन वार्न (Shane Warne in Koh Samui) ठहरे थे, वहाँ के स्थानीय पुलिस कमांडर ने थाई मीडिया को बताया, “कमरे में अच्छी-खासी मात्रा में खून पाया गया था। जब सीपीआर शुरू किया गया था, मृतक को तरल खाँसी आई थी और खून बह रहा था।”

स्काईन्यूज.कॉम के अनुसार थाईलैंड पुलिस ने शेन वार्न के निधन के अगले दिन शनिवार को बताया – वार्न के परिवार ने उन्हें पूर्व ऑस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर के अस्थमा और हृदय रोग के बारे में बताया था। वहाँ के पुलिस अधीक्षक युताना सिरिसोम्बा के अनुसार वार्न ने हाल ही में अपने हृदय रोग के संबंध में एक डॉक्टर को दिखाया था।

थाईलैंड की पुलिस ने शेन वार्न की मौत को संदिग्ध मानने से इनकार किया है। हालाँकि अभी तक मौत का आधिकारिक कारण भी नहीं बताया है। पुलिस अधीक्षक युताना सिरिसोम्बा ने इसको लेकर कहा – “मैं यकीन से नहीं कह सकता हूँ, यह डॉक्टर की राय पर निर्भर करता है।”

शेन वॉर्न को 4 दोस्त दे रहे थे CPR

थाईलैंड पुलिस के अनुसार घटना के समय शेन वार्न के दोस्तों ने 20 मिनट तक उनकी जान बचाने के लिए संघर्ष किया था। पुलिस के अनुसार रात को खाने के वक्त जब वॉर्न नीचे नहीं आए तो एक दोस्त उन्हें देखने के लिए गया था। इसी दौरान वो बेहोश पड़े मिले।

शेन वॉर्न को बेहोश पड़े देख कर दोस्तों ने सीपीआर के जरिए उनकी जान बचाने की कोशिश की थी। साथ ही एंबुलेंस को भी फोन किया था। वहाँ से वॉर्न को थाई इंटरनेशनल हॉस्पिटल ले जाया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -