Friday, April 19, 2024
Homeविविध विषयअन्यकोहली बाहर, 6 खिलाड़ी चोटिल... फिर भी ऑस्ट्रेलिया में Aussies को हराया: भारतीय खिलाड़ियों...

कोहली बाहर, 6 खिलाड़ी चोटिल… फिर भी ऑस्ट्रेलिया में Aussies को हराया: भारतीय खिलाड़ियों ने ढाहा गाबा का किला

अंतिम पारी पूरी तरह युवा गिल और पंत के साथ-साथ पुजारा के नाम रही। पंत ने नाबाद 89 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया की ओर से पैट कमिंस की घातक गेंदबाजी को छोड़ कर...

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई भारतीय टीम को बड़ी कामयाबी मिली है। सलामी बल्लेबाज शुभमण गिल भले ही शतक से चूक गए और भारत की नई दीवार कहे जा रहे चेतेश्वर पुजारा ने अपनी करियर का सबसे धीमा अर्धशतक बनाया, लेकिन फिर भी भारत इस मैच को जीतने में कामयाब रहा। अंत में विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत की शानदार बल्लेबाजी देखने को मिली और उनका साथ दिया अपना डेब्यू टेस्ट मैच खेल रहे वाशिंगटन सुंदर ने। इसके साथ ही भारत ने ऑस्ट्रेलिया से ये टेस्ट सीरीज 2-1 से जीत ली।

इस सीरीज में शुभमण गिल ने भी अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच में पहली बार कदम रखा था। जहाँ तक इस मैच की बात है, ऑस्ट्रेलिया ने अपनी पहली पारी में मारनस लाबुशेन की शतक की मदद से 369 रनों का स्कोर खड़ा किया था। नटराजन और शार्दुल ठाकुर ने 3-3 विकेट लिए। भारत ने पहली बारी में शार्दुल और सुंदर के पचासों की मदद से 336 रन बनाए। हेजलवुड ने 5 विकेट लिए। लेकिन, दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया को भारत ने 394 पर समेट दिया।

इसका कारण रही मोहममद सिराज (5 विकेट) और शार्दुल ठाकुर (4 विकेट) की गेंदबाजी। स्टीव स्मिथ ने जरूर 55 रन बना कर ऑस्ट्रेलियाई पारी को सम्भालना चाहा, लेकिन उन्हें भी सिराज ने चलता किया। इस मैच में रोहित शर्मा ने कुछ अच्छे कैच लिए। वहीं बल्लेबाजी में वो खास कमाल नहीं दिखा सके। अंतिम पारी पूरी तरह युवा गिल और पंत के साथ-साथ पुजारा के नाम रही। अंत में भारत जीतने में कामयाब रहा। पंत ने नाबाद 89 रन बनाए।

ये सीरीज जीत तब आई है, जब ऑस्ट्रेलिया में भारत को तमाम मुश्किलों का समाना करना पड़ा। तीसरे टेस्ट मैच से पहले ऑस्ट्रेलियाई प्रशासन ने टीम इंडिया के क्रिकेटरों पर अतिरिक्त प्रतिबंध लगा दिए थे, जिससे वो नाराज़ हो गए थे। ब्रिस्बेन में चौथे और अंतिम टेस्ट मैच से पहले सख्त क्वारंटाइन थोपे जाने से भारतीय क्रिकेटर आक्रोशित थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

चंदन कुमार
चंदन कुमारhttps://hindi.opindia.com/
परफेक्शन को कैसे इम्प्रूव करें :)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कौन थी वो राष्ट्रभक्त तिकड़ी, जो अंग्रेज कलक्टर ‘पंडित जैक्सन’ का वध कर फाँसी पर झूल गई: नासिक का वो केस, जिसने सावरकर भाइयों...

अनंत लक्ष्मण कन्हेरे, कृष्णाजी गोपाल कर्वे और विनायक नारायण देशपांडे को आज ही की तारीख यानी 19 अप्रैल 1910 को फाँसी पर लटका दिया गया था। इन तीनों ही क्रांतिकारियों की उम्र उस समय 18 से 20 वर्ष के बीच थी।

भारत विरोधी और इस्लामी प्रोपगेंडा से भरी है पाकिस्तानी ‘पत्रकार’ की डॉक्यूमेंट्री… मोहम्मद जुबैर और कॉन्ग्रेसी इकोसिस्टम प्रचार में जुटा

फेसबुक पर शहजाद हमीद अहमद भारतीय क्रिकेट टीम को 'Pussy Cat) कहते हुए देखा जा चुका है, तो साल 2022 में ब्रिटेन के लीचेस्टर में हुए हिंदू विरोधी दंगों को ये इस्लामिक नजरिए से आगे बढ़ाते हुए भी दिख चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe