Tuesday, May 21, 2024
Homeविविध विषयअन्य#WhereisPengShuai - विंबलडन, फ्रेंच ओपन जीतने वाली चीनी खिलाड़ी लापता: दुनिया चिंतित, फोटो दिखा...

#WhereisPengShuai – विंबलडन, फ्रेंच ओपन जीतने वाली चीनी खिलाड़ी लापता: दुनिया चिंतित, फोटो दिखा चीन निश्चिंत

पूरी दुनिया में बवाल को देखते हुए अब चाइनीज मीडिया का प्रोपेगेंडा तंत्र सामने आया। चीन समर्थित मीडिया ग्लोबल टाइम्स के एडिटर ने दो ट्वीट किए। यह ट्वीट चीनी टेनिस खिलाड़ी पेंग शुआई "ठीक हैं, स्वस्थ हैं" को दिखाने के लिए हैं।

चीनी टेनिस खिलाड़ी पेंग शुआई (Peng Shuai) चीन के पूर्व उपप्रधानमंत्री झांग गाओली पर यौन शोषण का आरोप लगाने के बाद से लापता हैं। उन्होंने चीनी सोशल मीडिया साइट ‘वीबो’ पर लिखा था, ”झांग ने उन पर सेक्स के लिए दबाव बनाया था।” इसके बाद उनके साथ आखिर क्या हुआ और वह इतने समय से कहाँ गायब हैं? इसके बारे में अभी तक कुछ भी पता नहीं चल पाया है। वहीं, संयुक्त राष्ट्र ने चीन सरकार से चीनी खिलाड़ी के सलामत होने के सबूत माँगे हैं।

कौन हैं पेंग शुआई

चीनी टेनिस खिलाड़ी पेंग शुआई का जन्म 8 जनवरी 1986 को जियांगटन, चीन में हुआ था। 35 वर्षीय पेंग शुआई विश्व की नंबर एक डबल्स खिलाड़ी भी रह चुकी हैं। पेंग शुआई ने टेनिस के महिला डबल्स इवेंट में काफी शोहरत हासिल की है। इस दौरान पेंग दो ग्रैंड स्लैम जीतने में सफल रहीं। पेंग तीन बार ओलंपिक में भी भाग ले चुकी हैं।

पेंग शुआई के रिकॉर्ड

पेंग ने 2010 के एशियाई खेलों के फाइनल में अक्गुल अमनमुराडोवा को हराकर स्वर्ण पदक पर कब्जा किया था। अगस्त 2011 में वह सिंगल रैंकिंग के 14 वें स्थान पर पहुँची थीं। पेंग ने दो सिंगल और 22 डबल्स खिताब जीते हैं। इसके अलावा उन्होंने 2013 में विंबलडन और फिर 2014 में फ्रेंच ओपन का खिताब अपने नाम किया था। महिला टेनिस संघ (डब्ल्यूटीए) ने फरवरी 2014 में चीनी टेनिस खिलाड़ी को विश्व नंबर 1 डबल्स का दर्जा दिया था।

क्या है विवाद

रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2 नवंबर को चीनी टेनिस खिलाड़ी ने चीन के पूर्व उपप्रधानमंत्री झांग गाओली पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। उन्होंने चीनी सोशल मीडिया साइट ‘वीबो’ पर लिखा था, ”झांग ने 3 साल पहले उन पर सेक्स के लिए दबाव बनाया था।” पेंग का यह पोस्ट पूरी दुनिया में तेजी से वायरल हो गया। हालाँकि वीबो से कुछ ही देर में इस पोस्ट को हटा दिया गया था। तब तक कई लोंगों ने इस पोस्ट का स्क्रीनशॉट ले लिया था। इसके बाद उनके बारे में भी अभी तक कुछ भी पता नहीं चल पाया है। 

सोशल मीडया पर कैंपेन

पेंग शुआई के गायब होने की खबरों के बाद से सोशल मीडिया पर चीनी सरकार को घेरा जा रहा है और #WhereisPengShuai कैंपेन चलाया जा रहा है। दुनिया के शीर्ष पुरुष टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच, सेरेना विलियम्स, सिमोना हालेप से लेकर दुनिया भर के कई दिग्गज खिलाड़ी उनके लापता होने से आक्रोश में हैं। उन्होंने इस कैंपेन का समर्थन किया है।

वहीं संयुक्त राष्ट्र (UN) और संयुक्त राज्य अमेरिका (US) ने चीन सरकार से चीनी खिलाड़ी के सलामत होने के सबूत सामने रखने के लिए कहा है। बता दें कि चीन में मशहूर लोगों का लापता होना आम बात हो गई है। टेनिस खिलाड़ी पेंग शुआई से पहले दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा समूह के संस्थापक जैक मा के गायब होने की खबरें सामने आई थी।

इतने बवाल को देखते हुए अब चाइनीज मीडिया का प्रोपेगेंडा तंत्र सामने आया है। चीन समर्थित मीडिया ग्लोबल टाइम्स के एडिटर हू जिन (Hu Xijin) ने दो ट्वीट किए। यह ट्वीट चीनी टेनिस खिलाड़ी पेंग शुआई (Peng Shuai) “ठीक हैं, स्वस्थ हैं” को दिखाने के लिए हैं। हालाँकि खुद एडिटर कंफर्म नहीं है बल्कि सूत्रों के हवाले से यह बता रहा है कि फोटो में दिखने वाली पेंग शुआई ही हैं।

अपनी बात को साबित करने के लिए 21 नवंबर की सुबह को एक वीडियो भी पोस्ट किया जाता है। बताया गया कि पेंग शुआई टीनेज टेनिस टूर्नामेंट के फाइनल से पहले ओपनिंग शेरेमनी में पहुँचीं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -