Monday, June 24, 2024
Homeविविध विषयअन्यGoogle ने प्ले स्टोर से 'भारत-विरोधी' ऐप हटाया, पंजाब को 'भारत के क़ब्जे' से...

Google ने प्ले स्टोर से ‘भारत-विरोधी’ ऐप हटाया, पंजाब को ‘भारत के क़ब्जे’ से मुक्त कराने के लिए कर रहा था काम

पंजाब रेफरेंडम 2020 एक अनौपचारिक ऑनलाइन रेफरेंडम है, जो दावा करता है कि यह अभियान पंजाब को मुक्त करने के लिए काम कर रहा है, जो 'वर्तमान में भारत के क़ब्जे' में है।

Google ने अपने Play Store पर मौजूद भारत-विरोधी ऐप ‘2020 Sikh Referendum’ को हटा दिया है। पंजाब सरकार ने इस ऐप को हटाने की माँग की थी। इसके परिणामस्वरूप अब भारत में यूज़र्स के लिए यह उपलब्ध नहीं है।

पंजाब सरकार द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, ऐप ने “आम जनता को RE PUNJAB REFERENDUM 2020 KHALISTAN’ में मतदान करने के लिए ख़ुद को पंजीकृत करने के लिए कहा।”

रिलीज़ में कहा गया है कि आवेदन के विश्लेषण से पता चला है कि ऐप पर पंजीकृत मतदाताओं का डेटा ‘est yestoKhalistan.org’ नामक वेबसाइट के वेब सर्वर पर संग्रहीत किया गया था।

ऐसा माना जाता है कि इस वेबसाइट को एक यूएस-आधारित अलगाववादी समूह ‘Sikhs for Justice’ द्वारा बनाया और प्रबंधित किया गया है। इस समूह को भारत सरकार द्वारा इस साल जुलाई में अलगाववाद के आधार पर प्रतिबंधित कर दिया गया था।

प्रतिबंध के बाद, सिंह ने कहा

“यह ISI समर्थित संगठन के भारत-विरोधी अलगाववादियों से राष्ट्र की रक्षा करने की दिशा में पहला क़दम था”

पंजाब के डिजिटल जाँच, प्रशिक्षण और विश्लेषण केंद्र (DITAC) साइबर लैब ने नवंबर की शुरुआत में भारत में Google की क़ानूनी टीम से इस मुद्दे को उठाया था, क्योंकि उनका मानना ​​था कि ‘Sikhs for Justice’ नामक प्रतिबंधित संगठन द्वारा ग़ैर-क़ानूनी और देश-विरोधी गतिविधियों के लिए इस ऐप का दुरुपयोग किया गया था।

वेबसाइट के अनुसार, पंजाब रेफरेंडम 2020 एक अनौपचारिक ऑनलाइन रेफरेंडम है, जो दावा करता है कि यह अभियान पंजाब को मुक्त करने के लिए काम कर रहा है, जो ‘वर्तमान में भारत के क़ब्जे’ में है।

यह अभियान, SFJ द्वारा आयोजित किया जा रहा था। यह एक ऐसा संगठन है जो 2007 में गठित किया गया था, जो सिखों के लिए एक अलग मातृभूमि चाहता है। SFJ का कहना है कि यह नवंबर 2020 में पंजाब और उत्तरी अमेरिका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, केन्या और मध्य पूर्वी देशों के प्रमुख शहरों में इस तथाकथित रेफरेंडम को आयोजित करने की योजना बना रहा है।

वेबसाइट में कहा गया है कि एक बार जब पंजाबी लोगों के बीच यह सहमति बन जाती है कि उन्हें भारत से आज़ादी चाहिए, तो हम पंजाब को एक राष्ट्र के रूप में स्थापित करने के लक्ष्य के साथ संयुक्त राष्ट्र और अन्य अंतरराष्ट्रीय रूपों और निकायों से भी संपर्क करेंगे।

रेफरेंडम के माध्यम से, यह अभियान पंजाब के लिए स्वतंत्रता के समर्थन में कम से कम 5 मिलियन वोट प्राप्त करना चाहता है, जिसके बाद वह संयुक्त राष्ट्र से सम्पर्क करने की योजना बना रहा है। पंजाब पुलिस का कहना है कि SFJ और रेफरेंडम 2020 दोनों ही पाकिस्तान द्वारा समर्थित हैं।

SFJ का चेहरा गुरपतवंत सिंह पन्नुन नाम का एक शख़् है, जो भारतीय राजनेताओं के ख़िलाफ़ मुक़दमा दायर करने के लिए जाना जाता है। अमेरिका में स्थित पन्नून ने 2002 के गुजरात दंगों और 1984 के सिख विरोधी दंगों के मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पूर्ववर्ती मनमोहन सिंह के ख़िलाफ़ मामले दर्ज किए हैं।

2016 में, अमरिंदर सिंह को SFJ द्वारा दायर एक मामले के कारण कनाडा की यात्रा रद्द करनी पड़ी थी। 2018 में, शिरोमणि अकाली दल अमृतसर (मान) के अध्यक्ष, सिमरनजीत सिंह मान, और सबसे दूर के समूह दल खालसा ने पन्नून को लिखा है कि एक ऑनलाइन रेफरेंडम के लिए SFJ का आह्वान ‘दूर की कौड़ी’ और ‘असाध्य’ था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बोलो मियाँ साहेब ज़िंदाबाद, अल्लाह-हू-अकबर’… बिहार में किशोर को पैर पर थूक कर चाटने को मजबूर किया, छड़ी और थप्पड़ से ताबड़तोड़ पिटाई का...

वीडियो में आरोपित कह रहा है कि 'अल्लाह-हू-अकबर' का नारा लगाने पर ही वो पीड़ित को जाने देगा। बंधक बना कर छड़ी और थप्पड़ से कई बार पीटा।

CM केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं, हाई कोर्ट की रोक रहेगी बरकरार: तिहाड़ में ही रहेंगे AAP मुखिया

सुप्रीम कोर्ट ने CM केजरीवाल को निचली अदालत से मिली जमानत पर सुप्रीम कोर्ट की रोक बरकरार रखी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह इस मामले को अब 26 जून, 2024 को सुनेगा9

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -