Sunday, October 17, 2021
Homeविविध विषयअन्यकोहली बाहर, 6 खिलाड़ी चोटिल... फिर भी ऑस्ट्रेलिया में Aussies को हराया: भारतीय खिलाड़ियों...

कोहली बाहर, 6 खिलाड़ी चोटिल… फिर भी ऑस्ट्रेलिया में Aussies को हराया: भारतीय खिलाड़ियों ने ढाहा गाबा का किला

अंतिम पारी पूरी तरह युवा गिल और पंत के साथ-साथ पुजारा के नाम रही। पंत ने नाबाद 89 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया की ओर से पैट कमिंस की घातक गेंदबाजी को छोड़ कर...

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई भारतीय टीम को बड़ी कामयाबी मिली है। सलामी बल्लेबाज शुभमण गिल भले ही शतक से चूक गए और भारत की नई दीवार कहे जा रहे चेतेश्वर पुजारा ने अपनी करियर का सबसे धीमा अर्धशतक बनाया, लेकिन फिर भी भारत इस मैच को जीतने में कामयाब रहा। अंत में विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत की शानदार बल्लेबाजी देखने को मिली और उनका साथ दिया अपना डेब्यू टेस्ट मैच खेल रहे वाशिंगटन सुंदर ने। इसके साथ ही भारत ने ऑस्ट्रेलिया से ये टेस्ट सीरीज 2-1 से जीत ली।

इस सीरीज में शुभमण गिल ने भी अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच में पहली बार कदम रखा था। जहाँ तक इस मैच की बात है, ऑस्ट्रेलिया ने अपनी पहली पारी में मारनस लाबुशेन की शतक की मदद से 369 रनों का स्कोर खड़ा किया था। नटराजन और शार्दुल ठाकुर ने 3-3 विकेट लिए। भारत ने पहली बारी में शार्दुल और सुंदर के पचासों की मदद से 336 रन बनाए। हेजलवुड ने 5 विकेट लिए। लेकिन, दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया को भारत ने 394 पर समेट दिया।

इसका कारण रही मोहममद सिराज (5 विकेट) और शार्दुल ठाकुर (4 विकेट) की गेंदबाजी। स्टीव स्मिथ ने जरूर 55 रन बना कर ऑस्ट्रेलियाई पारी को सम्भालना चाहा, लेकिन उन्हें भी सिराज ने चलता किया। इस मैच में रोहित शर्मा ने कुछ अच्छे कैच लिए। वहीं बल्लेबाजी में वो खास कमाल नहीं दिखा सके। अंतिम पारी पूरी तरह युवा गिल और पंत के साथ-साथ पुजारा के नाम रही। अंत में भारत जीतने में कामयाब रहा। पंत ने नाबाद 89 रन बनाए।

ये सीरीज जीत तब आई है, जब ऑस्ट्रेलिया में भारत को तमाम मुश्किलों का समाना करना पड़ा। तीसरे टेस्ट मैच से पहले ऑस्ट्रेलियाई प्रशासन ने टीम इंडिया के क्रिकेटरों पर अतिरिक्त प्रतिबंध लगा दिए थे, जिससे वो नाराज़ हो गए थे। ब्रिस्बेन में चौथे और अंतिम टेस्ट मैच से पहले सख्त क्वारंटाइन थोपे जाने से भारतीय क्रिकेटर आक्रोशित थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

चंदन कुमारhttps://hindi.opindia.com/
परफेक्शन को कैसे इम्प्रूव करें :)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe